कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

Ragini Ajay Pathak

Voice of Ragini Ajay Pathak

बहु तुम्हारी याददाश्त को क्या हो गया है…

रश्मि को अपनी कानों पर भरोसा नहीं हो रहा था कि जिस परिवार के लिए वो इतना कुछ करती है। वही परिवार उसके जन्मदिन को लेकर ऐसी सोच रखता है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
बेटी ये लोग नहीं, तुम्हारा भाग्य खराब है…

पैसा होने की वजह से समाज में रूतबा भी ससुराल वालों का बहुत था, लेकिन दरवाजे पर लगे महंगे पर्दे के पीछे की सच्चाई बिलकुल ही उलट थी।

टिप्पणी देखें ( 0 )
ये तुम्हारी इस गृहणी बीवी की बचत है जनाब…

"वाह, क्या बात है मेरे जन्मदिन पर मेरे पैसों से खरीदकर मुझे ही उपहार दिया जाएगा। और एहसान भी कि बचत पर मेरा अधिकार है", रमन ने कहा। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
अब मुझे अपने लिये जीना है ज़माने के लिए नहीं…

आपने मेरे आत्मसम्मान एवं स्वाभिमान को झकझोर कर रख दिया कि आखिर क्यों सह रही हूं मैं? और फिर रश्मि की बातों ने मुझे मजबूत बना दिया।

टिप्पणी देखें ( 0 )
बहु गहने सँभालने की तुम्हारी औकात नहीं…

शादी में कहीं किसी ने गहने चुरा लिये या गुम हो गए तो तुम्हारे घर वालों की भी उतनी हैसियत नहीं जो वापिस वैसे ही गहने दे सकें।

टिप्पणी देखें ( 0 )
मेरी माँ रेड लिपस्टिक लगाना चाहती थी मगर…

कोई कम उम्र की लड़की, बिन ब्याही, या फिर उम्र के 50 वे पायदान पार कर चुकी औरत रेड लिपस्टिक लगाए तो लोग तरह तरह की बातें करते हैं...

टिप्पणी देखें ( 0 )
मैं सिर्फ आपकी पत्नी ही नहीं किसी की बेटी भी हूँ…

क्या पता कल को बेटी का पति या ससुराल वाले कैसे मिलें? तुझे अपनी बेटी का रोना दिख गया लेकिन दूसरी बेटी के रोने पर आंखे मूंद ली?

टिप्पणी देखें ( 0 )
अब तुम में पहले वाली वो बात नहीं रही…

आज रात अनिकेत ने जैसे ही कहा, "तुम अब बूढ़ी हो चुकी हो, अब तुम में पहले वाली बात नहीं", शर्मसार रमा अंदर ही अंदर टूट गयी।

टिप्पणी देखें ( 0 )
अब मैं किसी का झूठा नहीं खाऊँगी…

सही कह रहे हो। गलती मेरी है और मैं ही सुधार करूँगी। क्योंकि उसने वही कहा और किया जो उसने अभी तक देखा और महसूस किया।

टिप्पणी देखें ( 0 )
तुमने बेटी पैदा की थी, कोई बेटा नहीं…

पूरे नौ महीने नेहा से घर के सारे काम कराए गए। ये कहकर की घर के काम करने से सामान्य डिलीवरी होगी वरना आपरेशन करना होगा।

टिप्पणी देखें ( 0 )
अब वो बदल चुकी थी और उसके रिश्तों के मायने भी…

बहु जो होना था हो गया। ये सब तो भगवान की मर्जी होती है। लगता है कि समधन जी के कर्मों की कमाई अच्छी नहीं थी जो पति और बेटा दोनो चले गए।

टिप्पणी देखें ( 0 )
बेशर्म दुल्हन होना मंजूर है लेकिन अपने सम्मान से समझौता करना नहीं…

तेरा दर्द मैं समझ सकती हूं लेकिन तुझे ही गाली देंगे। तेरे ही चरित्र पर उंगलियां उठाई जायेंगी। तू ये केस वापिस ले ले वरना...

टिप्पणी देखें ( 0 )
जिस घर में तुम्हारे जैसा पति हो वहाँ सास की क्या ज़रूरत?

हर रोज नमन ऑफिस जाने से पहले कितनी क्या व्यंजन बनेंगे, नमिता को बता के जाते। इतना ख्याल रखने वाला पति पाकर नमिता बहुत ख़ुश थी। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
रेडीमेड के ज़माने में रसोई की टेंशन क्यों लें…

रवि मुझे समझ नहीं आ रहा कि सब काम का इतना टेंशन क्यों ले रहे हैं? जबकि मिठाई से लेकर सजावट के समान तक सब कुछ बाजार में मिल जाते हैं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
बड़े तोहफों से रिश्तों को छोटा नहीं करते…

उनके जाने के बाद निशा ने कहा, "माँ क्या जरूरत थी उनको मिठाई और चांदी के सिक्के देने की? वो कौन सा उपहार लेकर आये थे।"

टिप्पणी देखें ( 0 )
और मैं एक सीधी सास की सीधी बहु नहीं हूँ…

अरे! बहु तुम्हे क्या पता सास क्या होती है। वो तो तुम्हारी किस्मत अच्छी है जो मुझ जैसी सीधी सास मिली वरना तो लोग बहु के...

टिप्पणी देखें ( 0 )
अपनों के बीच गलतफहमी होने से रिश्ते खत्म नहीं करते…

माँ सच कहती थी कि मायका सिर्फ माँ से नहीं होता। रिश्ते को अगर प्यार से निभाया जाए तो भाई भाभी से भी मायका होता है। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
अब बस! पहले अपने बेटों को औरतों की इज्ज़त करना सिखाइये…

अब बस हमे अपनी बेटियों को इतना मजबूत बनाना चाहिए कि ऐसे लोगों का डट के सामना कर सके और निसंकोच अपने परिवार को बता सके...

टिप्पणी देखें ( 0 )
बुजुर्गों का जन्मदिन नहीं मानते हम तो…

मामा और दादी का जन्मदिन तो एक ही तारीख और महीने में पड़ता है। और हम यहाँ आ जाते है, दादी का जन्मदिन नहीं मनाते।

टिप्पणी देखें ( 0 )
तलाक के बाद औरत के चरित्र पर सवाल क्यों उठाते हैं लोग?

इन बातों का असर कहीं ना कहीं सरिता के दिमाग पर भी था। शादी कर के ससुराल आयी, तो अंकिता को देखते उसकी हँसी ही गायब हो जाती।

टिप्पणी देखें ( 0 )

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020