कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

Ragini Ajay Pathak

Voice of Ragini Ajay Pathak

मुझे अपनी तीसरी बेटी होने का दुःख है…

साक्षी के मन मे तीसरी बेटी को लेकर इतनी कड़वाहट है, ये किसी को समझ नहीं आ रहा था। कोई कहता कि ससुराल वाले या पति किसी ने कुछ कहा होगा।

टिप्पणी देखें ( 0 )
मैं अपना और अपने बच्चे का ख्याल रखना अच्छे से जानती हूँ…

आजकल की बहुओं के मजे हैं! ऑपरेशन से बच्चा पैदा करो, दिन भर बच्चे को डायपर में रखो, और खुद हीरोइन बने थोड़ा सा काम करते घर में घूमते रहो...

टिप्पणी देखें ( 0 )
बेटा बुढ़ापे में खर्च करने की चीज़ नहीं है…

"देखो रमन मुझे तीसरा बच्चा लड़का ही चाहिए, इसके लिए मैंने सब कुछ पता कर लिया। इस बार चेक कराकर ही तीसरे बच्चें को जन्म दूँगी।"

टिप्पणी देखें ( 0 )
मैं तुम सब के लिए पूरी उम्र ये झूठ बोलने को तैयार हूँ…

रमन ने लड़खड़ाती जुबान में डरते हुए कहा, “माँ, आप यहाँ? क्या हुआ? अंदर आइये ना, आप दरवाजे पर क्यों खड़ी हैं?”

टिप्पणी देखें ( 0 )
इस शादी से मेरी नहीं, आपकी ज़रुरत पूरी होगी…

"जो महिलाएं और लड़कियां मर्यादा में रहना नहीं जानती उनके साथ यही सब होता है। वो तो तेरे बाप पे तरस खा के हम तैयार हो गए थे शादी के लिए।"

टिप्पणी देखें ( 0 )
समय के साथ रीति-रिवाज़ बदलने ज़रूरी हैं…

उनको ऐसे कमरे में बंद देखकर मेरा मन भी दुःखी होता। लेकिन पतिदेव अमर की ज़िद थी कि मेरी पहली होली ससुराल में ही होगी। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
समय से पहले पैदा हुए प्रीमैच्योर बच्चे की घर पर देखभाल कैसे करें?

समय से पहले पैदा हुए यानि प्रीमैच्योर बच्चे के जन्म के समय से ही माँ और बच्चे दोनों को शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक सहयोग ज़रूरी है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
एक्टोपिक प्रेगनेंसी के लक्षण क्या हैं और ये क्यों होती है?

एक्टोपिक प्रेगनेंसी या अस्थानिक गर्भावस्था के लक्षण क्या हैं और ये क्यों होती है? यहां है कुछ सामान्य जानकारी जिसे मैंने समझने की कोशिश की। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
प्रेगनेंसी में क्या खाना चाहिए : अपनी डाइट लिस्ट में शामिल करें ये चीज़ें

लोग कहते हैं कि गर्भवती महिला को दो लोगों के लिए खाना चाहिए, लेकिन ये बात सही नहीं है, तो जानते हैं प्रेगनेंसी में क्या खाना चाहिए। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
विक्टिम ब्लेमिंग : सर्वाइवर सवालों के कटघरे में हाज़िर हो…

सबसे पहले सर्वाइवर सवालों के कटघरे में हाज़िर हो...और शुरू होता है हमारे समाज का विक्टिम ब्लेमिंग का खेल जिसमें परिवार वाले भी शामिल हैं...

टिप्पणी देखें ( 0 )
मेरे को प्रेगनेंसी में कौन सी सब्जी नहीं खानी चाहिए? और क्या-क्या ना खाएं?

प्रेगनेंसी में कौन सी सब्जी नहीं खानी चाहिए? सिर्फ सब्ज़ी ही नहीं, ऐसी कई चीज़ें हैं जो प्रेगनेंसी में नहीं खानी चाहियें। यहाँ है एक लिस्ट। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
तुम्हारी भाभी तुम्हारे हर फ़ैसले में तुम्हारा साथ देगी…

वाह मां क्या बात कही आपने क्या सिर्फ भाई और आप ही अच्छे हैं बाकी दुनिया में जो भी लव मैरिज करे वो सब बेकार और खराब ही है?

टिप्पणी देखें ( 0 )
बहु के घरवालों को अच्छे लेन-देन की समझ नहीं है…

"क्यों आंगन में तुम्हें खिचड़ी खाते समय तुम्हारे ससुराल वालों ने तुम्हें नेग नहीं दिए? वैसे भी इतना बड़ा संयुक्त परिवार है भाभी का।"

टिप्पणी देखें ( 0 )
माँजी, आपके बेटे आपकी बहुओं के लायक नहीं हैं…

"बहुएं इतनी बुरी होती हैं तो बेटों की शादी क्यों करते हैं आप? वो भी झूठ बोलकर लड़कियों के परिवार वालों से, नालायक बेटों को लायक बता कर?"

टिप्पणी देखें ( 0 )
भाभी, आप रात को ऑनलाइन क्या कर रहीं थीं?

मैं सोचने लगी कि अब तक तो मुझ पर निगरानी रखी जाती थी अब आज ये बात भी पता चली कि ऑनलाइन  निगरानी भी मेरी रखी जाती है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
मैं एक कड़क सास बनने की कोशिश कर रही हूँ…

"अरे गरिमा तेरी मत मारी गयी है? कितना समझाया था क्यों 'बूढ़ी घोड़ी लाल लगाम बन रही है?' अपना मजाक खुद क्यों बना रही है? मेरी बात मान।"

टिप्पणी देखें ( 0 )
थोड़े संस्कार आप अपने लिए भी तो बचा कर रखें…

उम्र चाहे मेरी कुछ भी, बचपन का या पचप्पन का, शर्म का घूँघट मैं ही रख लेती हूँ, क्योंकि जनाब नारी हुँ मैं? सिर्फ इसलिए कि नारी हूँ मैं...

टिप्पणी देखें ( 0 )
पापा, मेरी इस हालत के ज़िम्मेदार आप भी हैं…

10 लाख नकद, कार, घर गृहस्थी का सारा सामान, महंगे से महंगे ब्रांडेड कपड़े, सोने-चांदी के जेवर, कुल मिलाकर कम से कम 30 लाख से ज्यादा... 

टिप्पणी देखें ( 0 )
मेरे बेटे नहीं तेरी बेटियां वंश का नाम रोशन करेंगी…

लेकिन इन सब के बीच एक बात जो दिनेश देखते रह जाते की राजीव की दोनो बेटियो में पूरा घर सम्भाल रखा था और साये की तरह राजीव के साथ लगी रहतीं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
मैं भी मिली हूँ महिलाओं पर ‘गलत’ कमेंट करने वाले कुछ ‘शरीफ’ लोगों से…

घर हो या बाहर, ज़्यादातर पुरुषों को एक आत्मनिर्भर और उनके बराबर या उनसे बेहतर काम कर दिखाने वाली महिला आंखों में चुभती है...

टिप्पणी देखें ( 0 )
तुम्हारा ‘बुरा न मानो होली है’ अच्छे से समझती हूँ मैं…

बुरा न मानो होली है? अगर किसी महिला ने जबर्दस्ती रंग लगाने का विरोध किया तो घमंडी, बदतमीज और ना जाने क्या क्या कहा जाता है उसे। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
आजकल कुंवारी लड़कियां मिलती ही कहाँ हैं?

रमन के तरह-तरह के विचित्र सवालों के बाद रमन ने संध्या से बड़ा ही विचित्र सवाल पूछा, "अच्छा, आप कुंवारी हैं कि नहीं?"

टिप्पणी देखें ( 0 )
हमारे घर में औरतें सिर्फ साड़ी या सूट पहनती हैं फिर भी मेरे पति के संस्कार अच्छे नहीं हैं…

पुरुष जहां खुलेआम माँ बहनों की गालियां देते हैं, तो क्या ऐसे घरों की सभी महिलाएं फटी जीन्स या शॉर्ट में ही होती हैं? जवाब है नहीं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
बहु, अब तुम सिर्फ आराम करो…

"आ गयी महारानी? ये भी नहीं सोचा कि बताकर जाएं। सारा काम घर में पड़ा हुआ है। मैं घर के कामों की वजह से आज सरला बहन के पास भी नहीं जा पायी।"

टिप्पणी देखें ( 0 )
मेरे ससुराल की सब रस्में मैगी खा कर पूरी हो गयीं…

बुआ सास ने कहा, "जब सास ही रस्म रिवाज नहीं निभाएगी, तो बहु क्या खाक रीति-रिवाजों को मानेगी? वो तो आज के जमाने की लड़की ठहरी।"

टिप्पणी देखें ( 0 )
क्या कोरोना वैक्सीन लगाने से मुझे कोई रिएक्शन होगा? आपके सवाल और उनके जवाब

कोरोना वैक्सीन टीकाकरण के इस चरण में हमारे माता-पिता और ऐसे लोग हैं जिन्हें गंभीर बीमारी है, तो ऐसे में प्रश्नों की बौछार संभाविक है।  

टिप्पणी देखें ( 0 )
तुम्हारे गुस्से का कारण मैं नहीं तुम खुद हो…

"अरे यार हो जाता है गुस्से में। लेकिन मैं तुमसे प्यार भी तो करता हूं तुम तो जानती हो कि मैं गुस्से पर कंट्रोल नहीं कर पाता।"

टिप्पणी देखें ( 0 )
मैं आपके बेटे की विधवा होने से इंकार करती हूँ…

"अरे, ये क्या बोल रही हो बहू? अमर ने तो तुम को हमेशा प्यार किया, तुम माँ नहीं बन सकती थी तो बच्चा गोद लेकर तुम्हें माँ बनने का सुख दिया।"

टिप्पणी देखें ( 0 )
अब आपकी ये नालायक़ बहु चुप नहीं बैठेगी…

क्या जो तुमने पहले किया वो शादी के बाद भी कर रही हो? नहीं ना? तो जाकर चुपचाप नॉन-वेज बनाओ और नहीं बनाना तो अपने बाप के घर चली जाओ।

टिप्पणी देखें ( 0 )
माँ आप बहू के संस्कारों की लिस्ट तो देना भूल गयीं…

बंद कीजिए तमाशा और जल्दी विदाई कीजिये, और पाण्डे जी आप क्या औरतों की तरह रो रहे हैं, आप अनोखे पिता थोड़ी ना है जो बेटी विदा कर रहे हैं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
मर्द बनाने की बजाय आप अपने बेटे को औरत की इज्ज़त करना सिखाते तो अच्छा होता…

आपने अपनी बेटी को तमीज ही नहीं सिखाई, ले जाइए अपनी बेटी। हमें ऐसी बहु नहीं चाहिये जो अपने पति को मारती हो।

टिप्पणी देखें ( 0 )
क्या दहेज़ जोड़ना मेरी ख़ुशियों से ज़्यादा ज़रूरी था?

चुपचाप पथरायी आंखों से आईने की तरफ निहारती खुशी ने सिर्फ इतना कहा, "पापा मैं आप सब के लिए हमेशा परायी से ही तो थी।"

टिप्पणी देखें ( 0 )
काश मैंने आपकी ये बात पहले समझ ली होती…

रश्मि चाची सास की बातों से बहुत आहत होती। ऐसा नहीं था कि वो जवाब नहीं दे सकती थी, लेकिन उसके संस्कार उसे बड़े का अपमान करने से रोक लेते।

टिप्पणी देखें ( 0 )
मेरे पति ने मुझे घर से निकाल दिया लेकिन…

हमने सोचा माँ-बाप की इकलौती बेटी है, इतना बड़ा बिजनेस है, तो हमे ही मिलेगा। लेक़िन यहाँ तो बाप बेटी को कंगाल कर के गया।

टिप्पणी देखें ( 0 )
अब तू अपनी सास की झूठी तारीफ करनी बंद कर…

तू झूठी तारीफ करना बंद कर, आज तक जब भी मैं तेरे घर आई हूं, तुझे ही काम करते देखा है। वो लोग तो सिर्फ बैठ के गप्पें ही मारती मिलीं मुझे। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
बहु तुम्हारी याददाश्त को क्या हो गया है…

रश्मि को अपनी कानों पर भरोसा नहीं हो रहा था कि जिस परिवार के लिए वो इतना कुछ करती है। वही परिवार उसके जन्मदिन को लेकर ऐसी सोच रखता है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
बेटी ये लोग नहीं, तुम्हारा भाग्य खराब है…

पैसा होने की वजह से समाज में रूतबा भी ससुराल वालों का बहुत था, लेकिन दरवाजे पर लगे महंगे पर्दे के पीछे की सच्चाई बिलकुल ही उलट थी।

टिप्पणी देखें ( 0 )
ये तुम्हारी इस गृहणी बीवी की बचत है जनाब…

"वाह, क्या बात है मेरे जन्मदिन पर मेरे पैसों से खरीदकर मुझे ही उपहार दिया जाएगा। और एहसान भी कि बचत पर मेरा अधिकार है", रमन ने कहा। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
अब मुझे अपने लिये जीना है ज़माने के लिए नहीं…

आपने मेरे आत्मसम्मान एवं स्वाभिमान को झकझोर कर रख दिया कि आखिर क्यों सह रही हूं मैं? और फिर रश्मि की बातों ने मुझे मजबूत बना दिया।

टिप्पणी देखें ( 0 )
बहु गहने सँभालने की तुम्हारी औकात नहीं…

शादी में कहीं किसी ने गहने चुरा लिये या गुम हो गए तो तुम्हारे घर वालों की भी उतनी हैसियत नहीं जो वापिस वैसे ही गहने दे सकें।

टिप्पणी देखें ( 0 )
मेरी माँ रेड लिपस्टिक लगाना चाहती थी मगर…

कोई कम उम्र की लड़की, बिन ब्याही, या फिर उम्र के 50 वे पायदान पार कर चुकी औरत रेड लिपस्टिक लगाए तो लोग तरह तरह की बातें करते हैं...

टिप्पणी देखें ( 0 )
मैं सिर्फ आपकी पत्नी ही नहीं किसी की बेटी भी हूँ…

क्या पता कल को बेटी का पति या ससुराल वाले कैसे मिलें? तुझे अपनी बेटी का रोना दिख गया लेकिन दूसरी बेटी के रोने पर आंखे मूंद ली?

टिप्पणी देखें ( 0 )
अब तुम में पहले वाली वो बात नहीं रही…

आज रात अनिकेत ने जैसे ही कहा, "तुम अब बूढ़ी हो चुकी हो, अब तुम में पहले वाली बात नहीं", शर्मसार रमा अंदर ही अंदर टूट गयी।

टिप्पणी देखें ( 0 )
अब मैं किसी का जूठा नहीं खाऊँगी…

सही कह रहे हो। गलती मेरी है और मैं ही सुधार करूँगी। क्योंकि उसने वही कहा और किया जो उसने अभी तक देखा और महसूस किया।

टिप्पणी देखें ( 0 )
तुमने बेटी पैदा की थी, कोई बेटा नहीं…

पूरे नौ महीने नेहा से घर के सारे काम कराए गए। ये कहकर की घर के काम करने से सामान्य डिलीवरी होगी वरना आपरेशन करना होगा।

टिप्पणी देखें ( 0 )
अब वो बदल चुकी थी और उसके रिश्तों के मायने भी…

बहु जो होना था हो गया। ये सब तो भगवान की मर्जी होती है। लगता है कि समधन जी के कर्मों की कमाई अच्छी नहीं थी जो पति और बेटा दोनो चले गए।

टिप्पणी देखें ( 0 )
बेशर्म दुल्हन होना मंजूर है लेकिन अपने सम्मान से समझौता करना नहीं…

तेरा दर्द मैं समझ सकती हूं लेकिन तुझे ही गाली देंगे। तेरे ही चरित्र पर उंगलियां उठाई जायेंगी। तू ये केस वापिस ले ले वरना...

टिप्पणी देखें ( 0 )
जिस घर में तुम्हारे जैसा पति हो वहाँ सास की क्या ज़रूरत?

हर रोज नमन ऑफिस जाने से पहले कितनी क्या व्यंजन बनेंगे, नमिता को बता के जाते। इतना ख्याल रखने वाला पति पाकर नमिता बहुत ख़ुश थी। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
रेडीमेड के ज़माने में रसोई की टेंशन क्यों लें…

रवि मुझे समझ नहीं आ रहा कि सब काम का इतना टेंशन क्यों ले रहे हैं? जबकि मिठाई से लेकर सजावट के समान तक सब कुछ बाजार में मिल जाते हैं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
बड़े तोहफों से रिश्तों को छोटा नहीं करते…

उनके जाने के बाद निशा ने कहा, "माँ क्या जरूरत थी उनको मिठाई और चांदी के सिक्के देने की? वो कौन सा उपहार लेकर आये थे।"

टिप्पणी देखें ( 0 )
और मैं एक सीधी सास की सीधी बहु नहीं हूँ…

अरे! बहु तुम्हे क्या पता सास क्या होती है। वो तो तुम्हारी किस्मत अच्छी है जो मुझ जैसी सीधी सास मिली वरना तो लोग बहु के...

टिप्पणी देखें ( 0 )
अपनों के बीच गलतफहमी होने से रिश्ते खत्म नहीं करते…

माँ सच कहती थी कि मायका सिर्फ माँ से नहीं होता। रिश्ते को अगर प्यार से निभाया जाए तो भाई भाभी से भी मायका होता है। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
अब बस! पहले अपने बेटों को औरतों की इज्ज़त करना सिखाइये…

अब बस हमे अपनी बेटियों को इतना मजबूत बनाना चाहिए कि ऐसे लोगों का डट के सामना कर सके और निसंकोच अपने परिवार को बता सके...

टिप्पणी देखें ( 0 )
बुजुर्गों का जन्मदिन नहीं मानते हम तो…

मामा और दादी का जन्मदिन तो एक ही तारीख और महीने में पड़ता है। और हम यहाँ आ जाते है, दादी का जन्मदिन नहीं मनाते।

टिप्पणी देखें ( 0 )
उनकी बेटी का तालक़ हुआ है इसलिए हम वहाँ रिश्ता नहीं करेंगे…

इन बातों का असर कहीं ना कहीं सरिता के दिमाग पर भी था। शादी कर के ससुराल आयी, तो अंकिता को देखते उसकी हँसी ही गायब हो जाती।

टिप्पणी देखें ( 0 )

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020