परवरिश
आधुनिक भारतीय माँ के दृष्टिकोण से बच्चों के पालन-पोषण के बारे में
गर्मी की छुट्टियों में अपने बच्चों को देख लेने दो खुला आसमान

अपने बच्‍चों को उनके अरमानों को पूरा करने का एक मौका अवश्‍य दीजिए, तभी वे आत्‍म-निर्भर बनकर जिंदगी की परीक्षा में पूर्ण रूप से पास हो सकेंगे।

टिप्पणी देखें ( 0 )
5 बातें जो मैं अपनी माँ से नहीं सीखना चाहती!

मैंने कुछ बातों पर गौर किया और बदलते वक्त का तक़ाज़ा कहता है, जो बातें हमें हमारी मां ने सिखाईं, वो हमारे बच्चों को, सिखाना पर्याप्त नहीं होगा।

टिप्पणी देखें ( 0 )
आत्मा के प्रचारक हमारे नन्हे बच्चे-हम इनके ऋणी हैं

जिस लम्हे में हमारे बच्चे हमारे जीवन में आते हैं, उसी पल से वह हमारे जीवन का महत्वपूर्ण अंग बन जाते हैं। उनके जन्म लेते ही हमारी सोच में और कर्मों में अंतर आने लगता है।

टिप्पणी देखें ( 1 )

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?