कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

कला और संस्कृति
अन्नप्राशन, विदाई और पुलाव-खीर तक, चावल से मेरा अक्षत रिश्ता!

किसी भी पूजा अर्चना में अक्षत यानि चावल चढ़ाकर भगवान से प्रार्थना की जाती है कि हमारे सभी कार्यों की पूर्णता चावल की तरह हो।

टिप्पणी देखें ( 0 )
हिंदी भाषा के सांस्कृतिक समाजीकरण में महिलाओं की आज भी बहुत बड़ी भूमिका है!

हमें हिंदी को दूसरी भाषा से कमतर नहीं बनाना है न ही दूसरी भाषा को हिंदी के सामने कमतर बनाना है, दोनों ही भाषाओं की पहचान और इज़्ज़त बनाये रखनी है। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
क्या तुम गणेश चतुर्थी और उसके विसर्जन की कहानी को जानती हो?

गणेश चतुर्थी ब्राह्मणों और गैर ब्राह्मणों के बीच संघर्ष हटाने के साथ ही लोगों के बीच एकता लाने के लिए एक राष्ट्रीय पर्व के रूप में मनाना आरंभ किया गया था।

टिप्पणी देखें ( 0 )
मैं तिरंगा, केवल लाल किले से ही नहीं बोलता हूं!

किसी कालेज के फ्रीडम फैस्ट में आज़ादी मांगती, अल्हड़ युवती के गालों पर सजे तिरंगे की टैटू बन उसके दिल में बहते देशभक्ति के झोंके से भी बोलता हूं!

टिप्पणी देखें ( 0 )
आइये आज बात करें साड़ी के बारे में : 7 साड़ी के प्रकार और उससे जुड़ा इतिहास!

7 अगस्त राष्ट्रीय हथकरघा दिवस है और आज के दिन हम बात करते हैं हथकरघा कला से बनी भारतीय पारंपरिक साड़ी के बारे में और उससे जुड़े इतिहास की! 

टिप्पणी देखें ( 0 )
आज से पुरुषों के साथ-साथ, औरतों की भी लम्बी आयु की प्रार्थना करते हैं हम!

सच मानिए, पुरुषों को अपनी स्वयं की दैनिक दिनचर्या तक चलाने के लिए स्त्रियों की आवश्यक्ता पड़ती है, तो उनकी सलामती की प्रार्थना करना भी तो बनता है न!

टिप्पणी देखें ( 0 )
topic
art-culture
और पढ़ें !

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020