कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

LGBTQ
कोरोना लॉकडाउन में ट्रांसजेंडर्स – क्या है इनकी सबसे बड़ी समस्या और क्या है इसका हल?

Covid - 19 की महामारी और लॉकडाउन के समय कई ट्रांसजेंडर्स की हालत और बदतर हो गयी है और इनके कमाई के सारे रास्ते बंद हो गए हैं। 

टिप्पणी देखें ( 2 )
क्यों 2019 का ट्रांसजेंडर अधिकार संरक्षण बिल मृत्यु का दस्तावेज है?

ये बिल केवल एक कोरा काला कागज़ है। ये ट्रांस लोगों की जिंदगी को बदलने के लिए नहीं बल्कि उसे अधिक पीड़ादायक बनाने के लिए लाया गया है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
समलैंगिता! भारत में काग़ज़ों तक ही सीमित है, सोच में नहीं…

हमको कई प्रकार के मौलिक अधिकार प्राप्त हैं, इनमें से एक है समानता का अधिकार, मुझे इस समानता का अर्थ तो बखूबी पता है, मगर मैं इसको कहाँ ढूँढूँ?

टिप्पणी देखें ( 1 )
क्या हमारी पहचान हमारे नाम या जेंडर तक ही सीमित रहनी चाहिए?

बहुत से लोग अब अपने आप को नॉन बाइनरी के रूप में चिन्हित करना ज्यादा उचित समझते हैं, वे कहते हैं कि उनकी पहचान सिर्फ़ उनके शारीरिक अंगों से नहीं हो सकती।

टिप्पणी देखें ( 0 )
वाराणसी में एक लेस्बियन जोड़े ने मंदिर में शादी करके बता दिया कि ‘लव इज़ लव’

वाराणसी में दो लड़कियों ने अपने में एक क्रन्तिकारी कदम उठाते हुए एक दुसरे से की शादी और बता दिया कि प्यार का कोई जेंडर नहीं होता।

टिप्पणी देखें ( 0 )
धारा 377: इस बदलाव को स्वीकारना होगा

धारा 377- जिस समाज में लोग आज भी इस विषय पर बात करने से हिचकिचाते हैं, क्या इसे वहाँ सामाजिक स्वीकृति मिलेगी? मन में उठते हैं ऐसे कई सवाल। 

टिप्पणी देखें ( 0 )

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?