कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

Ekta Rishabh

एक कोशिश अपने विचारों को पंख देने की...... !

Voice of Ekta Rishabh

देवर जी, आप तो छुपे रुस्तम निकले…

मम्मीजी जी ने ये कह फ़ोन रख दिया कि देखना कोई कमी ना रह जाये, लेकिन ये पूछना तो भूल ही गईं कि "तुम्हें आटे का हलवा तो बनाने आता है ना?"

टिप्पणी देखें ( 0 )
लेकिन माँ, तोहफ़े तो मायके से आते हैं ससुराल से नहीं…

"ये कौन सी नई रीत शुरू कर रही है बहु? तोहफ़े तो बहुओं के मायके से आते हैं, ना कि ससुराल से भेजे जाते हैं", बहू ऐसा कहती थीं मेरी सासु माँ...

टिप्पणी देखें ( 0 )
यामी गौतम ने खुल कर बात की अपनी स्किन कंडीशन की: क्या है केराटोसिस पिलारिस?

यामी गौतम कहती हैं उन्हें केराटोसिस पिलारिस है! क्या है केराटोसिस पिलारिस? इसके लक्षण क्या हैं? ये किन्हें हो सकता है? इसका इलाज क्या है?

टिप्पणी देखें ( 0 )
दो साल बाद जायरा वसीम एक बार फिर सुर्खियों में!

जायरा वसीम की ये फोटो सोशल मीडिया पे आते ही छा गई और कुछ ही देर में इस फोटो पे जम के लाइक्स और कमैंट्स फैंस द्वारा कर दिये गए। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
मैं रचाऊँगी अपनी भाभी के हाथों में मेहंदी…

जिद्दी रमा ने किसी की कभी सुनी थी? चट रत्ना का हाथ पकड़ सुन्दर बेल-बूटे सजा दिये। मेहंदी का रंग भी ऐसा कि पल भर में चटक लाल हो आया। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
आखिर कब तक! फैसला तो आपको लेना ही होगा…

"नहीं प्रिया, ये घर मेरे बाबूजी का है। मेरा बचपन बीता है यहाँ। अपनी माँ को तो देखा नहीं लेकिन उनकी मौजूदगी का एहसास होता है इस घर में।"

टिप्पणी देखें ( 0 )
मेरी बेटी दूसरों की उम्मीदों का बोझ नहीं उठायेगी…

श्रुति को बस अपनी गुड़िया से खेलना था और पहले से ही थकी और चिढ़ी मानसी ने एक पल को अपना आपा खो दिया एक तेज़ थप्पड़ श्रुति के चेहरे पे जड़ दिया। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
माँ, प्यार उतना ही करें जितना ज़रुरी हो…

"कहाँ चल दी बहू? इतनी जल्दी रसोई बन गई क्या?" रेखा को छत की ओर जाते देख सासूमाँ ने पूछा तो रेखा ठिठक गई। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
सर्वाइकल कैंसर की पहचान के 5 लक्षण, इसका कारण और इलाज

क्या है सर्वाइकल कैंसर? इसके कुछ प्रमुख कारण क्या हैं? सर्वाइकल कैंसर की पहचान कैसे करें और क्या है इसका उपचार? क्या ये ठीक हो जाता है?

टिप्पणी देखें ( 0 )
काश! आप मुझे माफ़ कर पाते…

राधा भी अपने पति की परछाई थी, जिसने कभी अपने और देवरानी के बच्चों में कोई फ़र्क नहीं किया। खुद के पति के कमाई पे कभी अधिकार नहीं जताया। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
मेरी बेटी बिलकुल अपनी माँ जैसी बनेगी…

पिता और माँ की दोहरी भूमिका थी सुनील की। अब तो स्कूल के व्हाट्सप्प ग्रुप में सारी माँओं के साथ वो भी शामिल था। शुरू में सब थोड़ा अजीब था...

टिप्पणी देखें ( 0 )
मैंने भी वही किया जो पापा करते हैं…

आज अपनी पत्नी की एक-एक चेतावनी उनके कानो में गूंज रही थी। लेन देन का गणित आज रमेश बाबू को बेहद भारी पड़ा था।

टिप्पणी देखें ( 0 )
इस घर पर सिर्फ हमारी बहू का हक़ है…

शर्मा परिवार एक दूसरे को हौसला देते रवि के जाने के ग़म को सह ही रहे थे कि एक सुबह दोनों बेटे परिवार सहित आ पहुँचे। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
बेटा, मैं अपनी इज़्ज़त के साथ कोई समझौता नहीं करुँगी…

ये क्या थर्ड क्लास गद्दे बिछा रखे हैं तुम्हारी माँ ने जतिन? बेबी को रैशेस आ जायेंगे। हटाओ इसे और नया सेट जो मैंने मंगवाया था वो बिछा दो।

टिप्पणी देखें ( 0 )
मैं और मेरी माँ की स्पेशल बनारसी साड़ी…

आज माँ की ये बनारसी साड़ी मेरे लिये सिर्फ एक साड़ी नहीं रह गई थी, आज ये साड़ी मेरी माँ का आशीर्वाद और मेरे मायके का मान बन चुकी थी। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
घर के हिस्से हो जाएंगे, लेकिन माँ का क्या करोगे…

"सुन लो तुम सब अपने-अपने कान खोल के! जब तक मैं ज़िंदा हूँ, इस घर का बंटवारा नहीं होने दूँगी। इतने ही बड़े हो गए हो तो अपना-अपना घर बनाओ।"

टिप्पणी देखें ( 0 )
मेरे लिए मेरी बहू परफेक्ट है…

जब ऋतू ने पूछा तो निशा जी ने मुस्कुरा कर कहा, "पृथा को कुछ काम था ऑफिस का तो अपने कमरे में है, अभी आती ही होगी।" 

टिप्पणी देखें ( 0 )
अब तुम्हारा ख्याल रखने की बारी हमारी है…

"पापा, अभी तक मम्मी नहीं उठी, क्या आज भी तबियत ठीक नहीं?" सोहम ने पापा को रसोई में देख पूछा और बिना ज़वाब सुने माँ के पास चला गया। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
एक कप बेड टी के लिए झूठ बोलना पाप नहीं…

ठण्ड में सुबह उठने का मन ही नहीं होता और स्नेहा की चाय पिये बिना आंख नहीं खुलती, लेकिन नयी बहु थी तो सास को नाराज़ भी नहीं कर सकती थी...

टिप्पणी देखें ( 0 )
बालिका वधू सीजन 2 में जन्म लिया है एक नई आनंदी ने

बालिका वधू सीजन 2 का प्रोमो कलर्स टीवी ने जारी किया और टीजर के कैप्शन में लिखा है, "बाल विवाह वो कुप्रथा है जो आज भी समाज में कायम है..."

टिप्पणी देखें ( 0 )
मुझे दिखावे वाला आराम नहीं चाहिए…

अपनी माँ को हमेशा अभाव में देखा था अवि ने इसलिए नौकरी मिलते ही इ.एम.आई ले कर घर में सुख सुविधा की चीज़ें जुटाने लगा। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
सासू माँ का डर या माँ का प्यार…

"नहीं नहीं भाभी आप सूरज भाईसाहब को कुछ मत बताना बस आप जल्दी से आओ", कह सिया ने फ़ोन रख दिया और निशा परेशान हो उठी। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
अपने बेटे को सिर्फ कपड़ों से नहीं विचारों से भी आधुनिक बनाएं…

"ससुराल वालों और पति के तानों को सुन कर कब तक रहोगी? आधुनिक सिर्फ कपड़ों और रहन सहन से नहीं, आधुनिक विचारों से भी होना चाहिये..."

टिप्पणी देखें ( 0 )
जिसके कपड़े ऐसे हैं उसके लक्षण कैसे होंगे…

लेकिन अफ़सोस चंद्रा जी की परिस्थिति जाने बिना उनपे ऊँगली उठा दी थी बिल्डिंग की महिलाओं ने, वो भी सिर्फ उनके कपड़े देख।

टिप्पणी देखें ( 0 )
लिव इन रिलेशन में महिलाओं और बच्चों के अधिकार क्या हैं?

लिव इन रिलेशन जितना रोमांचक लगता है कभी कभी उतना ही जटिल भी हो जाता है, ख़ास कर महिलाओं और इसमें जन्म लेने वाले बच्चों के लिये।

टिप्पणी देखें ( 0 )
हो सके तो माफ़ी मुझसे नहीं अपनी माँ से मांगिए…

इकलौते बेटे से इतना बड़ा धोखा खा माँजी खुद को संभाल ना सकी और वही संध्या जैसी बहु की हालत की जिम्मेदार खुद को मानती।

टिप्पणी देखें ( 0 )
सिर्फ शरीर ही नहीं दिल के रिश्ते का भी नाम होता है माँ…

संघर्ष और किरण तो हमजोली ही थे तो कैसे छोड़ देता संघर्ष गौरी का साथ? कुछ ईर्ष्या करने वालों ने कर दी ख़बर पुलिस में। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
बहु की डिलीवरी तो नार्मल ही होगी…

“थोड़े दिन रहने देता, दिव्या कमजोर है अभी?” धीमे स्वर में शीला जी ने कहा तो कमल का धैर्य जवाब दे गया। आगे उसने जो कहा उसकी उम्मीद नहीं थी। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
माँजी, काश आप मेरे बेटे को इतना न बिगाड़तीं…

“जाने दो ना बहु, पढ़ लेगा बाद में और अगर तीन घंटे दोस्तों के साथ घूम लेगा तो क्या बिगड़ जायेगा? जब देखो मेरे पोते के पीछे पड़ी रहती हो?” 

टिप्पणी देखें ( 0 )
उसकी आँखें नम थीं और चेहरा सुर्ख लाल…

शीशे के सामने खड़ी रेखा सीधे हाथ से सिंदूर लगाने की कोशिश कर रही थी। अमित ने रेखा के हाथ से सिंदूर की डिब्बी ले उसकी मांग भर दी। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
मम्मा, आप कब आओगे? गेट वेल सून मम्मा!

घर की बागडोर अमर ने ले ली बच्चों का ध्यान रखना हो या नेहा को गर्म पानी काढ़ा ताज़ा गर्म खाना सब कुछ अकेले अमर ही कर रहे थे।

टिप्पणी देखें ( 0 )
बच्चों की इम्युनिटी बढ़ाने के उपाय जो आपको जानने ज़रूरी हैं

बच्चों की इम्युनिटी बढ़ाने के उपाय हर माता पिता को जानने ज़रूरी हैं। जब हमारे बच्चे स्वस्थ रहेंगे, तभी हमारा कल स्वस्थ रहेगा। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
भतीजा होने पर सोने के झुमके तो बनते हैं ना…

कई बार नेग के नाम पे बड़ी डिमांड कर दी जाती है बिना सामने वाले की परेशानी देखे। नेग तो ख़ुशी से लेने देने की चीज है ना की जबरदस्ती लेने की।

टिप्पणी देखें ( 0 )
बहु, अगर सम्मान नहीं तो अधिकार नहीं…

सेवा तो दूर सास का सम्मान भी नहीं कर सकती। तुम्हें पेंशन में हिस्सा चाहिये? मेरे पेंशन पे सिर्फ उसका ही अधिकार होगा जो मेरे सम्मान करेगा।

टिप्पणी देखें ( 0 )
अब मैं आपके ऐसे खोखले नियम नहीं मानूँगी…

महीने के उन दिनों वो अपने कमरे में ही रहती लेकिन सोनू के होने के बाद सुधा अपनी सास के इस नियम से परेशान हो जाती। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
बच्चों में मानसिक तनाव के 10 लक्षण और उसे कम करने के 9 टिप्स

कोरोना काल में हर माता पिता को एक और बड़ी चिंता है कि कैसे वो अपने बच्चों में मानसिक तनाव के लक्षण पहचानें, और उसे कम करने के लिए क्या करें? 

टिप्पणी देखें ( 0 )
सरोगेसी क्या है और भारत में क्या हैं सरोगेसी बिल के प्रावधान?

हर प्रक्रिया की तरह सरोगेसी प्रक्रिया के भी कुछ नुकसान हैं तो कुछ फायदे हैं। आखिर सरोगेसी क्या है और क्या है सरोगेसी बिल? आइये जानते हैं। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
काश मैं अपने बच्चों को ज़िम्मेदार बना पाती…

अब हर आती जाती सांस के साथ विमला जी खुद के फैसले पे पछतावा महसूस करती। अपने पति की चेतावनी ना मानने का अंजाम ही था यह।

टिप्पणी देखें ( 0 )
मेरी दादी सास और उनके दो तल्ले के झुमके…

"परे हटो सभी, नई बहू का चेहरा पहले उसकी दादी सास देखेगी।" जैसे ही घूंघट उठाया दादी ने उनकी नजरें तो बस नंदनी के झुमको पे अटक गईं। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
बच्चों में डायबिटीज या शुगर होने के लक्षण क्या हैं?

जुवेनाइल डायबिटीज के मामले बढ़ रहे हैं और ये बहुत जरुरी हो गया है कि सही इलाज के लिए हम अपने बच्चों में शुगर होने के लक्षण पहचानें। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
आप भी भारतीय जीवन बीमा निगम एजेंट बनें और अपनी इनकम खुद कमाएं

आज हर महिला कुछ करना चाहती है, भारतीय जीवन बीमा निगम यानि एलआइसी एजेंट के रूप में भी आप अच्छी खासी इनकम बना सकते हैं। आइये जानें कैसे...

टिप्पणी देखें ( 0 )
और मैंने मासी माँ से सिर्फ माँ बनने का फैसला किया…

इतना लाचार तो पापा को तब भी नहीं देखा था जब मेरे रिश्ते के लिए ना होती थी। कितने बूढ़े कितने लाचार लग रहे थे पापा। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
मैं आपके बच्चे के बारे में गलत नहीं बोल रही हूँ…

लेकिन निशा की बात सुनते ही शिवानी उल्टा निशा को ही बातें सुनाने लगी, “मेरी बच्ची तुम्हारे घर खेलने क्या गई तुमने तो उसे चोर ही बना दिया।”

टिप्पणी देखें ( 0 )
अब आप माँ बन कर हमेशा हमारे साथ रहेंगी…

“आज सुबह सुबह मनोहर और ये हाथों में क्या छिपाया रखा है तूने?”  रत्ना के बार बार पूछने पे शरमाते हुए मनोहर ने हाथ आगे कर दिया। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
सिर्फ बहु ही क्यों ले इजाज़त हर बार…

अविनाश प्यार करता था नेहा को लेकिन माँ बाप के सामने होंठ सिल लेता कुछ बोलता ही नहीं क्या गलत क्या सही जैसे विवेक ही ख़त्म हो जाता उसका।

टिप्पणी देखें ( 0 )
अपनी सासू माँ में मुझे मेरी खोयी माँ वापस मिल गई…

विदाई के समय दुल्हन बनी दिव्या ने माँ की तस्वीर ऐसे सीने से लगा रखी थी कि मानो हर पल माँ को साथ रखना चाहती थी। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
मेरी सास की सास आयी, तो मुझे सांस आयी…

छः महीने हुए थे शादी को नई-नई शादी में मनु के भी अरमान थे, लेकिन मम्मीजी ने उन्हें अकेले नहीं छोड़ा था, हर जगह साथ लग जाती।

टिप्पणी देखें ( 0 )
माँ, मेरे बच्चे कोई सजावट का सामान नहीं हैं!

ये क्या तरीका है रिया, तुम दोनों भाई बहन ने क्या हाल कर रखा है घर का, एक तो दो कमरों का मकान और जहाँ देखो खिलौने बिखरे पड़े हैं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
जी हाँ, मैंने अपने लड़के को लड़कियों की इज़्ज़त करना सिखाया है…

हर माँ की जिम्मेदारी दुगनी होती है क्यूँकि उसे सिर्फ अपनी संतान को पालना ही नहीं होता बल्कि संस्कारों की खाद से सींचना भी होता है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
बताइये ना, आप कौन से ब्यूटी पार्लर में जाती हैं?

ओह्ह! उस पार्लर वाली ने कहा था पूर्णिमा की चाँद की तरह चमकेगा चेहरा, लेकिन इतने पैसे फुंक कर भी मुझे तो कहीं चाँद नज़र नहीं आ रहा।

टिप्पणी देखें ( 0 )
जीजाजी, आप झूठ क्यों बोल रहे हैं?

अभी अभी सामान तल के गैस बंद किया ही था, बस ना आव देखा ना ताव, गर्म करछी उठा के जोर से मार दिया अंजलि ने।

टिप्पणी देखें ( 0 )
अनाड़ी सासु जी की अनाड़ी बहु जो ठहरी मैं…

बहु, हमारे घर होली पे गुझिया बनती है। बहुत से मेहमान भी आयेंगे इस बार, नई बहु के हाथों का पकवान चखने, तो इस बार गुझिया तुम ही बनाना।

टिप्पणी देखें ( 0 )
त्यौहार की खुशियों पर सिर्फ बेटों की माँ का हक़ क्यों?

क्या एक दिन बेटा अपने ससुराल में खाना खा ले, तो वो अपने परिवार से दूर हो जाएगा? क्या त्यौहार सिर्फ आपके घर है, आपकी बहु के मायके में नहीं?

टिप्पणी देखें ( 0 )
महिलाओं की सेक्स में कम होती इच्छा के हो सकते हैं ये 8 कारण

'मेरा अब सेक्स करने का मन नहीं होता', सिर्फ उम्र ही नहीं, कई बार कुछ अन्य कारणों से भी महिलाओं की सेक्स में रूचि कम होने लगती है। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
जब श्वेता तिवारी घरेलू हिंसा पर खुल कर बात कर सकती हैं तो मैं क्यों नहीं?

श्वेता तिवारी और जाने कितनी महिलाओं को घरेलू हिंसा का सामना करना पड़ा है लेकिन इनमें से कई चुप रहीं कितने कारणों की वजह से। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
पहले फ़र्क आपने किया था सासूमाँ!

"आप फ़िक्र की बात कर रही हैं? फ़िक्र है तभी तो हर महीने विजय जी अपनी माँ को मोटी रकम भिजवाते हैं। अगर विश्वास ना हो तो पूछ लीजिये माँजी से।"

टिप्पणी देखें ( 0 )
भाभी मैं आपकी इस बात से बिलकुल सहमत नहीं हूँ…

आपको दिख नहीं रहा भाभी या आपने जानबूझ कर आंखे बंद कर रखी हैं? अमित का कॉफ़ी बनाना, नाश्ता बनाना और घर के कामों में उलझें रहना?

टिप्पणी देखें ( 0 )
अरे भाई औरतें हाउस वाइफ ही ठीक लगती हैं, बॉस नहीं…

इंटरव्यू हुआ और मैं सेलेक्ट हो गई। अगले दिन सुबह सुबह मुझे तैयार हुआ देख रमन चौंके, "कहाँ की तैयारी इतनी सुबह कोई किट्टी पार्टी है क्या?"

टिप्पणी देखें ( 0 )
आज मैं इसलिए खुश हूँ क्योंकि मैंने तुम्हारी बात मानी…

इन सब के बीच निशा की एक जेठानी रमा के चेहरे पर निशा हमेशा उदासी की छाया देखती और जल्दी ही कारण भी पता चल गया निशा को।

टिप्पणी देखें ( 0 )
मैं अपने बेटे की सुनती या अपने पति और सास की…?

दोनों पिता-पुत्र अपने तर्क देते और बीच में पिसती मैं, किसी तरफ जाऊं? पति या पुत्र? दोनों ही प्रिय थे लेकिन बेटे का चेहरा देखती तो लगता...

टिप्पणी देखें ( 0 )
तुम नहीं, मैं फंस गई तुमसे शादी करके…

प्यार तो दोनों को ही था एक दूसरे से पर नासमझी से दोनों की बुद्धि फिर गई थी...नीता और अमित की कहानी हर रिश्ते के उतार चढ़ाव को दर्शाती है। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
बेटा बुढ़ापा तो एक दिन तुमको भी आना है…

बहु तू बिलकुल चिंता मत करना, खिड़की से हवा भी बहुत अच्छी आती है, अभी रवि ने बताया क्यूंकि एक दिन बुढ़ापा तो सबको आना है...

टिप्पणी देखें ( 0 )
माँ न बन पाने पर क्या मेरे साथ ऐसा सलूक ठीक था?

दो हफ्ते बाद मुरझायी माया घर आई पर अब ये घर वो नहीं था। अब सब बदल गए थे। कल जो पलकों पे थी आज आँखों को चुभ रही थी।

टिप्पणी देखें ( 0 )
बहु घर का काम ही कितना होता है जो टाइम नहीं मिला…

आलोक को भी अच्छा खाने का शौक था, वह निशा से रोज़ नई सब्ज़ी बनवा कर खाता, इन सब चक्करों में निशा को समय ही नहीं मिलता...

टिप्पणी देखें ( 0 )
मेरा बेटा अब जोरू का गुलाम बन कर रह गया है…

वाह बेटा वाह! बड़ी जल्दी बीवी का चेहरा पढ़ना सीख गया? जा अब जा कर मना उसे, खाना बना खिला, रसोई में रखे बर्तन धो...जोरू का गुलाम!

टिप्पणी देखें ( 0 )
क्या हिंदी टीवी सीरियल की ‘आदर्श बहु’ हमारे परिवारों की सच्चाई है?

हिंदी टीवी सीरियल अपनी कहानी औरतों को आदर्श रूप में दिखाने से शुरू करते हैं लेकिन जैसे-जैसे कहानी आगे बढ़ती है ये सीरियल कुछ और करते हैं। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
मैं अपने ससुराल वालों पर विश्वास कैसे करूँ?

करवटें बदलता अतुल भी यही सोच रहा था कि अगर लिस्ट ना होती तो शायद दो अंगूठी और एक झुमका गायब है, ये पता भी ना चलता।

टिप्पणी देखें ( 0 )
माँ मुझे भाभी की आह लग गयी है…

याद है एक दिन भाभी ने अपने पसंद की सब्ज़ी बना दी थी और आपने उस दिन खाना नहीं खाया। भाभी के माफ़ी मांगने के बाद आपने खाना खाया।

टिप्पणी देखें ( 0 )
जो बेटा न कर सका वो आज एक बहु ने कर दिखाया…

मालती बहुत ध्यान रखती अपने ससुरजी का, लेकिन उनका अकेलापन वो कैसे बांटती? हमेशा ही एक झिझक सी रहती थी दोनों ओर...

टिप्पणी देखें ( 0 )
मैं तुम्हें अपने दिल की रानी बना के रखूँगा…

दो दिन से थोड़ी हरारत भी थी रूचि को। जब बर्दाश्त नहीं हुआ तो रसोई में गई चुपके एक कटोरी में थोड़े दाल चावल लिये।

टिप्पणी देखें ( 0 )
अपनी बेटी की खामोशी सुन कर मैंने भी एक वादा किया…

तुम तब आयीं मेरे जीवन में जब कोई उम्मीद नहीं थी माँ बनने की। बस एक दिन एक आहट हुई और और मेरी ज़िंदगी में खुशियाँ बन तुम आ गईं। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
बहु तुम अपने गहने ननद के दहेज़ में दे दो…

ऋतू बहु अपने गहने तो निकालो सारे के सारे। रेखा देख के पसंद कर लेगी उसे क्या क्या लेने हैं। क्या फ़र्क पड़ेगा भाभी की अलमारी में है या नन्द के?

टिप्पणी देखें ( 0 )
पीरियड्स पर शोएब ने दिया एक खूबसूरत मैसेज अपने मेल फैंस को

शोएब इस वीडियो में अपनी पत्नी दीपिका के लिए खाना पकाते हुए मैसेज देते हैं, "आप अपने घर की महिलाओं को पीरियड्स के दिनों में समझें..."

टिप्पणी देखें ( 0 )
मेरे बच्चे के बारे में कुछ कहा तो ठीक नहीं होगा…

केबिन में बैठी डॉक्टर बहुत गंभीर लग रही थी। रवि और उसकी माँ को कुर्सी पर बैठने को बोल वो किसी से फ़ोन पर बात करने लगी। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
8 फरवरी से दोबारा मुस्कुराहटें फ़ैलाने आ रहा है वागले की दुनिया, एक नए अवतार में

वागले की दुनिया में वागले का किरदार निभाने वाले अंजन श्रीवास्तव उसी तरह मशहूर हुए जैसे अरुण गोविल 'राम', नीतीश भारद्वाज 'कृष्ण' के रूप में हुए...

टिप्पणी देखें ( 0 )
छोड़िये मेरा हाथ अभी आप होश में नहीं हैं…

पहली रात ही सुहागसेज पर अपने पति का इंतजार करती अंकिता का शराब के नशे में डूबे लडख़ड़ाते अपने पति राहुल से पहला परिचय हुआ।

टिप्पणी देखें ( 0 )
पद्मश्री सम्मानित रजनी बेक्टर ने अपने शौक़ को ही अपना प्रोफेशन बनाया

पद्मश्री अवार्ड से सम्मानित रजनी बेक्टर ने अपने घर से ही बिस्किट बनाने का सफर शुरू किया, जो आज क्रीमिका ग्रुप के नाम से मशहूर है। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
इतने साल पहले जब मैंने तुम्हारा हाथ थमा था…

मैं आपके वक़्त  के लिए तरसती रही। जानती थी, आप हमारे परिवार के लिए ही मेहनत कर रहे हैं, फिर भी बहुत से ऐसे पल आये जब आपको मिस किया...

टिप्पणी देखें ( 0 )
जब आपकी बहु खायेगी तभी तो बच्चे का पेट भरेगा…

जब रूचि का पेट नहीं भरता तो मुन्ने का कैसे भरता? भूखा बच्चा रात दिन रोता और सास कहती कैसा रोंदू बच्चा है बिलकुल अपनी माँ पर गया है। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
अच्छी बहु बनने के लिए साड़ी पहनना ज़रूरी नहीं…

ये तस्वीरें देख निष्ठा को दो महीने पहले की बात याद आ गई जब वो हनीमून से वापस आयी थी तब सासूमाँ ने कैसा बखेड़ा शुरू किया था। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
क्या आज भी शादी मतलब बॉलीवुड करियर का फुल स्टॉप या बदल रही है तस्वीर?

बॉलीवुड में पहले जहां शादी और बच्चों को एक एक्ट्रेस के करियर का अंत मान लिया जाता था, क्या अब शादी के बाद की बदल रही है तस्वीर?

टिप्पणी देखें ( 0 )
आपको इतने सालों बाद भी याद रहा…

फॉर्म पढ़ते ही आँखों में एक अजीब सी चमक आ गई। उषा जी ने मुस्कुरा कर अपने पति को देखा, "आपको याद रहा इतने सालों बाद भी?"

टिप्पणी देखें ( 0 )
अपना वादा याद है ना आपको…

भाभी ने मज़ाक-मज़ाक में आभा के गरीबी का मज़ाक उड़ा दिया, "क्या आभा इतनी क्या प्यारी है ये साड़ी तुम्हें जो हर फंक्शन में इसे ही पहन लेती हो?"

टिप्पणी देखें ( 0 )
तीन पीढ़ी की महिला और उनके टेढ़े-मेढ़े रिश्तों से बुनी खूबसूरत फ़िल्म है त्रिभंग

रेणुका शहाणे की इस फ़िल्म त्रिभंग की कहानी में तीनों स्त्रियों का दर्द टूटता नहीं बल्कि एक से दूसरे के पास खूबसूरती से पहुँच जाता है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
20 महीने की धनिष्ठा बनीं सबसे कम उम्र की कैडेवर डोनर

मेरा सत-सत नमन है धनिष्ठा और उसके महान माता-पिता को जिन्होंने अपनी 20 महीने की बच्ची के अंगदान कर उसे सबसे कम उम्र की कैडेवर डोनर बना दिया। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
भाभी गलती हो गयी प्लीज़ माफ़ कर दो…

परिवार में सुख और शांति किसे अच्छी नहीं लगती। लेकिन राधेश्याम जी के घर से जैसे सुख शांति रूठ ही गई थी। रोज़-रोज़ के तनाव और कलेश से तंग आ  राधेश्याम जी ने अंत में ना चाहते हुए भी अपने दोनों बेटों के बीच बँटवारा कर ही दिया। राधेश्याम जी के दो बेटे थे बड़ा […]

टिप्पणी देखें ( 0 )
तुम्हारी भाभी से ही है मायके की रौनक…

बस अनु मुझसे तो ये सब कह दिया लेकिन ख़बरदार जो प्रिया के सामने ये सब कहा तो। मैं तुम्हारी माँ हूँ, तो प्रिया की सास भी हूँ...

टिप्पणी देखें ( 0 )
दीपिका-करीना के डिज़ाइनर सायशा शिंदे ने कहा कि वे एक ट्रांस वुमेन हैं…

दीपिका और करीना के स्टाइलिस्ट और मशहूर बॉलीवुड डिज़ाइनर सायशा शिंदे ने एक इमोशनल नोट में अपने ट्रांस वुमेन होने की बात सबके साथ साझा की।   

टिप्पणी देखें ( 0 )
मेरी नज़र में अनुष्का शर्मा का मैटरनिटी फोटोशूट एक बेहद खूबसूरत अहसास है!

अनुष्का शर्मा का मैटरनिटी फोटोशूट एक मैसेज है हमारे इस समाज को जो आधुनिक होने का ढोंग तो करता है लेकिन आधुनिकता अपनी सोच में नहीं लाता। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
कबीर सिंह की वनिता खरात के न्यूड फोटोशूट में है एक ख़ास संदेश

न्यूड तस्वीर के साथ है वनिता खरात का मैसेज, "मुझे अपने टैलेंट, पैशन, कॉन्फिडेंस पे गर्व है, मुझे अपने शरीर पे गर्व है क्यूंकि मैं मैं हूँ!"

टिप्पणी देखें ( 0 )
आपकी सारी उम्मीदें सिर्फ बहु से ही क्यों हैं…

आखिर इतने समय से मैं अकेली ही तो सब कर रही थी। माँजी सारी उम्मीदें सिर्फ बहु से क्यों क्या बेटियों का कोई फ़र्ज नहीं मायके के तरफ।

टिप्पणी देखें ( 0 )
आपको मेरे ससुराल की बुराई करने का कोई हक़ नहीं है…

और बता निशा तेरी सास का स्वभाव कैसा है? और वो तेरी जेठानी तेरे साथ अच्छे से तो रहती है ना? मुझे तो तेरी जेठानी बहुत घमंडी लगी।

टिप्पणी देखें ( 0 )
दूसरों की बीच मैं खुद को भूल गयी थी…

खुद की देखभाल में कमी और अपनी तरफ से लापरवाही का ही नतीजा आज शीशे में उसके अक्स के रूप में दिख रहा था। वो खुद को पहचान ही नहीं पायी...

टिप्पणी देखें ( 0 )
मेरा सीरियल देखना आपको टाइम ख़राब करना क्यूँ लगता है?

स्टारप्लस के अनुपमा, इमली, साथ निभाना साथिया, कलर्स का बैरिस्टर बाबू आदि कई महिला प्रधान सीरियल मुझे तो बेहद पसंद हैं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
80 और 90 के दशक के 11 हिंदी सीरियल और उनके ये महिला किरदार अपने समय से आगे थे!

यहां देखिये 80 और 90 के दशक के कुछ प्रसिद्ध हिंदी सीरियल जिन्होंने दर्शकों का दिल तो जीता ही, साथ ही औरतों के मुद्दों को भी खुल के रखा!

टिप्पणी देखें ( 0 )
मेरे कपड़ों से मेरे करैक्टर का क्या लेना देना है…

ये झूठ बोल रहा है! इसने मेरी कुछ वीडियो और फोटो ले ली थी और मुझे धमकी दे रहा था कि उसे सोशल मीडिया पर डाल देगा और जब मैंने मना किया तो...

टिप्पणी देखें ( 0 )
बिग बॉस की इन महिला विनर्स ने हम सब के दिलों पर भी राज किया है!

अपनी हिम्मत से महिला किसी भी फील्ड में ट्रॉफी अपने नाम कर सकती है। ये बिग बॉस की इन सशक्त और सफल महिला विनर्स ने हर बार साबित किया है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
सासु माँ आपकी बहु भी आपके परिवार का हिस्सा है…

जब भी कोई ख़ास सलाह के लिये बेटी और दामाद को बुलाया जाता तो पूरा परिवार कमरे में बंद हो जाता और अंदर ही अपनी खिचड़ी पकाता। लेकिन घर की बहू?

टिप्पणी देखें ( 0 )
आज आपकी बहु नहीं एक माँ बोल रही है…

मैं गुजर रही हूँ, कुछ सालों पहले तक आप भी गुजरती थीं। जो क्रिया माँ बनने के लिये ज़रुरी है, उससे कोई स्त्री अपवित्र कैसे हो सकती है?

टिप्पणी देखें ( 0 )
कल तुम्हारे नाम बदलने की रस्म करनी है…

अतुल जी नाम बदलने की रस्म पुराने समय के रिवाज़ थे, जब अर्रेंज मैरिज में लड़के लड़की मिलना तो दूर, शादी से पहले एक दूसरे को देखते भी नहीं थे।

टिप्पणी देखें ( 0 )
बेटियाँ देंगी अपनी माँ को अंतिम विदाई…

जब मेरी माँ अकेली औरत होकर हम बहनों को बेटों की तरह पाल सकती है, तो हम बहनें क्यूँ नहीं उनको अंतिम विदाई दे सकते हैं?

टिप्पणी देखें ( 0 )
अर्शी खान को अगर ज़्यादा चोट आती तो ज़िम्मेदार कौन होता बिग बॉस या विकास गुप्ता?

एक महिला होने के तौर पर मैं बिग बॉस 14 में विकास गुप्ता का अर्शी खान के साथ किये गए इस उत्तेजक और हिंसक व्यवहार की निंदा करती हूँ।

टिप्पणी देखें ( 0 )
मैं ना रुकूंगी, मैं ना झुकूँगी

दुनियां का है कैसा ये खेल निराला, कमजोर को सब दबाये, मजबूत के चूमे कदम, दुनियां की ये कैसी अनोखी रीत, है जो बिलकुल बदरंग। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
मेरे लिए बहु और बेटी में कोई फ़र्क़ नहीं…

जैसा व्यवहार हमारी सास ने हमारे साथ किया आप वैसा ही शुचि बहु के साथ करती हैं। वो जमाना कोई और था दीदी, अब समय बदल गया है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
वेब सीरीज़ पौरषपुर में शिल्पा और मिलिंद का है हमें इंतज़ार इस बड़े सवाल के साथ…

वेब सीरीज़ पौरषपुर में मिलिंद सोमन एक बार फिर से अभिनय करते नज़र आयेंगे और मिलिंद के फर्स्ट लुक के बाहर आते ही उनका लुक चर्चे है, लेकिन...

टिप्पणी देखें ( 0 )
सासू माँ आप बहुओं में फ़र्क़ क्यों करते हो…

तुम्हारी जेठानी और मैंने बहुत काम कर लिये, अब तुम्हारी जिम्मेदारी है रसोई और घर के रीती रिवाजों को समझने की, क्यों ठीक है न?

टिप्पणी देखें ( 0 )
भारत में किन्नर बच्चों का पहला कल्याण घर बंगलौर में खुलेगा!

कल्पना कीजिये, कैसा महसूस होता होगा इन नन्हे किन्नर बच्चों को जब ये खुद नहीं जानते कि इनके साथ अलग बर्ताव क्यों होता है?

टिप्पणी देखें ( 0 )
सिर्फ ‘बड़े घर की बहु’ मेरी पहचान नहीं…

विदाई के बेला में अपने पापा के गले लग ज़ार ज़ार रोई वो। इतना कि सब के कलेजे काँप गए पर ये तो सिर्फ वो पिता ही समझ रहा था, कि ये आंसू...

टिप्पणी देखें ( 0 )
अब घर के सारे काम नई भाभी करेगी…

घर के हालात देख अनिमेष दंग रह गया। दोनों बहनें आराम से टीवी देख रही थीं। माँ शायद छत पे पड़ोसन से बातें कर रही थी और रिया...

टिप्पणी देखें ( 0 )
सासू माँ के घुटने और मेरी पीठ का दर्द…

नीता की बात सुन ऑंखें दिखाती उसकी सासू माँ बोलीं, "बोला ना घुटने में दर्द है? मुझसे ना होगा कोई काम वाम और ना ही मोनू को संभाल पाऊँगी।"

टिप्पणी देखें ( 0 )
ये मम्मियों वाले काम मेरे से नहीं होते…

जब से सोहम हुआ था निधि का अकेले अपने दोस्तों के साथ कहीं आना जाना बंद हो गया था, जबकि नीलाभ अपने दोस्तों के साथ घूमने निकल जाता।

टिप्पणी देखें ( 0 )
सीरीज़ दिल्ली क्राइम के एमी अवॉर्ड जीतने पर शेफाली शाह ने ट्विटर पर यूँ ज़ाहिर की अपनी ख़ुशी!

शेफाली शाह स्टार्रर नेटफ्लिक्स की वेब सीरीज दिल्ली क्राइम ने प्रतिष्ठित एमी अवॉर्ड को अपने नाम कर पुरे विश्व में भारत का नाम रोशन किया है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
मेरी बहु मेरे लिए हमेशा चाँद का टुकड़ा रहेगी…

बहु के रूप में एक बेटी क्या मिली, निर्मला के सपनों को पँख लग गए। साथ में चाय पीने से ले कर बाजार में सेल और साथ में फिल्मे देखने जाना। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
मोना सिंह ने शादी से कुछ साल पहले ही अपने एग्स फ्रीज़ करा दिए थे!

मोना सिंह ने शादी से करीब पांच साल पहले ही अपने एग फ्रीज़ करवा दिये थे और ये जानकारी बहुत सी महिलाओं के लिये लाभदायक रहेगी। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
मैं सिर्फ आपका दामाद नहीं बेटा भी हूँ सासू माँ…

आपका हक़ है मुझपे। जब मेरी इतनी चिंता कर सकती हैं,  मेरे लिये प्रार्थना कर सकती हैं, तो मुझे मेरी गलती पे डाँट क्यों नहीं सकतीं?

टिप्पणी देखें ( 0 )
बिग बॉस का विवादों से रिश्ता और भी गहरा होता जा रहा है…

बिग बॉस में पूरे एक घंटे में सितारे सिर्फ एक दूसरे को नीचा दिखाने और इमोशनल कार्ड खेलने में निकाल देते हैं। तब इसे मनोरंजन कैसे कहा जा सकता है?

टिप्पणी देखें ( 0 )
ये आपका ही घर है और मैं आपकी बीवी…

गाड़ी के अंदर रिया अपने फ़ोन में बिजी थी कि तभी किसी ने गाड़ी की खिड़की पे ठक-ठक की। जैसे ही रिया ने नज़रें उठाईं,  उसे तो वहीं काठ मार गया।

टिप्पणी देखें ( 0 )
मैं सिर्फ आपकी बहु नहीं, बेटी भी हूँ माँ…

दस साल की बच्ची के मुँह से ये सुन रूपा को बहुत गुस्सा आया, "बिहेव योर सेल्फ सलोनी। वो दादी हैं तुम्हारी और जरुरी नहीं जो नानी करें वही दादी भी करें तुम्हें।"

टिप्पणी देखें ( 0 )
मोलकी सीरियल अपनी कहानी की वजह से चर्चा का विषय बन चुका है!

एक नये अनूठे और बिलकुल अलग विषय पर आधारित है ये बालाजी टेलीफिल्मस का कलर्स चैनल पर 16 नवंबर 2020 से एयर होना वाला सीरियल मोलकी...

टिप्पणी देखें ( 0 )
आज रिश्ता पक्का करने लड़के वाले आ रहे थे लेकिन…

थोड़ी सी पैरों की खराबी के लिए अपनी बेटी के भविष्य को दांव पर नहीं लगने देंगें। मुझे कुछ ठीक नहीं लग रहा तू एक बार फिर से जांच पड़ताल कर...

टिप्पणी देखें ( 0 )
और एक मां को उसका सबसे बेहतरीन तोहफा मिल गया था…

रूपा को डर था कि राघव के हर डिमांड को बिना सोचे पूरा कर देते हैं ऐसे तो चीज़ों की वैल्यू उसे कभी समझ नहीं आयेगी लेकिन आज...

टिप्पणी देखें ( 0 )
और उस दिन सच में मेरी खुशियां दुगनी हो गयीं थीं…

जब भी कोई त्यौहार आता सुगंधा बहुत उदास हो जाती, सब कुछ होते हुए भी एक अजीब सी ख़ामोशी और खालीपन भरा था उसके जीवन में। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
कुछ तो अलग बात है अनुपमा सीरियल की अनुपमा में…

अनुपमा सीरियल एक सवाल पूछता है, क्या हमारा समाज विवाह निभाने की जिम्मेदारी स्त्रियों पे डाल पुरुषों को इस जिम्मेदारी से आज़ाद कर देता है?

टिप्पणी देखें ( 0 )
अगर हो सके तो मुझे माफ़ कर देना…

खूब समझ रहा था अपनी कमी को विनोद, लेकिन स्वीकार करना उसके पुरुष के अहं पे ऊँगली उठने के बराबर होता और ऐसा कहाँ होता है...

टिप्पणी देखें ( 0 )
आपकी छोटे घर की बहु दहेज नहीं लायी…

अपनी नंद की बातों को सुन अनीता जी के चेहरे का रंग उड़ गया। शांति जी ने अपनी भाभी को सच का ऐसा आईना दिखलाया कि उनकी बोलती बंद हो गई।

टिप्पणी देखें ( 0 )
आपका मायका हमेशा बना रहेगा, ये मेरा वादा है…

उम्मीद थी अशोक भैया शायद भाभी को कुछ कहें, पर बड़े घर की बीवी और दहेज के सामान ने उनकी बुद्धि बदल दी थी।

टिप्पणी देखें ( 0 )
हमारा न सही लेकिन नेग का तो मान रखें ननद जी…

रिया का दिल धक् धक् करने लगा। आज तक ऐसे किसी को ज़वाब नहीं दिया था लेकिन खुद पर गर्व भी हुआ कि खुद को दब्बूपन से आजाद किया उसने...

टिप्पणी देखें ( 0 )
अब बस! उन निशानों से मुक्ति मिल गयी थी…

अब नील के निशान नहीं दिखते थे भाभी के बदन पर,  दिखती थी तो वही सौम्य मुस्कुराहट जो पाँच साल पहले देखी थी मैंने उनके चेहरे पर...

टिप्पणी देखें ( 0 )
मैं अपनी मम्मी को तो नहीं बचा सकी इस मारपीट से लेकिन आज…

रोज़ रोज़ आती आवाज़ों में नेहा को अपनी माँ की सिसकियाँ दिखती और उसकी आत्मा तड़प उठती। लेकिन अब बस हो चुका था...

टिप्पणी देखें ( 0 )
बेटी से अपनी बहु की बुराई नहीं करते माँ…

धीरे धीरे माँ की बातों ने मोहनी की खूबसूरती की जगह उसकी बुराइयों ने लेना शुरू कर दिया। रूचि कुछ ज़वाब नहीं देती सिर्फ हाँ हूं कर फ़ोन रख देती।

टिप्पणी देखें ( 0 )
व्रत न रखने पर तुम्हें कुछ हो गया तो…

नैना मॉल जा कर मेहंदी लगवा आना और अच्छे से तैयार हो पूजा करना और कुछ भी खाना पीना मत नहीं तो नमन के ऊपर परेशानी आयेंगी।

टिप्पणी देखें ( 0 )
और उसने जल्दी से कहा, “हस्बैंड जी स्पीक इन हिन्दी प्लीज़…”

शादी पास आती है तो लड़कियाँ पार्लर भागती है और ये रिद्धि ऊपर छत पर क्या पढ़ती रहती है। इतनी पढ़ाई तो इसने दसवीं और बारहवीं में भी नहीं करी।

टिप्पणी देखें ( 0 )
एक बुरे बाप से कहीं बेहतर है एक अकेली माँ…

अपने घर में नेहा ने ना कभी ऐसा देखा, ना सुना। पापा और भाई दोनों कितने सलीके से पेश आते माँ और भाभी के साथ। लेकिन यहां तो...

टिप्पणी देखें ( 0 )
मेरे सिरदर्द को बीमारी नहीं नौटंकी कहते हैं…

खुद की बेटी आने की इतनी ख़ुशी है कि व्यंजनो की लिस्ट पकड़ा दी, लेकिन कभी मेरे मायके से कोई आये तो डर-डर के दो सब्ज़ी बनाती हूँ। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
अब बहु भी खायेगी गरमा-गरम रोटियां…

पापाजी ने प्लेट उठाई और रसोई की और चल दिए। उनके पीछे डरी सहमी सुम्मी भागी। पता नहीं क्या होगा आज, सोच-सोच के सुम्मी की जान निकली जा रही थी।

टिप्पणी देखें ( 0 )
काश उस दिन किसी ने उसे भी पनाह दी होती…

उसने दृढ़ निश्चय कर लिया, कि जो उसके साथ हुआ था, वह किसी के साथ वैसा नहीं होने देगी। और उस दिन...तो आखिर ऐसा हुआ क्या?

टिप्पणी देखें ( 0 )
एक दामाद होने के नाते तुम्हारे भी तो कुछ फ़र्ज़ हैं…

कहाँ था अमन का वो उत्साह जो उसके खुद के मम्मी-पापा आये थे तब था। खुद रिया ने कितने खुले दिल से उनका स्वागत किया था। तो अब ऐसा व्यवहार क्यूँ?

टिप्पणी देखें ( 0 )
सही मायनों में तो आज ही आयी थी इनके मिलन की बेला…

पिक्चर देकते हुए जब सुमित ने गुड्डन के हाथ को धीरे से छुआ तो गुड्डन ने अपना हाथ झटक दिया सुमित को बुरा तो लगा पर उसने कुछ कहा नहीं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
और वो एक दुल्हन बनी उसके सामने खड़ी थी…

सीमा आज शाम को मैं तुम्हे दुल्हन की तरह सजा देखना चाहता हूँ। तुम वही लाल बनारसी साड़ी पहनना जो शादी के दिन पहनी थी और सोलह सिंगार भी करना।

टिप्पणी देखें ( 0 )
अपनी इज़्ज़त के साथ अब मैं कोई समझौता नहीं करुँगी…

अब तो जब मौका मिलता विनय ऋतू को इधर-उधर हाथ लगा देता। विनय की नज़रे ऋतू पर हीं  टिकी रहतीं, रिश्तों का लिहाज कर ऋतू चुप रह जाती।

टिप्पणी देखें ( 1 )
आपको सिर्फ अपने बेटे की थकान दिखती है मेरी नहीं…

शेखर काम करते हैं, तो मैं भी करती हूँ बल्कि उनसे ज्यादा करती हूँ। पर माँजी आपको सिर्फ शेखर का काम, उनकी थकान दिखती है, मेरी नहीं?

टिप्पणी देखें ( 0 )
जैसे ही सब ठीक होगा तुम्हारी लाडो घर आ जाएगी माँ…

तुमसे पूछ-पूछ कर मसाले तो डाले और खुशबू भी बिलकुल वैसी ही आ रही है, लेकिन वो प्यार कैसी डालूँ माँ जो तुम डालती हो इन अचार की बरियों में...

टिप्पणी देखें ( 0 )
उसके गुस्से ने घर को जेल बना दिया था लेकिन फिर एक दिन कुछ ऐसा हुआ…

उसने दरवाजा खोलते ही एक करारा थप्पड़ जड़ दिया पलक के गाल पे और लगे डांटने! डर से कांपती पलक के गाल रवि के उंगलियों के निशान से लाल हो चुके थे। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
सेकंड चांस!

जो सपने सोम के अधूरे रह गए थे वो उसने दूसरे बच्चों के पूरे करने में लगा दिया। सोम ने एक बार फिर से जिंदगी को जीना सीख लिया था।

टिप्पणी देखें ( 0 )
कर्तव्य और फ़र्ज के डोर में बंधी बहु…

पिताजी के कमरे में गए तो एक जीर्ण शीर्ण काया बिस्तर पर पड़ी थी। एक समय के रौबदार व्यक्तित्व के मालिक अपने पिता को इस तरह असहाय देख बिलख उठी सुधा।

टिप्पणी देखें ( 0 )
आज इतने सालों बाद जब दोनों ने एक दूसरे को देखा तो…

दोनों प्यार के पंछी अपनी-अपनी ज़िम्मेदारीयों को पूरा करने निकल पड़े और आज इतने सालों बाद इस तरह दोनों फिर से मिल रहे थे...

टिप्पणी देखें ( 0 )
आज एक रोटी के लिए इस घर की अन्नपूर्णा तरस रही थी!

आज एक फैसला ले लिया था नीला जी ने कि अब अपने स्वाभिमान से समझौता नहीं करेंगी चाहे उन्हें वृद्धाश्रम ही क्यूँ ना जाना पड़े।

टिप्पणी देखें ( 0 )
जब सास ने निभाया अपने माँ होने का एक और फ़र्ज़…

निशा के लिए तो सौम्या अब मुफ़्त की नौकरानी बन गई थी! किसी काम में हाथ ना बांटती, जब रमा जी मदद करती तो हॅंस कर सौम्या उन्हें मना कर देती। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
और यूँ हुई एक बहु की विदाई अपने ससुराल से…

विदाई के वक़्त जी भर के रोई शगुन अपने जन्म दाता के नहीं, अपने भाग्य विधाता के गले लग। कौन थे उसके भाग्य विधाता? और ऐसा क्या हुआ था उसके साथ?

टिप्पणी देखें ( 0 )
कब होगी वो पहली बारिश…

इंद्र लोग में बैठे स्वामी अब सुन भी लो ये अरज हमारी, अब भेज भी दो मेघदूतो को बरसाओ इस वसुधा पे पानी।

टिप्पणी देखें ( 0 )

The Magic Mindset : How to Find Your Happy Place

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020

All Categories