कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

फेमिनिस्ट
टॉप ऑथर विनीता धीमान: हर महिला को अपने आप पर गर्व होना चाहिए

विनीता धीमान कहती हैं कि मेरे लिए सबसे बढ़ा अचीवमेंट्स होता है जब लोग मेरे लेख को पढ़ते है और अपनी राय मेरे साथ उस विषय पर साझा करते हैं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
समिधा नवीन वर्मा: अगर हम अपने लिए आवाज़ उठाएंगे तभी समाज हमारी सुनेगा

समिधा नवीन वर्मा का मानना है कि हर महिला को अपनी आवाज रखनी चाहिए, बात करने से ही बात बनती है, हम अपने लिए आवाज़ उठाएंगे तभी समाज हमारी सुनेगा। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
मनमानी आप करो तो ठीक…मैं करूँ तो बेइमानी?

औरतें नाक-मुँह बंद किए निर्जीव पड़ी रहें तो सुशील! और अगर कहीं सब ठीक करने के लिए आगे बढ़ कर कमान संभाल लें तो मनमानी? विरोध?

टिप्पणी देखें ( 0 )
टॉप ऑथर श्वेता व्यास : हर महिला को अपने लिए समय ज़रूर निकालना चाहिए

श्वेता व्यास कहती हैं कि अपने पैशन को पूरा करने के लिए थोड़े एफर्ट्स तो डालने ही पड़ते हैं, लेकिन अंत में सबसे ज्यादा ख़ुशी उसी में मिलती है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
‘नारीवादी प्रयोग’ का एक नया ही मतलब आज मुझे समझाया जा रहा था…

देखो असली नारीवादी प्रयोग यही है, हर चीज़ चाहे छोटी हो या बड़ी, मर्द की हो या औरतों की, पर विज्ञापन में बस लड़कियाँ क्यों खड़ी की जाती हैं? बताओ! बताओ!

टिप्पणी देखें ( 0 )
‘पति का गिफ्ट’ हमेशा एक ही रहा है – आज भी यही ट्रेडिंग है!

सचमुच ये पति का गिफ्ट एक चारदीवारी को घर तथा दूसरी चारदीवारी को कारागार बना देती है और यह सब किस पर आधारित है? बस एक स्पर्श पर!

टिप्पणी देखें ( 0 )

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?