कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

फेमिनिस्ट
मेरे को सिर्फ आपका प्यार, सम्मान और वक़्त चाहिए…

रिश्तेदारों की भीड़ धीरे-धीरे कम हो गई सब अपने घरों को प्रस्थान जो कर गए थे। अब होने लगी सुनैना की वास्तविकता से पहचान।

टिप्पणी देखें ( 0 )
इस रिश्ते में मेरी सहमति कुछ मायने रखती है या नहीं…

और वो सोचने लगी कि क्या इस रिश्ते में पत्नी की सहमति भी कुछ मायने रखती है या ये रिश्ता सिर्फ पति की ज़रूरतों को पूरा करने के लिए बनाया गया? 

टिप्पणी देखें ( 0 )
सिर्फ परिवार या रिश्तेदार ही नहीं, एक स्ट्रांग सिस्टरहुड भी है ज़रुरी

मीडिया में स्ट्रांग सिस्टरहुड की ज़रुरत का चित्रण बहुत कम देखने मिलता है, क्या हमारा समाज बहनचारे से डरता है जो इस पर बात नहीं करता?

टिप्पणी देखें ( 0 )
मिसेज श्रीलंका पुष्पिका डिसिल्वा से उनका ताज छीन लेना क्या ठीक था?

मिसेज श्रीलंका पुष्पिका डिसिल्वा के ताज के छिन जाने के बाद एक ही सवाल आया और वो ये कि तलाकशुदा या सिंगल मदर से समाज को एतराज क्यों है?

टिप्पणी देखें ( 0 )
‘अरे! तुम दलित हो? लगती तो नहीं!’

जो भी मुझे देखता, वो एक ही बात कहता कि 'तुम तो इतनी अच्छी हो, हमें तो पता ही नहीं चलता कि तुम दलित हो, तुम दलित नहीं लगतीं!'

टिप्पणी देखें ( 0 )
न जाने कितने शोषण झेलते हुए हम 2021 के विमेंस डे पर आये हैं

ऐसे विमेंस डे की हमें तो कोई ज़रूरत नहीं है जहां सिर्फ हवाओं में बातें करी जाए और ज़मीन पर शोषण। आप ही को मुबारक हो ये "विशेष दिन"...

टिप्पणी देखें ( 0 )

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020