कामकाज सम्बन्धी
भारत में कामकाजी महिलाओं की चुनौतियाँ, काम पर चुनौतियों का सामना करने के लिए टिप्स
आप शिखा की तरह हैं या उसके बॉस की तरह?

हम महिलाएं, घर और बाहर की जिम्मेदारी ईमानदारी से निभाती हैं, मगर तब भी अगर घर या ऑफिस में एक दिन का भी अवकाश मांग लें तो शंका का पात्र बन जाती हैं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
लम्बे अंतराल के बाद जॉब की शुरुआत करने के लिए आइये अपनाएं ये 4 स्ट्रैटेजीज़

लम्बे अंतराल के बाद जॉब की शुरुआत करने के लिए इन स्ट्रैटेजीज़ को अपना कर आप बेहद जल्द अपने आप को एक बार फिर कामयाबी की सीढ़ियां चढ़ती पाएंगी।

टिप्पणी देखें ( 0 )
वो अनमोल पल नवोदय के – नई राह नई रौशनी!

पर जिंदगी में राहें कभी खत्म नहीं हुआ करतीं, हर अंधेरे के बाद एक नई रोशनी अवश्य ही जन्म लेती है, मेरे सपने ने जीवन की प्रकाश रूपी राह चुन ली है। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
क्या मैटरनिटी लीव वाकई मुफ्त की तनख्वाह है? क्या ये एक साधारण सा अवकाश है?

मैं काॅरपोरेट सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी के खिलाफ नहीं हूँ, लेकिन यदि आप अपनी सहकर्मी महिला के बच्चे की बेहतर देखभाल के बारे में अच्छा नहीं सोचते तो यह ढकोसला मात्र है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
महिलाओं के लिए जॉब और घर एक साथ संभालने के कुछ आसान टिप्स

जॉब के हेक्टिक शेड्यूल के बाद घर की देख-रेख करना मुश्किल लगता है, लेकिन अगर सब सिस्टेमेटिक तरीके से किया जाए तो ये कुछ आसान हो सकता है। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
कर्तव्य कर्मा का मिशन-महिला सशक्तिकरण

कर्तव्य कर्मा संस्था से जुड़ी हुई महिलाओं को सिर उठाकर समाज में जीने का हक हासिल हुआ है। वो स्वावलंबी हुई और उनको अपनी पहचान बनाने का मौका भी मिला।

टिप्पणी देखें ( 0 )
topic
workplace
और पढ़ें !

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?