कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

अपराध और कानून
स्त्रीधन क्या है और क्या हैं इससे जुड़े आपके अधिकार – एक जागरूकता

क्या आप जानती हैं कि आप अपने स्त्रीधन की अनन्य मालिक हैं और उस पर आपका पूरा हक़ है और आपका ये हक़ कोई नहीं छीन सकता। जानिए और...

टिप्पणी देखें ( 2 )
आख़िर इंसाफ की सुबह आ गयी और निर्भया तुम जीत गईं!

आज की सुबह न्याय ले कर आयी और निर्भया की माँ ने अपनी बेटी की तस्वीर गले से लगाया और कहा, "आखिरकार तुम्हें इंसाफ मिल गया।" 

टिप्पणी देखें ( 0 )
निर्भया केस में दोषियों के ‘तालिबानी’ वकील के सारे पैंतरे फेल; कल सुबह होगी फाँसी!

पटियाला हाउस कोर्ट में दोषियों की फांसी के डेथ वारंट पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है। अब उनका कल सुबह 5:30 बजे फांसी पर लटकना तय है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
क्या ‘तलाक़’ निर्भया केस के दोषियों को बचाने की एक और कवायद है?

फांसी के पहले निर्भया बलात्कार के एक दोषी अक्षय ठाकुर की पत्नी ने फांसी के पहले मांगा तलाक और कहां मुझे उसकी विधवा कहलाना मंजूर नहीं। 16 दिसंबर 2012 की जिस सर्द रात को चलती बस में बेरहमी से एक बलात्कार हुआ, उसके बाद पीड़िता को बचाया नहीं जा सका हमने पीड़िता को एक नाम […]

टिप्पणी देखें ( 2 )
प्रेगनेंसी अमेंडमेंट बिल 2020 : गर्भपात संबंधी नियमों में एक बदलाव

इस विधेयक के तहत गर्भपात की अधिकतम सीमा 20 हफ्ते से बढ़कर 24 हफ्ते कर दी गई है। अब महिलायें प्रेगनेंसी के 24वें हफ्ते में भी वैद्य गर्भपात करा सकेंगी। 

टिप्पणी देखें ( 1 )
1 फरवरी को सिर्फ 4 अपराधियों को फाँसी…एक को अभी भी छोड़ा जा रहा है, क्यों?

क्या सब उस छठे आरोपी, जो अब नाबालिग नहीं रहा, के अगले अपराध का इन्तज़ार कर रहे हैं? फिर उसके बाद ही उसे सजा देंगे? यही न्याय है क्या? 

टिप्पणी देखें ( 0 )
topic
violence-against-women-india
और पढ़ें !

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?