कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

मुंबई पुलिस के अनुसार कबीर सिंह और इन फिल्मों के डायलॉग हैं महिला विरोधी!

मुंबई पुलिस के अनुसार फिल्में समाज का सच दिखाती हैं, अपने शब्दों और एक्शन को सावधानी के साथ चुनें, वरना कानून का सामना करना पड़ सकता है।

मुंबई पुलिस के अनुसार फिल्में समाज का सच दिखाती हैं, अपने शब्दों और एक्शन को सावधानी के साथ चुनें, वरना कानून का सामना करना पड़ सकता है।

हाल ही में इंस्टाग्राम पर मुंबई पुलिस ने एक पोस्ट शेयर करते हुए जाहिर किया कैसे फिल्में और इनमें दिखाई गयी बातें और डायलॉग्स हमारे समाज के कई पहलुओं को सामान्य रूप में दिखा इन्हें बढ़ावा देती हैं।

पोस्ट में #Letsnotnormalisemisogny #Mindyourlanguage #womensafety
जैसे टैग और कई डायलॉग का ईस्तेमाल कर मुंबई पुलिस द्वारा दर्शाये गए इन फ़िल्मों की ओर सवाल आज पूछने अवश्यक हैं।

मुंबई पुलिस द्वारा, उनकी ही मुंबई में बसी बॉलीवुड की ओर इशारा करती पोस्ट ना ही सिर्फ जनता को जागरूक करने के लिए है, साथ ही यह फ़िल्में बनाने वाले और इन किरदारों को निभाने वालों को भी इन बातों पर सोचने को मजबूर करती हैं।

इन फ़िल्मों के कुछ डायलॉग मुंबई पुलिस ने अपनी बात रखते हुए शेयर किए

“तुम एक पत्नी हो! तुम्हारा पति जैसा चाहेगा वैसा ही होगा…” (मैं ही उसका भगवान हूँ! उसकी इतनी जुर्रत कि मेरी मर्ज़ी के खिलाफ जाए?)

“मेने उसे काम करने दिया!” (मैं उसका मालिक हूँ, मैं ही बताऊंगा कि मेरी पत्नी अपनी ज़िंदगी कैसे जीए)

ऐसे डायलॉग हमने काफी बार फ़िल्मों में सुने हैं। सुनने में ही यह डायलॉग हमें कहीं ना कहीं अपने समाज में फैली पितृसत्ता का आईना दिखा देते हैं।

हर लड़की को बचपन से यही बताया गया है कि शादी के बाद पति ही देवता होता है। ‘पति परमेश्वर’ जैसे टर्म का ईस्तेमाल कर लड़कियों को पहले ही समझा दिया जाता है कि उनका धर्म  सिर्फ पतों की सेवा करना है। पर अब सोचने की बात ये है कि क्या सच में हम इस सोच से काफी आगे बढ़ चुके हैं – शायद नहीं!

Never miss real stories from India's women.

Register Now

आज भी फ़िल्मों और सीरियल्स में हम देखते हैं कि औरतें पतिव्रता पत्नी के रूप में दर्शायी जा रही, हैं, जिनकी जिंदगी सिर्फ अपने पति के इर्द-गिर्द घूमती है और उनका काम है सिर्फ अपने पति की हर ‘आज्ञा’ का पालन करना और उन्हें खुश करना।

पत्नी का धर्म सिर्फ पति की पूजा और सेवा?

पर ये आज के समय का सच नहीं है। आज कई औरतें खुद अपनी जिंदगी बनाती हैं, घर के साथ अपना खुद का करियर संभालती हैं। पर फ़िल्मों में सिर्फ ‘पति की सेवा करना ही पत्नी का धर्म है’ आज भी दिखा कर यही दर्शाया जाता है कि इसमें कोई बुराई नहीं है, यह समान्य बात है। और तो और जो ऐसा ना करे उसकी ज़िन्दगी बर्बाद हो जाती है या वो चरित्रहीन और पापी है!

ऐसी ‘सभ्य सामाज और परिवारों की संस्कारी बातें’ बातें लड़कों में यह मानसिकता भी पैदा करती हैं कि उनके पास अपनी पत्नी पर, उसकी जिंदगी पर हक जताने का पूरा अधिकार है और ये औरत एक दासी है। यही बातें और ऐसी ही परवरिश लड़कों में महिला विरोधी मानसिकता पैदा करती है।

1988 में आयी फिल्म मालामाल का यह एक डायलॉग, “अगर खूबसूरत लड़की को ना छेड़ा तो वह भी तो उसकी बेज्जती होती है ना!”

हास्य रूप में लिखी यह लाइन ने उस समय में लोगों को खूब हंसाया होगा पर साथ ‘छेड़-छाड़’ करने वालों को बढ़ावा भी दिया। लेकिन क्या ये छेद-छाड़ उस लड़की को पसंद है या आपके इस व्यवहार ने उसके मन में आपके प्रति नफरत और डर पैदा कर दिया? और ‘छेड़-छाड़’? ये सेक्सुअल हरासमेंट है, जिसे पुरुषों को बचने के लिए हमारे इस पितृसत्तात्मक समाज में इतने हलके शब्द और सामान्य व्यवहार में ढाल दिया।

Boys will be boys या  men will be men  जैसी लाइनें तो हम हमेशा से सुनते आए हैं। ये कहती हैं कि पुरुष तो छेड़ेंगे ही, यही उनकी असलियत है, यही उनका चरित्र है, तो सम्भालना महिलाओं को ही है – कपड़े ढंग के पहनने चाहिए, रात को घर से नहीं निकलना चाहिए और ना जाने क्या-क्या!

हाल ही में आयी एक फिल्म कबीर सिंह के बारे में खास कर बात करते है। वह पूरी फिल्म खुद में एक मिसोजिनी यानि महिलाओं के खिलाफ समाज की मानसिकता का उदहारण है।

“वो मेरी बंदी है”

कबीर सिंह के किरदार में ढूढ़ने पर भी कोई अच्छाई तो नहीं मिलेगी पर खामियां बताते नहीं थक सकते।

कबीर सिंह के कुछ डाईलोग जैसे “वो मेरी बंदी है”, और यह जरूर देखने वाली बात है कि यह बात वह प्रीति से मिलने या बात करने के पहले जा कर कॉलेज में लड़कों को धमका कर कहता है। साथ ही कबीर सिंह प्रीति से एक सीन में कहता है “प्रीति, चुन्नी ठीक करो”…

पूरी फिल्म में हम लड़की को सिर्फ सलवार सूट में ही देखते हैं, क्यूंकि लड़कियां संस्कारी तो सिर्फ सलवार-सूट पहने वाली ही होती हैं। क्यों ठीक कहा ना मैंने?

कपड़े ढंग के पहना कर, तीन-तीन मर्द घूम रहे हैं यहां पर!

ऐसा ही एक डायलॉग हाल ही में आयी उजड़ा चमन फिल्म में हमने सुना था कि “पुष्पा, हजार बार मैंने बोला है कपड़े ढंग के पहना कर। तीन तीन मर्द घूम रहे है यहां पर” क्यूंकि गलती आदमियों की गलत नजर की थोड़ी है। गलती तो औरतों के कपड़ों में है, जैसा कि हमारे देश के तमाम नेता हमेशा से कहते आये हैं।

कबीर सिंह जैसी फिल्म पर काफी विवाद हो चुके है, और हर बार हैरानी यही होती है कि ऐसे कई लोग है आदमी और औरतें दोनों जो अभी भी कहते है कि यह सिर्फ मनोरंजन है।

‘फिल्म ही तो है’ की मानसिकता

पर हम सब जानते हैं कि फ़िल्मों में दर्शाये जाने वाले व्यावहार, विचार और किरदार का लोगों की मानसिकता पर काफी प्रभाव पड़ता है।

मनोरंजन के नाम पर गलत सोच को रोमैन्टिसाइज़ करके या हास्य रूप में दर्शा के हम उससे सिर्फ मनोरंजन नहीं कह सकते। ऐसे ही लोग दूसरों के लैंगिकता पर, शरीर पर व्यंग कर उसे ‘मजाक कर रहे थे’ बोल देते हैं।  लड़कियों के साथ छेड़-छाड़ कर कह देते हैं कि ‘अरे उसने तो कपड़े ही ऐसे पहने तो हमारी क्या गलती’ या ‘रात को अकेली क्यों घूम रही थी?’

मुंबई पुलिस की अनोखी पहल

मुंबई पुलिस की ये पहल हमें एक बार फिर समाज की महिला विरोधी मानसिकता के बारे में सोचने और उसे खत्म करने को प्रोत्साहित करती है।

उनका ये कहना कि ‘सिनेमा हमारे समाज का आईना है। यहां (बहुत सारे में से) कुछ डायलॉग हैं जिस पर हमारे समाज और सिनेमा दोनों को विचार करने की जरूरत है। अपने शब्दों और एक्शन को सावधानी के साथ चुनें, वरना आपको कानून का सामना भी करना पड़ सकता है।’

समय बदल रहा है, लेकिन समाज, उसकी फिल्में और उसके पितृसत्तात्मक विचार वहीं के वहीं और आज भी एंटरटेनमेंट का माध्यम हैं! माना कि कुछ हद तक फ़िल्मों में दिखाए जाने वाला पात्र बदल रहे हैं पर ज़्यादातर फ़िल्में हमें फिर उसी मानसिकता की ओर ले जाती हैं जहां से आगे बढ़ने में हमें इतनी बाधाओं का सामना करना पड़ रहा है।

मूल चित्र : Mumbai Police via Instagram 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

टिप्पणी

About the Author

Mrigya Rai

A student with a passion for languages and writing. read more...

35 Posts | 276,499 Views
All Categories