कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

pitrasatta
रेणुका शहाणे की फिल्म त्रिभंग ने एक बार फिर इन मुद्दों को चर्चा का विषय बनाया है 

रेणुका शहाणे की फिल्म का शीर्षक ‘त्रिभंग’ नृत्य की एक जटिल भंगिमा से लिया गया है जो एक ऐसी स्त्री अपने लिए प्रयोग करती है जिसके रिश्ते 'आदर्श' से बहुत दूर हैं। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
मेरी बेटी को हाथ मत लगाना वरना…

देख पायल, मैंने हमेशा छोरे की ख्वाहिश रखी, अब या तो तू इस बच्ची को किसी को दे दे या मैं तुझे छोड़ रहा हूँ, देख ले तुझे क्या करना है। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
ये समाज ठहरे पानी सा सड़ने लगा है पर तुम जलकुम्भी रहना…

भारत में सन 2019 में 32033 बलात्कार हुए यानि की एक दिन में 87 से भी कुछ ज़्यादा!फिकरे, जुमले, सीटियाँ, छेड़खानी आम है हिन्दुस्तान में।

टिप्पणी देखें ( 0 )
ये आधी-आबादी आज भी ढूंढ रही है समानता वाला स्वतंत्र गणतंत्र…

हम स्वतंत्र गणतंत्र की बात कैसे करें जब आज भी आधी आबादी का एक बड़ा हिस्सा कई तरह की असमानताओं का सामना करने के लिए विवश है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
अच्छी बहु बनने के लिए साड़ी पहनना ज़रूरी नहीं…

ये तस्वीरें देख निष्ठा को दो महीने पहले की बात याद आ गई जब वो हनीमून से वापस आयी थी तब सासूमाँ ने कैसा बखेड़ा शुरू किया था। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
त्रिभंग में रची गयी औरत की गरिमा को भँग करती है वेब सीरीज़ तांडव…

वेब सीरीज़ तांडव में हर महिला किरदार को अंतत: एक वेश्या केटेगिरी में लाकर खड़ा कर दिया, फिर चाहे वे प्रधानमंत्री हो या स्टुडेंट, डीन या डिफेंस मंत्री।

टिप्पणी देखें ( 0 )
post_tag
pitrasatta
और पढ़ें !

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020