कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

किताबें
जाने मने और आधुनिक भारतीय लेखिखाओं के पुस्तक समीक्षा और लेखिखाओं के इंटरव्यू
महिलाएं किताबें पढ़ती कम और उन्हें जीती ज़्यादा हैं…

जब यह बात मैंने अपने कुछ महिला साथियों से पूछी, तो उन्होंने मिली-जुली प्रतिक्रिया दी, जिसको वाक्य में समेटने का प्रयास मैंने किया है...

टिप्पणी देखें ( 0 )
काली बकसिया : साधारण परिवारों की ज़िंदगी के इर्द-गिर्द घूमती कहानियां

लेखिका आभा श्रीवास्तव के नया कहानी संग्रह काली बकसिया की सभी कहानियाँ साधारण परिवारों की रोज़मर्रा की ज़िंदगी के इर्द-गिर्द ही घूमती हैं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
मैं कभी कश्मीर नहीं गई : प्रज्ञा सिन्हा की बेहद खूबसूरत कविताओं की एक एन्थोलॉजी

प्रज्ञा सिन्हा की बेहद खूबसूरत 25 कविताओं की एन्थोलॉजी 'मैं कभी कश्मीर नहीं गई' के बारे में आज हम उन से इस इंटरव्यू में बात कर रहे हैं!

टिप्पणी देखें ( 0 )
जसविंदर संघेरा की किताब ‘डॉटर्स ऑफ़ शेम’ ने मेरी आँखें खोल दीं…

जसविंदर संघेरा कहती हैं कि बाहर बसे ये लोग ज़्यादातर भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेश के थे, और ये नहीं चाहते थे कि उनके बच्चे अपनी मर्ज़ी से शादी करें। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
अमृता प्रीतम की कविताएं एक नारी की अंतरंग भावनाओं का प्रतिबिंब हैं!

अमृता प्रीतम की कविताएं कहती हैं कि उन्होंने कभी भी समाज के बंधनों को नहीं माना, समाज के दकियानूसी उसूलों पर सवाल उठाने में अमृता कभी पीछे नहीं रहीं।

टिप्पणी देखें ( 1 )
लेखिका शिवानी की ‘चौदह फेरे’ और ये 6 उपन्यास और कहानियां मेरे मन के बेहद करीब हैं!

भारत हिंदी साहित्य के इतिहास का एक सुनहरा युग थीं मशहूर लेखिका शिवानी, इस आम भारतीय स्त्री की कलम से लिखी गई कहानी हर एक को अपनी सी लगती है।

टिप्पणी देखें ( 0 )

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020