कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

महिला पुलिस भर्ती के नियम क्या हैं? रखें इन बातों की जानकारी

महिला पुलिस भर्ती के नियम भारत में क्या हैं? इसके लिए आवेदन कैसे करें? लिखित परीक्षा में क्या क्या पूछा जाता है? जानिये सब विस्तार में...

महिला पुलिस भर्ती के नियम भारत में क्या हैं? इसके लिए आवेदन कैसे करें? लिखित परीक्षा में क्या क्या पूछा जाता है? जानिये सब विस्तार में…

जैसे-जैसे अधिक से अधिक महिलाएँ शिक्षित हो रही हैं उनके लिए रोज़गार और नई उपलब्धियों के रास्ते खुल रहे हैं। ऐसे में बढ़ती बेरोज़गारी का ये दौर उनकी बढ़त पर एक बड़ी रोक लगा देता है। पर इस दौर में भी कुछ ऐसे मौके हैं जो महिलाओं को एक सबल जीवन दे सकते हैं। जैसे कि भारतीय पुलिस सेवा बल।

भारत के पुलिस बलों में केवल 7% महिलाओं की ही भागीदारी है। किसी भी राज्य ने अपने आरक्षित कोटों के अनुसार पूरी तरह से पात्र महिला अधिकारियों की बहाली नहीं कर पाई है। आज के समय में महिलाएँ जहाँ हर क्षेत्र में अपना स्थान बना रही हैं वहीं भारतीय पुलिस बलों में महिलाओं का योगदान इतना कम है। पुलिस में 7%, और जेल कर्मचारियों में केवल 10% महिलाएँ कार्यरत हैं। इसके अलावा न्यायपालिकाओं में केवल 26.5 महिला जजों का ही योगदान है।

महिलाएँ पुलिस भर्ती के लिए क्या करें(Mahila Police Bharti Kaise Hoti Hai)

पुलिस में भर्ती होने के लिए सर्वप्रथम एक लिखित परीक्षा देनी होती है। लिखित परीक्षा में उत्तीर्ण होने के बाद शारीरिक परीक्षा के दौर से गुज़रना होता है जिसमें दौड़ लगानी होती है। इसके बाद एक शारीरिक जाँच होती है जिसे मेडिकल टेस्ट कहते हैं। हालांकि कुछ राज्यों में लिखित परीक्षा नहीं होती और केवल शारीरिक परीक्षा और मेडिकल टेस्ट के आधार पर ही भर्ती की जाती है।

कैसे करें आवेदन

ज्ञात हो कि भारत के हर राज्य में पुलिस भर्ती के आवेदन के लिए एक अलग बोर्ड होता है और यह अलग-अलग समय पर भर्ती के लिए आवेदन खोलते हैं। तो आपको अपने प्रदेश के पुलिस भर्ती बोर्ड की सूचनाओं के प्रति सजग रहन होगा। उदाहरण के तौर पर अगर आप उत्तर प्रदेश से हैं तो आप उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती बोर्ड (UPPRB) पर आवेदन कर सकती हैं। आवेदन के लिए आपके पास सभी पात्रताएँ होनी चाहिए।

UPPRB पर लॉग इन करके एक रजिस्ट्रेशन फ़ॉर्म भरकर व शुल्क जमाकर आप अपना आवेदन कर सकती हैं। महिलाओं के लिए आवेदन शुल्क पुरुषों से कम और लगभग 100 रुपये होता है। पर यह हर राज्य में अलग-अलग हो सकता है।

क्या है महिला पुलिस भर्ती की पात्रता के नियम(Mahila Police Bharti Ke Liye Test)

पुरुष और महिला पुलिस भर्ती के नियम लगभग एक जैसे हैं पर कुछ नियमों में थोड़ा बहुत अंतर है। भारत के हर राज्य में पुलिस भर्ती के नियमों में कुछ न कुछ अंतर होता है। इसलिए आवेदन से पहले अपने राज्य के पुलिस भर्ती नियमों के बारें में अवश्य जान लें।

आवेदन के लिए आपकी आयु 18-27 वर्ष होनी चाहिए। आरक्षित वर्गों के लिए आयु सीमा में कुछ छूट होती है।

Never miss real stories from India's women.

Register Now

12वीं कक्षा तक पढ़ाई ज़रूरी है। अगर आप 12वीं पास हैं तो पुलिस भर्ती के लिए आवेदन कर सकती हैं।

आवेदन के बाद लिखित परीक्षा की तैयारी करनी होगी। इस परीक्षा में 10वीं स्तर तक के सवाल पूछे जाते हैं। इसकी तैयारी करने के लिए पुलिस भर्ती किताब खरीद कर पढ़ सकती हैं। ध्यान रहे कि हर राज्य की “पुलिस भर्ती किताब” अलग-अलग होती है।

अगर आप लिखित परीक्षा उत्तीर्ण कर लेती हैं तो आपको शारीरिक परीक्षा देनी होगी जिसमें 18 मिनट में 2.5 किमी की दौड़ लगानी होगी। अगर यह दौड़ 14 मिनट में पूरी की गई तो 100 अंक प्राप्त होते हैं, 14-16 मिनट में पूरी की गई दौड़ में 80 अंक व 16-18 मिनट में पूरी की गई दौड़ में 60 अंक प्राप्त होते हैं।

इसके बाद आपकी शारीरक जाँच होगी जिसमें आपके वज़न और लंबाई की जाँच होती है। महिलाओं के लिए वज़न 40 कि.ग्रा. और लंबाई 160 सेमी निश्चित की गई है। आरक्षित वर्गों के लिए लंबाई 157 सेमी तय की गई है।

लिखित परीक्षा का प्रारूप

पुलिस भर्ती के लिए लिखित परीक्षा में 120 मिनट (2 घंटे) का समय दिया जाता है जिसमें सामान्य ज्ञान (general awareness), भाषा (language skills), संख्यात्मक और मानसिक क्षमता (numerical and mental ability) पर प्रश्न होते हैं। हर सेक्शन 100 अंकों में विभाजित किया गया है और यह प्रश्न-पत्र कुल 400 अंकों का होता है।

परीक्षा दो भाषाओं में होती है। हिन्दी भाषी राज्यों के लिए अँग्रेजी और हिंदी में और अहिंदी भाषी राज्यों के लिए अँग्रेजी के अलावा उस राज्य की क्षेत्रीय भाषा में। इस परीक्षा में उत्तीर्ण होने के लिए हर सेक्शन में 35% अंक प्राप्त होने चाहिए और कुल 50% अंक होने चाहिए। इस परीक्षा की तैयारी आप अपने राज्य की पुलिस भर्ती किताब से कर सकती हैं और साथ ही इन्टरनेट पर आसानी से उपलब्ध मॉक टेस्ट से भी कर सकती हैं।

अगर बनना हो पुलिस अफ़सर

भारतीय पुलिस में आवेदन करने से पहले आपको अपने मन-मस्तिष्क में यह स्पष्ट होना ज़रूरी है कि आप किस पद के लिए आवेदन करना चाहती हैं। क्योंकि हर पद के लिए भर्ती के नियम और तरीके में फ़र्क होता है।

अगर आप पुलिस अफ़सर बनना चाहती हैं तो आपको IPS (इंडियन पुलिस सर्विस) के अंतर्गत आवेदन करते हुए परीक्षा पास करनी होगी। इसके साथ ही तय नियमानुसार आपकी पात्रता होनी चाहिए जिसमें आपकी उम्र, वज़न, लंबाई और शारीरक क्षमता आती है।

शिक्षा के किसी भी क्षेत्र से 12वीं/स्नातक/परा स्नातक करने के बाद आप पुलिस अफ़सरी की परीक्षा दे सकती हैं।

शैक्षिक पात्रता

पद का नाम पात्रता भर्ती केलिए परीक्षा
एसपी/एएसपी उम्र कम से कम 21 वर्ष और स्नातक उपाधि IPS
असिस्टेंट कमिश्नर या डीएसपी उम्र कम से कम 21 वर्ष और स्नातक उपाधि IPS
सर्कल इंस्पेक्टर और सब इंस्पेक्टर स्नातक उपाधि स्टाफ़ सिलेक्शन कमीशन (एसएससी)
असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर हेड कॉन्स्टेबल के रूप में 5-7 वर्ष का अनुभव या फिर सब इंस्पेक्टर के रूप में कई बार पदोन्नति। स्टेट लेवेल भर्ती परीक्षा (एसएससी)
पुलिस हेड कॉन्स्टेबल 12वीं स्टेट लेवेल भर्ती परीक्षा (एसएससी)
हेड कॉन्स्टेबल 12वीं, उम्र 18 वर्ष से 25 वर्ष स्टेट लेवेल भर्ती परीक्षा (एसएससी)

किस-किस राज्य में है महिलाओं के लिए पुलिस भर्ती में आरक्षण

तेलंगाना, महाराष्ट्र, राजस्थान, तामिलनाडु, ओड़ीशा, मध्य प्रदेश, सिक्किम, झारखंड, त्रिपुरा और गुजरात ऐसे राज्य हैं जहाँ महिलाओं के लिए पुलिस बलों में 30% या उससे ज़्यादा का आरक्षण मौजूद है। यह आरक्षण उप निरीक्षक पद तक की भर्ती के लिए उपलब्ध है।

ज़रूरी है कि महिलाएँ पुलिस बलों में भर्ती के लिए आवेदन करें। यह एक सरकारी और सम्माननीय पेशा है। साथ ही अधिक से अधिक महिलाओं के होने से पुलिस बलों में संवेदना का भाव बढ़ेगा।

महिला अपराधियों, बच्चों और पीड़िताओं के प्रति जिस प्रकार के स्वभाव और कार्यशीलता की अवश्यकता होती है, उसका अक्सर पुरुषों में अभाव होता है। साथ ही अधिक से अधिक महिला पुलिस कर्मियों की मौजूदगी से पुलिस व जेल परिसरों या सुधार गृहों में पीड़िता या महिला अपराधी ज़्यादा सुरक्षित महसूस करेंगी।

अभी बहुत देर नहीं हुई है और समय आ चुका है कि माहिलाएँ अब भारतीय पुलिस बलों में भी अपनी योग्यता सिद्ध करें और अपना वर्चस्व स्थापित करते हुए वहाँ एक बराबरी के वातावरण का निर्माण करें।

मूल चित्र : PTI via The Wire 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

टिप्पणी

About the Author

27 Posts | 84,218 Views
All Categories