कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

Suchetana Mukhopadhyay

Dreamer...Learner...Doer...

Voice of Suchetana Mukhopadhyay

माँ और मैं – क्या माँ हर बार की तरह अपनी बिटिया को समझ जायेंगी?

'माँ और मैं', एक बेटी और उसकी माँ में होने वाली गुफ़्तगू को अपने दिल के करीब पाएंगे और ये अंदाज़ा लगा पाएँगे कि कौन किसको, कितना जानता है, कितना समझता है।  

टिप्पणी देखें ( 0 )
बहा ले जाएँगी एक दिन मुझे, मन की कश्तियाँ अपने संग!

लहरों में कश्तियाँ भी होती हैं कुछ, जिन पर निकल जाती हूँ मन ही मन, फिर मेरा लौटना ज़रूरी हो जाता है, व्यवस्थाओं को सींचने शायद!

टिप्पणी देखें ( 0 )
क्या अगस्त क्रांति की इन असमिया वीरांगनाओं को आप जानते हैं?

भारत छोड़ो आंदोलन में समाज के हर छोर से ऐसी ही औरतें शामिल हुईं जिन्होंने अपने साहस, नेतृत्व और त्याग से भारत में नारीवाद का एक नया इतिहास लिखा।

टिप्पणी देखें ( 0 )
साइकिल पर सवार, पैरों में पहिए और पहियों में हौंसला

'साईकल पर सवार उसकी ज़िन्दगी अब संतुलित होने को है।' विश्व साईकल दिवस के अवसर पर एक सच्ची कहानी, जिसे बहुतों ने जिया है, अपने-अपने तरीकों से। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
डमी क्या चीज़ होती है जी

"भाभी को सरपंच पद पर चुनाव में खड़ा कर दीजिये भैया। इससे चित और पट दोनों आप ही के रहेंगे। है कि नहीं?"

टिप्पणी देखें ( 0 )
राष्ट्रमाता मूलमती देवी-प्रसिद्ध क्रांतिकारी और कवि रामप्रसाद बिस्मिल की महीयशी माँ

माँ मूलमती के लिए रामप्रसाद बिस्मिल ने लिखा, "यदि मुझे ऐसी माता नहीं मिलती तो मैं भी अति साधारण मनुष्यों के भांति संसार चक्र में फंस कर जीवन निर्वाह करता।"

टिप्पणी देखें ( 0 )
यदि आज की नारी के साथ सीता, द्रौपदी और ना जाने कितनी और बोलें तो?

क्या होगा अगर अब कह दूँ, मेरे प्रश्नों के कोई उत्तर किसी के पास नहीं थे, तो जीवित दफ़ना कर मुझे देवी बना दिया! सदियाँ बीत गईं, यह इक्कीसवीं सदी है ना?

टिप्पणी देखें ( 0 )
थेरी गाथा-हमारे लिए कोई धर्म नहीं बना

भिक्षुओं से चौरासी नियम अधिक हमारे लिए रच कर, हे मर्द महाबोधि, आप ने भी साबित कर दिया, औरतों के लिए कभी कोई धर्म नहीं बना। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
गौमाता

गौमाता के कितने भक्त! पर क्या इनमे से किसी को उसकी ज़रा सी भी फ़िक्र है?

टिप्पणी देखें ( 0 )
नई कविता

एक नयी कविता जो अभी मन के झरोखे से निकली है। क्या शांति में ही सदैव समझदारी है - दो लघु कविताएं। 

टिप्पणी देखें ( 0 )

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020