कला और संस्कृति
इस सीज़न डांस फ्लोर पर धूम मचाएंगे आप और डांडिया और गरबा के ये हिट गाने

डांडिया और गरबा के हिट गाने, जो हर डांडिया नाइट की जान हैं और इन पर सब डांस कर रहे हैं क्यूंकि इनके बिना ये नवरात्री अधूरी है।  

टिप्पणी देखें ( 0 )
दुर्गा पूजा : ये ही है सच्चे मायनों में अपनों की घर वापसी का उत्सव

दुर्गा पूजा के बारे में दिल्ली में रहते हुए सुना तो बहुत था। कभी-कभी पास की बंगाली कम्युनिटी में जाकर उत्सव देखा भी था, पर कभी दिल के इतने करीब नहीं था।

टिप्पणी देखें ( 0 )
मेरे हृदय के तारों को सुर से मिलाती, बेमिसाल जादुई फ़नकार है हिंदी!

मेरे हृदय के तारों को सुर से मिलाती, बेमिसाल जादुई फ़नकार है हिंदी, मेरी मातृभाषा का मान सहेजे, माँ सा अपनत्व और व्यवहार है हिंदी!

टिप्पणी देखें ( 0 )
हिंदी मेरी मातृभाषा – मेरी शान, मेरी आन

बोलने में हिंदी होता है ख़ुद पे गर्व, सीखने में हिंदी करती हूं फक्र। हिंदी मेरी है संस्कृति, हिंदी मेरी है विरासत। हिंदी है मेरी आन, हिंदी है मेरी शान।

टिप्पणी देखें ( 0 )
हिन्दी मेरा अभिमान – मेरा गर्व, मेरा सम्मान, मेरी सोच, मेरा ज्ञान है

मुझे विदेशी भाषाओं से नफरत नहीं। हम चाहे कितना भी घूम लें, सुकून तो घर आकर ही मिलता है, वैसा ही हिन्दी में एहसास है। हिन्दी के लिए क्या बताऊँ, वो तो मां है!

टिप्पणी देखें ( 0 )
हिन्दी मां है, रूह है मेरी – हर दिन हिन्दी दिवस है मेरा उसपे क्या लिखूं

चाहे कितने देश घूमें करे जतन, मातृभाषा का सुकून है वैसा, जैसा लौट के घर आओ तो झूमे मन, हर दिन हिन्दी दिवस है मेरा, हर दिन उसके ही नाम जियूं। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
topic
art-culture
और पढ़ें !

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?