कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

अब आपकी ये नालायक़ बहु चुप नहीं बैठेगी…

Posted: मार्च 1, 2021

क्या जो तुमने पहले किया वो शादी के बाद भी कर रही हो? नहीं ना? तो जाकर चुपचाप नॉन-वेज बनाओ और नहीं बनाना तो अपने बाप के घर चली जाओ।

कमरे के अंदर बैठी रिद्धिमा को आज उसकी सास गीता आस-पड़ोस की महिलाओं के सामने जी भर के बदुआएँ दे रही थी। अंदर बैठी रुआँसी रिद्धिमा सभी बातें सुन रही थी, लेकिन उसको इसका कोई फर्क नहीं पड़ रहा था।

तभी दरवाजे पर दस्तक हुई, रिद्धिमा ने देखा तो उसकी जेठानी एकता खड़ी दिखी, “भाभी आप यहाँ?”

“हाँ,मैं! क्यों नहीं आ सकती?” अंदर कमरे में आते हुए एकता ने कहा, “चलो नहा-धोकर नाश्ता करके तैयार हो जाओ वकील साहब भी आते होंगे”, कहकर एकता वहाँ से जाने लगी।

तभी रिद्धिमा ने पीछे से एकता का हाँथ पकड़ लिया और कहा, “भाभी आप मुझसे नाराज नहीं हैं? आप को कोई शिकायत नहीं मुझसे? मैंने जेठ जी(अमर) को जेल भेज दिया।”

मुस्कुराते हुए एकता ने रिद्धिमा के सिर पर प्यार से हाँथ रखते हुए कहा, “नहीं रिद्धिमा! बिलकुल भी नहीं, तुमने जो किया, उसके लिए बहुत साहस चाहिये। हर औरत इतना साहस नहीं जुटा पाती। जो तुमने किया कम से कम वो मेरे बस की बात तो नहीं थी, वरना दस सालों से मैं इन लोगों की गलियां और मार नहीं खाती।”

“शादी के समय मेरे मायके में सब मेरी खुशकिस्मती पर खुश हो रहे थे कि इतने रईस खानदान में शादी हो रही है। लेकिन शादी के एक सप्ताह बाद ही अमर ने मुझे पहला थप्पड़ मारा और मैं चुप हो गयी, और असलियत भी समझ गयी। उसके बाद तो ये सिलसिला बढ़ता ही गया कभी पति कभी देवरजी (अमन) तो कभी माँजी सब मुझे मारते।

एक बार हिम्मत कर के मायके में बताया तो सबने कहा, ‘बेटा अब तेरी किस्मत में यही लिखा था तो हम क्या कर सकते हैं, तेरा भाग्य ही खराब है। और ये बात मैंने भी मान ली और खुद के मन को भी मना लिया। लेकिन, अब मैंने सोच लिया है कि अब ना डरूँगी ना अपनी बेटी को डरपोक बनाऊंगी।”

दरअसल रिद्धिमा की शादी अमन से हुए अभी सिर्फ छ:महीने ही हुए थे। शादी के समय बताया गया कि लड़का कोई नशा या बुरी आदत का शिकार नही, अमन बात भी बहुत अच्छे से करता था तो देखकर कोई ये नहीं कह सकता था कि अमन में कोई कमी होगी। ससुराल भी खानदानी रईस था।

उस दिन अमन ने रिद्धिमा से सबके सामने कहा, “रिद्धिमा आज तुम नॉनवेज बनाओगी।”

रिद्धिमा ने जवाब में कहा, “लेकिन अमन मुझे नानवेज नहीं आता बनाने, मैंने नानवेज ना कभी खाया है ना कभी बनाया है, ये तो तुम जानते ही हो।”

“क्या जो तुमने पहले किया वो शादी के बाद भी कर रही हो? नहीं ना? तो जाकर चुपचाप नानवेज बनाओ और अगर नहीं बनाना तो अपने बाप के घर वापिस चले जाओ।”

“अमन तमीज से बात करो। खबरदार मेरे मायके के लिए कुछ भी कहा तो।”

“तो क्या?” कहते हुए अमन रिद्धिमा को गाली देने लगा, और एक थप्पड़ रिद्धिमा के गाल पर दे मारा।

पलटकर रिद्धिमा ने भी दो थप्पड़ मारते हुए कहा, “गाली देना और मारना मुझे भी आता है।”

ये देखकर उसकी सास का गुस्सा सातवें आसमान पर हो गया उन्होंने कहा, “तेरी इतनी हिम्मत कि  तू मेरे बेटे को मारे? रुक…” फिर सब मिलकर रिद्धिमा को मारने लगे। किसी तरीक़े से खुद को बचाकर रिद्धिमा अपने कमरे में भागी और दरवाजा अंदर से बंद कर लिया। अंदर से उसने तुरंत पुलिस को फोन कर सारी जानकारी दी।

पुलिस आयी तो उसने दरवाजा खोला और सारी बात बतायी। अमर और अमन को पुलिस साथ लेकर गयी लेकिन गीता जी की उम्र को देखकर और औरत होने के नाते उनको सिर्फ चेतावनी देकर घर पर ही छोड़ दिया।अपने साथ नहीं ले गयी।

तैयार होकर रिद्धिमा नाश्ता करने आई तो गीता जी की नजर रिद्धिमा पर गयी और वो शुरू हो गयी, “कैसी नालायक़ बहु मेरे घर मे आ गयी। हमारी तो किस्मत ही फूट गयी। इसको ज़रा भी शर्म नहीं। अपने पति और जेठ को थाने भेजकर खुद खाना खा रही है? ना जाने कैसी परवरिश की है इसकी माँ ने इसकी जो थोड़ा भी लिहाज ना रहा समाज का।

मैंने भी मार खाया है गाली खायी हैं अपने पति से, एकता भी मार खाती थी। मैं तो नहीं गयी पुलिस स्टेशन। जा निकल जा अभी के अभी मेरे घर से। और ये श्रृंगार किसके लिए जब पति ही नहीं घर में देखने के लिए, नालायक़ कहीं की।”

रिद्धिमा ने अपनी सास को पलट के पूछा, “हो गया कि अभी कुछ और बाकी है? नहीं तो अब मेरी बात बहुत ध्यान से सुनिये। ये घर सिर्फ आपका ही नहीं मेरा भी है। इस पर जितना आपका अधिकार है उतना ही मेरा भी है। कानूनी और सामाजिक दोनों तरीकों से। क्योंकि मैं इस घर की बहू और आपके बेटे की पत्नी हुँ। अभी मेरा तलाक नहीं हुआ, लेकिन अगर हुआ भी, तो भी इसमें मेरा हिस्सा होगा।

और ज़रूरी नहीं की जो आपके साथ हुआ वो मेरे साथ भी हो? दूसरी बात मेरी मां ने मेरी परवरिश बहुत ही अच्छे से की है। उन्होंने ने मुझे दूसरे को मान सम्मान देना और खुद का सम्मान बचाना दोनो सिखाया है।

और रही बात मेरे श्रृंगार की, तो एक औरत श्रृंगार सिर्फ अपने पति को या किसी पुरुष को दिखाने के लिए नहीं खुद के लिए भी करती है।

अब आप बताइए कि कैसी परवरिश की है आपने अपने बेटों की जो औरतों को सिर्फ इस्तेमाल की वस्तु और अपने पैरों की जूती समझते हैं? आपने झूठ बोलकर अपने नालायक शराबी बेटों की शादी करके बहु को ही नालायक़ साबित करने लगीं? आपके बेटो का चित्र और चरित्र दोनों ही खराब है लेकिन आपके लिए वो लायक है? वाह क्या पसन्द है आपकी!”

एक चीज आपको बता दूँ मैं ‘शठे शाठ्यं समाचरेत’ यानी दुष्ट के साथ दुष्टता का व्यवहार ही करना चाहिए के नियम का पालन करती हूँ। अच्छा, भाभी चलती हूँ।”

कहकर रिद्धिमा पुलिस स्टेशन पहुंची तो वहाँ अमन और अमर के सुर बदले हुए थे। उन्होंने रिद्धिमा को देखते उसके आगे हाथ जोड़कर गिड़गिड़ाने लगे कि हमें माफ करो दो एक आखिरी मौका बस। सबके समझाने पर रिद्धिमा ने भी माफ किया और उन के साथ वापिस घर आ गयी। घर आकर देखा तो उसके पापा आये हुए थे।

रिद्धिमा के पापा उसको देखते तुरन्त उठकर आये और पूछा, “क्या हुआ बेटा?”

रिद्धिमा के कुछ बोलने से पहले ही अमर और अमन एक साथ बोल पड़े, “कुछ तो नहीं बाबूजी, आप यहाँ कब आये? आइये बैठिए।”

“समधनजी आप तो कह रही थीं कि…”

तभी अमर और अमन ने घूरती निगाहों से अपनी माँ की तरफ देखा तो वो समझ गयी कि कोई बात है, तो बीच में बोल पड़ी, “अरे मैंने तो मजाक किया था समधी जी ताकि आपको घर बुला सकूँ।”

रिद्धिमा के पापा माजरा समझ चुके थे लेकिन वो अनजान बने रहे और रिद्धिमा से कहा,“बेटा, शाबाश मुझे तुझ पर गर्व है, लेकिन एक बात और बेटा जब भी तुझे मेरी जरूरत हो, तो बस तू एक फोन अपने पापा को कर देना, मैं तुरंत तेरे पास आ जाऊंगा। तुझे विदा करके मैने  सामाजिक रीत निभाई है तुझे बेचा या दान नहीं दिया है।”

और गीता जी से कहा, “चलता हुँ समधनजी उम्मीद करता हूं ऐसे मजाक की आपको दुबारा आवश्यकता ना पड़े।” कहकर वो चले गए।

इधर गीता जी ने उनके जाते ही गुस्से में गरजती आवाज में अपने बेटो से कहा, “क्या ये तुम लोग भीगी बिल्ली बने हुए हो? झूठ क्यों बोला रिद्धिमा के पापा से? बता देते इस नालायक़ की सच्चाई।”

तब अमर अपनी माँ का हाँथ पकड़कर कमरे में ले आया और कहा, “तो क्या करें जेल में पड़े रहते हम, और हमारे साथ आप भी? वैसे भी पूरी रात थाने में बिता कर दिमाग खराब है। हमने जब पुलिस और वकील से बात की तो सबने यही कहा कि रिद्धिमा ने केस किया तो उसके जितने के चांसेज ज्यादा हैं। फिर वो आराम से इस घर मे रहेगी और हम तीनों जेल में। हर्जाना और हिस्सा दोनो देना पड़ेगा समझ आया।”

कमरे के बाहर से एकता और रिद्धिमा ने सब कुछ सुना और एक साथ मुस्कुरा पड़े। अब आगे क्या करना है उन्हीं पता था।

अगर आपके साथ ग़लत हो रहा है तो आपको चुप्पी नहीं रखनी चाहिए, गलती इसमें आपकी नहीं चाहे समाज कुछ भी बोले। रिद्धिमा की कहानी और उसके साहस से हर औरत को प्रेरणा लेनी चाहिए और बिना डरे घरेलू हिंसा के ख़िलाफ़ आवाज़ उठानी चाहिए।

मूल चित्र: Screenshot from Short Film Maa, YouTube(for representational purpose only)

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020