कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

Arsin Fatma

Arshin Fatmia

Voice of Arsin Fatma

दादी, हमें आप लोगों की ज़रूरत नहीं है…

माँ बहुत कोशिश करतीं थीं कि आंसू ना बहे, खासकर बच्चों के सामने मगर जब दर्द हद से ज्यादा बढ़ जाता था तो आंसू अपने आप ही निकल आते...

टिप्पणी देखें ( 0 )
चाहे बुढ़ापे में जाऊं लेकिन मैं हनीमून पर जाऊँगी ज़रूर…

उसका कितना मन था कि मंगनी के बाद दोनों की बातचीत शुरू हो जाए। मगर पवन ने ना तो बहन से नम्बर मंगवाया ना तो खुद चुपके से उसे फोन किया।

टिप्पणी देखें ( 0 )
वो खुद परेशान थी मगर उसने दूसरा घर संवार दिया…

मैं सब कुछ बर्दाश्त कर लूंगा मगर मेरे बच्चों की बारी आएगी तो बिल्कुल बर्दाश्त नहीं करुंगा। वो उसे समझाने की हर कोशिश कर रहा था और आज...

टिप्पणी देखें ( 0 )
उनकी ज़िद ने उसे बहु तो बनाया मगर पत्नी नहीं…

वो बता भी नहीं पाई कि कोई है जो उससे शादी करना चाहता है। उसकी मामूली शक्ल से उसे कोई दिक्कत नहीं है। उसने सिर्फ उसकी सीरत देखी थी। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
हमेशा मेरे बच्चों को खुश रखना!

जब भी जरूरत होगी एक आवाज़ देना तुम्हारा ये भाई हमेशा तुम्हारे साथ खड़ा मिलेगा, मरते दम तक...

टिप्पणी देखें ( 0 )
जलन ने एक परिवार ही खत्म कर दिया…

दीदी से बात होती तो जीजाजी के दोस्त की फैमिली की तारीफ ही करतीं थीं फिर ये सब कैसे हो गया...

टिप्पणी देखें ( 0 )
तेरी पत्नी मेरी भी तो कुछ लगती है…

बस कर लल्ला! ज्यादा मत बोल। सबका दिल एक जैसा नहीं होता। इसको प्यार की जरूरत है इस तरह करोगे तो वो और बीमार हो जाएगी।

टिप्पणी देखें ( 0 )
और आप तो कुछ बोलते ही नहीं हैं…

उसको लगता कि जब से उसकी जब से शादी हुई तब से आजादी खत्म हो गई थी। पति भी कभी कुछ नहीं बोलते लेकिन एक दिन ऐसा कुछ हुआ कि...

टिप्पणी देखें ( 0 )
और मेरे घर में एक ही हॉट टॉपिक था…मेरी शादी!

बस मम्मी बस! अब और नहीं। क्या चाहतीं हैं आप? घर का काम करुं? शादी कर लूँ? कब करना है? आज? आपका जब दिल करे, आप करवा दीजिए।

टिप्पणी देखें ( 0 )
कौन गलत कौन सही, अब ये कहना मुश्किल था…

उन्होंने तो मना कर दिया मगर क्या अवि गलत था या नैना? दोनों को उसकी खुशी प्यारी थी मगर उन्हें लगता था जब इतना वक्त  गुजर गया है तो...

टिप्पणी देखें ( 0 )
और एक दिन मैंने अपनी ये खामोशी तोड़ दी…

सब उससे हमदर्दी रखते, अफ़सोस भी करते कि हाय बेचारी बहुत सीधी है, हाय बेचारी जबसे आई है कभी ऊंची आवाज में बोली नहीं, हाय बेचारी!

टिप्पणी देखें ( 0 )
वारिस चाहिए! क्यों आज भी लड़की पैदा होने पर अपनी बहु को सुनाते हैं ये लोग?

तुम लोगों ने मुझे क्या कोई मशीन समझ रखा है कि एक के बाद दूसरी, तीसरी, अब फिर?अकल-वकल है तुम लोगो में? मैं इन्सान हूँ जानवर नहीं...

टिप्पणी देखें ( 0 )
बेटा, मुझे तुम्हारे पैसे नहीं तुम्हारा साथ चाहिए…

मुझे पेंशन मिलता है बच्चों, मुझे तुम्हारे पैसों की जरूरत नहीं है। मैं घर में अपने कमरे में अकेली पड़ी रहती हूँ। मुझे तुम्हारे साथ की जरूरत है। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
मैं भी अपने किए पर शर्मिंदा थी, लेकिन अभी देर नहीं हुई थी…

मेरी तबियत कुछ ठीक नहीं थी। सर में दर्द था और हल्का बुखार भी था। मैं अपने कमरे में लेटी थी, कोई भी नहीं आया था। सुबह से  मैंने कुछ खाया भी नहीं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
मुझे साल भर के अंदर पोते का मुँह देखना है…सिर्फ पोते का!

"अम्मा! बेटा, बेटी तो हमारे हाथ में नहीं होता ना। भगवान जो चाहे वो दे दे...", बहू ने सर झुका कर इतना ही कहा था कि अम्मा गुस्से में फुफकार उठीं। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
और अपनी बेटी के बिना कुछ बोले, माँ सब समझ रहीं थीं…

नीलिमा के चेहरे पर हल्की सी मुस्कान ने माँ को इतमिनान दिला दिया या शायद उन्होंने खुद को मना लिया कि वो संजीव के साथ खुश है। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
और अब मुझे मम्मी जी की ख़ामोशी समझ में आ गई थी…

रोहित ने जब भी मुझे अपने साथ ले जाने की बात की, कुछ न कुछ हो ही जाता,  कभी मम्मी जी बीमार हो जातीं, तो कभी पापा जी रोक लेते मगर वो 'कुछ दिन बाद' आया ही नहीं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
ख्वाहिश

अपनी माँ का वो सामान, जो उन्हें हद से ज्यादा अज़ीज़ था, उसको बेचने पर मजबूर कर दिया। सिर्फ दिखावे के लिए!

टिप्पणी देखें ( 0 )
मैं से मां तक का सफर : एक हसीन अहसास या कुछ और?

झुंझलाहट उस वक़्त होती,जब सारा काम खत्म करने के बाद खाना खाने बैठो तो पता नहीं बच्चों को कैसे पता चल जाता है। उसी वक़्त नैपी गंदी करके रोना शुरू!

टिप्पणी देखें ( 0 )
आखिर क्यों एक बेटी नहीं है हक़दार उसके मायके और ससुराल में सम्मान पाने की?

आखिर क्यों बेटियों को उनके घर में और ससुराल में उनके हक़ का प्यार नसीब नहीं होता ? संजना की भी कुछ ऐसी ही बेबसी की कहानी थी..

टिप्पणी देखें ( 0 )
वो एक देशभक्त की पत्नी थी और उसके आगे उसका देश था…

हाँ मैं हूँ! मैं एक बहादुर...देश के लिए जान देने वाले इंसान की पत्नी हूँ...मैं कमज़ोर कैसे हो सकती हूँ? वो एक सच्चे देशभक्त की पत्नी थी...

टिप्पणी देखें ( 0 )
और मैं तैयार थी अपने आत्मसम्मान की इस जंग को जीतने के लिए…

उसने कहा था वो उतना ही सहेगी जितना सहने की ताकत रहेगी, जिस दिन वो ताकत खत्म होगी, उस दिन वो पता नहीं क्या करेगी और आज वो दिन आ गया था...

टिप्पणी देखें ( 0 )
क्या आपके बेटे को आपकी गलत बात भी माननी चाहिए?

माँ आप हमेशा संजना के पीछे पड़ी रहतीं हैं, अगर उसने आपको जवाब देना शुरू कर दिया तब मैं कुछ नहीं कर पाऊंगा, क्यों कि सहने की भी एक सीमा होती है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
‘घर की बात घर में ही रहे’ के चलते अपने रिश्तों की बलि न चढ़ाएं

मुझे लगा वो मेरे पीछे आएंगे इसलिए मैंने मोबाइल कैमरा छुपा कर चला दिया, इतने दिनों से मेरे पास सबूत नहीं था इसलिए मैं बता भी नहीं रही थी।

टिप्पणी देखें ( 0 )
खुशनसीब हैं वो जिन्हें दो माओं का प्यार मिलता है…

मुझे कोई समस्या नहीं, मेरे लिए तो अच्छा है मुझे दो-दो मांओं का आशीर्वाद मिलेगा और तुम भी बेफिक्र रहोगी। बच्चे भी खुश रहेगें दादी-नानी का साथ पाकर।

टिप्पणी देखें ( 0 )
‘वो जैसी भी है मेरी पत्नी है’ क्या आप भी ऐसा मानते हैं?

"कसम से आप इतनी मासूम हो कि मेरे जैसा इंसान आपके ऊपर होने वाली ज्यादती बर्दाश्त नहीं कर पा रहा है। पता नहीं ये लोग किस मिट्टी के बने हैं।"

टिप्पणी देखें ( 0 )

The Magic Mindset : How to Find Your Happy Place

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020

All Categories