कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

Aarti Ayachit

मुझे लेख, कविता एवं कहानी लिखने और साथ ही पढ़ने का बहुत शौक है । मैं नवोदय विद्यालय समिति, क्षेत्रीय कार्यालय, भोपाल ( केन्द्रीय सरकार के अधीन कार्यरत एक स्वायत्त शासी संस्थान) की पूर्व कर्मचारी रही हूं । कार्यालयीन अवधि में हिन्दी दिवस के अवसर पर हिन्दी पखवाड़ा के तहत आयोजित विभिन्न प्रतियोगिताओं जैसे निबंध, भाषण, वाद विवाद एवं कविता पाठ में हिन्दी अधिकारी एवं उपायुक्त महोदय द्वारा पुरस्कृत भी किया जा चुका है । एकता की जान है हिन्दी , भारत देश की अस्मिता है हिन्दी । हिन्दी दिवस की आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए सभी समूहों पर अपनी लेखनी के माध्यम से अपने विचार प्रस्तुत करने का एक छोटा सा प्रयास कर रही हूं । सेवा में धन्यवाद प्रस्तुति ।

Voice of Aarti Ayachit

अलग-अलग रहकर भी साथ-साथ हैं

फिर वीडियो कांफ्रेंस समाप्‍त करते हुए बच्‍चे बोले मम्‍मी-पापा! हम सब तन से अलग-अलग होते हुए भी मन से हमेशा साथ-साथ हैं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
हर रिश्ता रहे यूं ही जवां-जवां सा…

जब किसी भी रिश्‍ते की नींव शुरू से ही मजबूत होगी, तो रिश्‍ता भी हमेशा ही रहेगा जवां-जवां। हर रिश्‍ते को प्रेम रूपी माला में पिरोने के लिए आपसी संवाद महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
साथियों संग नवजीवन की शुरुआत…

रेवा जी हॉस्‍टल में रहकर नौकरी कर रही हैं और विशाल जी के साथ भी उनका परिवार यहाँ नहीं रहता तो वे यदि आपस में राज़ी हों तो दोनों को सहारा हो जाएगा।

टिप्पणी देखें ( 0 )
लड़कपन का प्‍यार भी निभाना है…

अरे लड़कपन के प्‍यार को भी कभी निभाकर तो दिखाओ, केवल एक दूसरे का शारिरीक आकर्षण देखकर ही प्‍यार न करो और करो तो निभाना भी सीखो मेरे दोस्‍त...

टिप्पणी देखें ( 0 )
माता-पिता और गुरु

एक बार फिर साथियों गुरु पूर्णिमा के अवसर पर अपने मन के उद्गार इस कविता के माध्यम से प्रस्तुत करने की कोशिश की है ...

टिप्पणी देखें ( 0 )
परिणीता…

आखिरकर रघुनाथ और मीना द्वारा लता के साथ की गई भलाई का फल मीठा मिला...

टिप्पणी देखें ( 0 )
मनोरम प्यार का तराना…

इतने में रमा की पारी आती है, तो पहले बहुत जोर से हंसने लगती है और फिर एकाएक शांत होते हुए गाया... हमें और जीने की चाहत ना होती, अगर तुम ना होते ...

टिप्पणी देखें ( 0 )
पिता की यादें

आप ही के दिये मार्गदर्शन पर निभा रही हूं दोनों कुल की भूमिका,आज मन में संजोई यादों को ताज़ा कर दिल से रो रही है आपकी कणिका।

टिप्पणी देखें ( 0 )
अगर सोच सकारात्मक है तो सफलता दूर नहीं …

एक कहानी आप लोगों के समक्ष प्रस्‍तुत कर रही हूँ, निधि छोटी सी मासूम की कहानी और उसको और उसकी बहन को संबल देकर सशक्‍त बनाने में जुटी उसकी माँ।

टिप्पणी देखें ( 0 )
सिर्फ मैं ही काफी हूं क्यूंकि… मैं हूं आज की नारी…

परिवार और कैरियर दोनों ही में तालमेल बैठाती नारी का कौशल, कामयाबी के कदम चूमे, आर्थिक और मानसिक रूप से बनी आज आत्मनिर्भर...

टिप्पणी देखें ( 0 )
सही सूझबूझ से हुआ धोखे का खुलासा

आजकल ऐसी ही संस्थाएँ‎ इस तरह से नाम रखकर लोगों को गुमराह करते हैं, इसलिये हम सबको सतर्क रहने की बहुत आवश्‍यकता है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
एक ‘नहीं’ की कीमत जान गंवाकर चुकानी पड़ी? क्यों लड़कियों की आज भी कोई मर्जी नहीं है?

संदली जैसी कितनी लड़कियां इस आघात से जूझ रहीं होंगी, हमको उनकी आवाज़ को उजागर करना होगा और महिला शोषण के खिलाफ आवाज़ को बुलंद करना होगा।

टिप्पणी देखें ( 0 )
शादी करना कोई गुड्डे-गुड़ियों का खेल नहीं

युवा अक्सर अपने मन मुताबिक फैसला लेते हैं, लेकिन कुछ फ़ैसले ऐसे होते हैं जिनके लिए अपने परिवार वालों के साथ विचार-परामर्श करने में ही समझदारी है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
वो मुलाकात एक अजनबी परिवार के साथ

हर माता-पिता को चाहिए कि वे इस तरह से अपने बच्‍चों को सकारात्‍मकता के साथ समझाएँ कि सब अजनबी बुरे नहीं होते, सिर्फ उन्‍हें सही परखने की जरूरत है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
बच्चों को सिर्फ मंजिल ही नहीं सही राह दिखाना भी आवश्यक है

वर्तमान के दौर में माता-पिता से ये अनुरोध है कि अपने बच्‍चों को चाहे बेटा हो या बेटी घर या बाहर की सभी अच्‍छी-बुरी बातों से वाकिफ ज़रूर कराएं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
बच्चों की नैतिक शिक्षा घर से हो शुरू करें

आज ज़रूरत है कि माता-पिता अपने बच्चों को आवश्यक रूप से समय देते हुए उन्हें प्रारंभ से ही अच्छा-बुरा, सही-गलत इत्यादि के बारे में नैतिक शिक्षा अवश्य दें। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
यहां सिसकियों का कोई मोल नहीं …

वे लोग कैसे जानेंगे जो इंसानियत के पुतले बनकर, सिसकियों को नाटक कहते हैं, ऐसे लोगों से करती हूं निवेदन, हम हर उस शख्स का करें उत्साहवर्धन!

टिप्पणी देखें ( 0 )
आशारूपी दीपक

धूप-छांव के उतार-चढ़ावों को, पार करते हुए आशारूपी दीपक हो, प्रज्वलित तेजमयी प्रकाश की लेकर आस, 2020 का खुशनुमा स्वागत हो खास!

टिप्पणी देखें ( 0 )
टेंशन फ्री परीक्षा के लिए बच्चों और उनके अभिभावकों के लिए 11 सुझाव

टेंशन फ्री परीक्षा! जी हाँ पाठको, आज मैं आपके और आपके बच्चों के लिए कुछ ऐसे ही सुझाव लेकर एक बार फिर हाज़िर हुई हूँ! तो आइये पढ़ें आगे! 

टिप्पणी देखें ( 0 )
क्रिसमस गया, तो क्या? हम अब भी एक दूसरे के सांता क्लॉज़ बन सकते हैं!

पिताजी ने किरण को समझाया, "ये तो समय का फेरा है। किसी का ऐसे मजाक नहीं उड़ाना चाहिए, क्‍या पता वक्‍त कब किस तरफ करवट बदल ले?"

टिप्पणी देखें ( 0 )
अरे! जाते समय मुझे बोलकर जाने की तो बनती है न सैंया जी!

अपने बहु-बेटे या बेटी-दामाद के विवाह होने के बाद ज़िम्मेदारियों और अपेक्षाओं पर खरे उतारने के पूर्व उनको एक दूसरे को समझने का अवसर अवश्य ही प्रदान करें।  

टिप्पणी देखें ( 0 )
सारी मुश्किलों से आगे निकलने का नाम है ज़िंदगी

ठीक ही कहा शेखर ने नीलिमा से कि यही हमारे समाज की विडंबना है कि दुःख में अपना सहारा खुद ही बनना पड़ता है और जब मुसीबत की घड़ी गुज़र गयी न फिर काहे का गम?

टिप्पणी देखें ( 0 )
आत्‍म-विश्‍वास, आत्‍म-सम्‍मान व आत्‍म-अनुशासन से सब कुछ हासिल किया जा सकता है

मैं आपको ऐसी कहानी से वाकिफ करा रही हूं जो आपकेे हौसले की उड़ान को और भी बुलंद कर देगी, कहानी सच्‍ची है, केवल पात्राेें के नाम परि‍वर्तन कि‍येे गये हैै।

टिप्पणी देखें ( 0 )
अपने जीवन-साथी की ख़ुशी के लिए आप किस हद तक जाने को तैयार हैं?

हमारे मैनेजर ने एक ही बात बोली, 'पति-पत्नी का रिश्ता जन्मों-जन्मों का होता है, जब प्यार दिल से किया है तो यह रिश्ता भी दिल से निभाना दोनों।'

टिप्पणी देखें ( 0 )
यदि आपका मोबाइल फ़ोन आपका सबसे बड़ा हमदर्द है तो इसे खतरे की घंटी समझें!

अगर आप सब कुछ छोड़ कर अपने मोबाइल फ़ोन में ही खोए रहते हैं तो आप इसके गुलाम बन गए हैं और इस एडिक्शन से छुटकारा पाने के लिए आपको काउंसलर की ज़रुरत है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
कुछ तो आपकी भी होंगी भूली-बिसरी यादें, स्कूल और बचपन की!

प्रथम पाठशाला में जो प्रारंभिक शिक्षा और संस्कार सिखाए जाते हैं वह हमारे कुशल व्यक्तित्व में समाहित होते हैं और वह ज्ञान कभी भी भुलाया नहीं जा सकता है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
क्या माता-पिता को अपनी ज़िंदगी की तुलना अपने बच्चों की ज़िंदगी से करनी चाहिए?

हम बच्चों की ज़िंदगी की तुलना अपनी ज़िंदगी से कभी नहीं कर सकते और न ही अपेक्षा कर सकते हैं। इस नए परिवेश में जीना आज उनकी आवश्‍यकता हो गई है। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
ज़िंदगी के उतार-चढ़ाव में ऐसे रंग लाई हमारी दोस्ती

सखियां सोच रही थी कि शीतल से जब भी हम मिलते है तो ऐसी उदास नहीं रहती, चेहरा भी काला दिख रहा और ऑंखो में लाली छाई है, देखकर लग रहा है मानो कितना रोई हो।

टिप्पणी देखें ( 0 )
वो अनमोल पल नवोदय के – नई राह नई रौशनी!

पर जिंदगी में राहें कभी खत्म नहीं हुआ करतीं, हर अंधेरे के बाद एक नई रोशनी अवश्य ही जन्म लेती है, मेरे सपने ने जीवन की प्रकाश रूपी राह चुन ली है। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
क्षणिक जीने दो ये प्यार भरे पल – नई पीढ़ी, नई दुनिया, नई सोच

जब तक आपके साथ रह रहे हैं, हम बहन-भाई को, आपके प्‍यार एवं स्‍नेह के ऑंचल तले खुशनुमा माहौल में क्षणिक जीने दो ये प्‍यार भरे पल

टिप्पणी देखें ( 0 )
रंग लाई है दोस्ती

एक सुंदर वीणा जो मन में तान छेड़ती, लगता है दोस्त अपने बारे में बात कर रहे, इसका ही मतलब है, दोस्ती!

टिप्पणी देखें ( 0 )
बचपन की ऐसी सखी की याद जो सिखा गई ज़िंदगी जीने का जज़्बा

मेरी यादों के बसेरे में एक बात अवश्‍य ही जुड़ गई दोस्‍तों, ज़िंदगी जीने का नाम है, मुर्दादिल क्‍या ख़ाक जिया करते हैं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
एक ही स्थान पर संवर रही है बच्चों एवं महिलाओं की ज़िंदगी

आज के दौर में ऐसी महिलाएँ भी हैं, जो समाज की भलाई के लिए कुशलतापूर्वक कार्य करने में सक्षम हैं, यह तारीफे काबिल तो है ही, साथ ही आश्चर्यजनक भी। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
बांझपन के लिए केवल औरत ही दोषी है ?

इस समाज में बांझपन के लिए क्या अकेली औरत ही दोषी है? साथ ही साथ यह भी सोचा जाना चाहिए कि क्या औरत ही औरत की दुश्मन हो सकती है?

टिप्पणी देखें ( 0 )
महिलाओं के आपसी सहयोग से बदली गाँव ग्वाडिया की तस्वीर

गांव ग्वाडिया की महिलाओं के आपसी सहयोग से परिस्थितियों में परिवर्तन लाने की कोशिश यूँ कामयाब रही। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
अन्याय के विरुद्ध आवाज़ उठाना आवश्यक

अन्याय सहना भी एक घनघोर अपराध है, जिससे हमें ही बाहर निकलना होगा, प्रकाश रूपी इस शक्ति को हमें ही अपनी पूरी ताकत से, सब जगह जगमगाते हुए फैलाना होगा।

टिप्पणी देखें ( 0 )
बहुत हुआ धैर्य एवं संयम का बांध,अब और नहीं महोदय!

इतनी तन्मयतापूर्वक कार्य करने के बाद भी आप संतुष्ट नहीं हैं। आपको सिर्फ काम से ही मतलब है और घरवालों को पैसा से।

टिप्पणी देखें ( 0 )
प्रीती सुख का स्वागत, भावों के नाद मधुर सुर ताल के साथ

दोनों की समागम भावनाओं से होगी रस बरसात, बुनियादों का कर त्याग हमें करना कुरितियों का हनन, गर तुम निभाओ साथ मेरा सुखद होगा ये नवजीवन

टिप्पणी देखें ( 0 )
बहु की अच्छाई कभी भी नहीं दिखाई दी?

सुबह हुई नहीं कि सबकी फरमाइशें शुरू हो गईं। किसी को चाय तो किसी को स्पेशल कुछ। किसी को न दीपू से मतलब और ना ही रागिनी की नौकरी से।

टिप्पणी देखें ( 0 )
जिंदगी की प्रताड़ना से बाहर निकलना आवश्यक

हे नारी ज़िंदगी की हर प्रताड़ना को अंदर से निकाल, तू बाहर निकल स्वच्छंद बना अपनी पहचान, एक मिसाल कायम कर बन परिवार व देश की ढाल।

टिप्पणी देखें ( 0 )
ये दहेज प्रथा कब तक चलेगी?

हम नवचेतन युग के नवयुवक हैं मां, ये दहेज प्रथा कब तक चलेगी? इस पर अंकुश लगाने के लिए हमें ही कदम बढ़ाना होगा।

टिप्पणी देखें ( 0 )
ससुराल में पहला दिन और रस्मों की कुछ खट्टी-मीठी यादें

ससुराल में पहला दिन'-ये शीर्षक पढ़कर मुझे अहसास हुआ कि ये दिन, किसी भी नई बहु के लिए एक परीक्षा से कम नहीं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
नारी तेरी सदैव ही परीक्षा

इन सबके पश्चात बाबुल, आएगा ज़िंदगी का तीसरा-अंतिम पड़ाव, अंतिम पड़ाव ना समझ, बढ़ाऊंगी आगे कदम, मिलेगी नई दिशा, क्योंकि यह जीवन ही है, सदैव नारी की परीक्षा

टिप्पणी देखें ( 0 )
काश ऐसा हो कि हम अपने आप से हमेशा प्यार करें

काश कि हर महिला यह समझ पाती कि वह सिर्फ एक देह नहीं बल्कि बुद्धि‍, बल, विवेक का भंडार भी है। देह समाहित है हम में, हम देह में नहीं। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
गर्मी की छुट्टियों में अपने बच्चों को देख लेने दो खुला आसमान

अपने बच्‍चों को उनके अरमानों को पूरा करने का एक मौका अवश्‍य दीजिए, तभी वे आत्‍म-निर्भर बनकर जिंदगी की परीक्षा में पूर्ण रूप से पास हो सकेंगे।

टिप्पणी देखें ( 0 )

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020