कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

गर्मी की छुट्टियों में अपने बच्चों को देख लेने दो खुला आसमान

अपने बच्‍चों को उनके अरमानों को पूरा करने का एक मौका अवश्‍य दीजिए, तभी वे आत्‍म-निर्भर बनकर जिंदगी की परीक्षा में पूर्ण रूप से पास हो सकेंगे।

अपने बच्‍चों को उनके अरमानों को पूरा करने का एक मौका अवश्‍य दीजिए, तभी वे आत्‍म-निर्भर बनकर जिंदगी की परीक्षा में पूर्ण रूप से पास हो सकेंगे।

जी हाँ, आपके बच्‍चों की वार्षिक परीक्षा के बाद सालाना छुट्टियां करीब हैं और आप हमेशा की ही तरह मशरूफ होंगे, बच्‍चों की फुर्सत के हर लम्‍हे का पाई-पाई हिसाब रखने में। मसलन, सबेरे की कोचिंग, शाम की ट्यूशन, वीकेंड के टेस्‍ट और यह सब करने के बाद भी यदि कुछ समय बचा रह गया तो कोर्स रिविजन के लिए एक्स्ट्रा-क्‍लासेस। बिल्‍कुल इत्तफ़ाक़ है, इस प्रतिस्‍पर्धात्‍मक  युग में ऑंखे खोलने वाले आपके बच्‍चों को शुरू से ही स्‍पर्धा  के हथियार चलाने सीखने होंगे या यूँ  कह सकते हैं कि मजबूरीवश सीखने की आवश्‍यकता बन गई है। उन्‍हें आगे चलकर आईआई टी की प्रवेश परीक्षा पास करनी है, इंजीनियरिंग कॉलेज में जगह बनानी है, डीयू की कट-ऑफ़ लिस्‍ट को ढाल बनाकर मन माफिक कोर्स में एडमिशन लेना है, और इससे भी आगे चलकर प्रतिस्‍पर्धी मार्केट इकोनॉमी के हिसाब से स्‍वयं को आज के दौर में तैयार करना है। यानी, बतौर अभिभावक आप पर भी ढेर सारा दबाव है और साथ ही साथ अनेकों चुनौतियों को पार भी करना आवश्‍यक हो गया है।

यह सब बातें तो बच्‍चों की शिक्षा से जुड़ी हुई हैं, लेकिन ज़िंदगी की परीक्षा के लिए भी तो हमें अपने बच्‍चों को तैयार करने की ज़रुरत है ना? फिर जिंदगी की इस परीक्षा में विजयी होने के लिए आपने बच्‍चों की ख़ातिर क्‍या किया? सोचिये ज़रा, अब भी वक्‍त है, आपके पास। उन्‍हें रिलेशनशिप्‍स/रिश्तेदारी की बारीकियों से वाकिफ़ कराईये। उन्‍हें उनकी आयु के अनुसार समझाने का प्रयास करें। आजकल का दौर तो ऐसा है कि किस समय किन मुसीबतों का सामना करना पड़ता है, यह कुछ भी कहा नहीं जा सकता है,  इसलिये बच्‍चों को प्‍यार से समझाने की आवश्‍यकता है कि जिंदगी की कठिन पर‍िस्थितियों का सामना कैसे करना है। उनको सबसे मिलनसार होने की तरकीब बताएं। नाज़ुक दौर में स्‍वयं को कैसे संभालना है, यह भी बताएं। उनको अपने ही शरीर की बनावट और दिमाग की बुनावट समझाएं।

फिर आप लोग कहेंगे कि यह भी सब कोई समझाने की बातें है? जिंदगी के स्‍वीमिंग पूल में आप भी तो ऐसे ही उतार दिये गए थे, बिना स्‍ट्रोक सीखे और उसी का खामियाजा भुगतती रही थी आपकी जिंदगी, तमाम उतार-चढ़ाव के दौर में गोते खाते हुए, है ना। लेकिन हम यह हरगिज़ नहीं चाहेंगे कि जो हमारी जिंदगी में हुआ, वैसा ही हमारे बच्‍चों के साथ भी हो। अत: समय रहते उनको आप यह बताएं  कि आपने अपनी जिंदगी में किस तरह से कठिनाईयों को पार करते हुए सफलता प्राप्‍त की है, तभी तो वे जिंदगी के स्विमिंग पूल में तैरना सीख पाएंगे।

अब तो वर्तमान में कमान आपके हाथों में ही है, सो बदल डालिए जिंदगी के अव्‍यवस्थित उसूलों को। अपने बच्‍चों को इस इंटरनेट के युग में रिश्‍तों को निभाने की तरकीबें बताइए और इस तनाव के दौर में उन्‍हें कैसे दूसरों को स्‍पेस देनी है, उनकी प्राइवेसी का सम्‍मान करना है, दिन-प्रतिदिन की जिंदगी का प्रबंधन कैसे करना है, यह सिखाईये।

इन छुट्टियों में कोचिंग, ट्यूटोरियल में दाखिला दिलाने की बजाय कुछ ऐसा करने दीजिये, जो बच्‍चों के मन का हो, जिसे करते हुए वे हंसते-हंसते घर लौटें, खुलकर खिलखिलाना सीखें, खुद को खोलना सीखें, सही आज़ादी का वे आनंद ले सकें।

आप उनके अभिभावक होने के नाते उनकी पसंद और इच्‍छा को पहचानें और इन छुट्टियों में उनकी मर्ज़ी के अनुसार उन्‍हें वही करने दीजिए। उनकी इच्‍छानुसार किसी आश्रम में या जंगल में लगे संस्‍कारों के कैम्‍प का हिस्‍सा बन जाने दें, ताकि वह गुरू की शरण में समय बिताते हुए अपनी परंपराओं को जान सकें। उनको एक्टिंग सीखने दीजिए, थियेटर करने दीजिए, गिटार बजाने दीजिए, पेटिंग करने दीजिए, फुटबॉल के मैदान पर खेलने भेज दीजिए, गंगा किनारे याेेेग-ध्‍यान की क्‍लास से जुड़ जाने दीजिए। वॉलंटियरिंग का दौर है, सो किसी सुदूर प्रदेश में या विदेश में, वॉलिंटियर की हैसियत से जुड़ जाने दीजिए, ताकि कुछ नई स्किल्‍स हासिल कर सकें और अपने किसी हुनर के बल-बूते पर अनजाने लोगों के साथ रहने का भी पूरा अनुभव बटोर सकें।

अपनी पीढ़ी के संस्‍कारों और मूल्‍यों से उन्‍हें हांकना छोड़ दीजिए। उनको भी पूरी आज़ादी के साथ खुद के नियम बनाने दीजिए, बेतुके बने कायदों को तोड़ने दीजिए, नई अनजानी राह पर चलने की आज़ादी दीजिए। सीखने दीजिए कुछ नया, जो उन्‍हें किसी एंट्रेस परीक्षा में न सही, जिंदगी की परीक्षा में जरूर पास करा देगा। करने दीजिए गलतियां, लगने दीजिए ठोकरें, गिरने दीजिए, अपने-आप संभलने दीजिए, फिसलने दीजिए, बहकने दीजिए। अपने बच्‍चों को खुली हवा में उड़ान भरने दीजिए। खुला आसमान देख लेने दीजिए। उनके भी अरमानों को पूरा करने का उनको पूरे विश्‍वास के साथ एक मौका अवश्‍य दीजिए, तभी तो वे अपने भावी जीवन में आत्‍म-निर्भर बनकर सफलता की सीढ़ी चढ़ते हुए जिंदगी की परीक्षा में भी पूर्ण रूप से पास हो सकेंगे।

Never miss real stories from India's women.

Register Now

एक महत्‍वपूर्ण बात जो मैं आपसे कहना चाहती हूँ इस लेख के माध्‍यम से, वो यह है कि अपने बच्‍चों के उज्‍जवल भविष्‍य के लिए एक धुरी बनिए। उसके लिए बच्‍चों पर अपनी मर्ज़ी पूरी करने के लिए ज़बरदस्ती ना करते हुए उन्‍हें उनकी स्‍वेच्‍छा से कोई भी कार्य को पूर्ण करनें में मददगार साबित हों।

मैं अपने अनुभवों के आधार पर आपसे अपने विचार साझा कर रही हूं क्‍योंकि आमतौर पर यही देखा जा रहा है कि आजकल इस व्‍यस्‍त जिंदगी में संयुक्‍त परिवार तो कम ही देखे जाते हैं और एकल परिवार बहुत हैं। उस पर भी माता-पिता अधिकतर नौकरी-पेशा होने से वैसे ही बच्‍चों को समय कम दे पाते हैं। बच्‍चे भी इस प्रतिस्‍पर्धात्‍मक युग में वर्ष भर अपने अध्‍ययन को ही पूर्ण करने में व्‍यस्‍त रहते हैं। अत: इन छुट्टियों में हम चाहते हैं कि आने वाले समय की आवश्‍यकतानुसार वे पारस्‍परिक रूप से आपसे हमेशा जुडे़ रहें ताकि दूरियां पनपने ना पाएं। इसलिये आप अभिभावक होने के नाते अपने बच्‍चों के साथ उचित ताल-मेल बिठाते हुए और उनकी पसंद-नापसंद को ध्‍यान में रखते हुए उनकी रूचि के अनुसार विकास के मार्ग पर आगे बढ़ने के लिए सहायक बनें।

सभी पाठकों से निवेदन करती हूँ कि अपनी आख्‍या के माध्‍यम से  बताइएगा, आपको मेरा यह लेख कैसा लगा? मुझे आपकी आख्‍या का इंतजार रहेगा हमेशा की ही तरह।

टिप्पणी

About the Author

59 Posts | 209,236 Views
All Categories