कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

पिता की यादें

आप ही के दिये मार्गदर्शन पर निभा रही हूं दोनों कुल की भूमिका,आज मन में संजोई यादों को ताज़ा कर दिल से रो रही है आपकी कणिका।

आप ही के दिये मार्गदर्शन पर निभा रही हूं दोनों कुल की भूमिका, आज मन में संजोई यादों को ताज़ा कर दिल से रो रही है आपकी कणिका।

पिता का साथ सदैव ही मन में रहे याद,
प्रथम पथ-प्रदर्शक बन जीवन करें आबाद।

सिखाया संबल रखना, बढ़ाया मनोबल हर कदम,
ताकि हर प्रत्येक परिस्थिति का कर सकें सामना अपने दम।

उनके किरदार और दिये हुए संस्कारों का कर सम्मान,
करते हुए आदर्शों का पालन रखकर सबका मान।

लोहपुरुष के रूप में सदा मुस्कुराते हुए दिखाई अपनी तस्वीर,
स्वयं की तकलीफों को छिपाते हुए फिक्र भी उतनी ही जताई गंभीर।

आप ही के दिये मार्गदर्शन पर निभा रही हूं दोनों कुल की भूमिका,
आज मन में संजोई यादों को ताज़ा कर दिल से रो रही है आपकी कणिका।

मूल चित्र: Screenshot, Tanishq Advertisement, YouTube

Never miss real stories from India's women.

Register Now

टिप्पणी

About the Author

59 Posts | 206,319 Views
All Categories