कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

Laxmi Kumawat

मैं एक ब्लॉगर हूँ, मुझे ब्लॉग्स के माध्यम से अपनी भावनाओं को व्यक्त करना अच्छा लगता है।

Voice of Laxmi Kumawat

माँजी, आपकी बहु बेटा पैदा करने वाली मशीन नहीं है…

किसने कहा वंश बेटे चलाते हैं? वंश तो बहू चलाती है, जो अपने गर्भ में एक नये जीवन को संचारित करती है वो भी अपने शरीर की सुधबुध खोकर।

टिप्पणी देखें ( 0 )
भाभी, साड़ी में आपके स्ट्रेच मार्क्स नज़र आते हैं…

एक औरत जब मां बनती है तो उसमें शारीरिक बदलाव होना बहुत ही नॉर्मल सी बात है और यह कोई शर्म की बात नहीं है

टिप्पणी देखें ( 0 )
बहु, तुम्हारे हिस्से की रोटी हम क्यूँ बनाएँ…

अब यहां कोई नौकर तो लगा नहीं है, जो तुम्हारे लिए रोटी सेक रखेगा। हमने रोटी सेककर खा ली है। तुम अपने लिए रोटी सेक लेना।”

टिप्पणी देखें ( 0 )
आजकल बहु को भी बेटी बना कर रखना पड़ता है…

सही कहा तुमने, बहुओं का हक कल भी एहसान था, आज भी एहसान है और ना जाने, आने वाले कल में भी शायद एहसान ही होगा।

टिप्पणी देखें ( 0 )
मुझे घर से रिटायरमेंट चाहिए…

विभा ने कई बार दबी जबान से कहने की कोशिश भी की थी कि अब तो आप लोग घर संभाल सकते हो, तो क्यों ना मैं एक-दो दिन के लिए...

टिप्पणी देखें ( 0 )
हम अपने बेटे की शादी धूमधाम से करेंगे लेकिन अपने पैसों से…

मम्मी कह रही थी कि अनन्या उनकी इकलौती बेटी है तो वह कार भी तो देंगे ही अपनी बेटी को। इसी बात को लेकर मेरी और पापा की मम्मी से बहस हो गई।

टिप्पणी देखें ( 0 )
दीदी, आज से मेरी बेटी भी घी वाली रोटी खायेगी!

“अगर जिंदगी मुझे दोबारा मौका दे रही है तो मैं क्यों घर में बैठूँ। मेरी बच्ची को भी घी वाली रोटी खाने का हक है और उसके लिए ऐसी रोटी मैं कमाऊंगी।”

टिप्पणी देखें ( 0 )
आखिर मैं भी कब तक चुप रहती?

चलते-फिरते मुझे ससुर जी, कभी मेरे देवर, तो कभी मेरे पति याद दिला दिया करते थे कि मैं इस घर में उनकी पसंद नहीं हूँ।

टिप्पणी देखें ( 0 )
कम से कम ससुराल वाले तुम्हें भूखा तो नहीं मार रहे…

तेरे कारण मेरी दोनों छोटी बेटियों की शादी नहीं हो पाएगी। लोग कहेंगे कि बड़ी बहन तो खुद पीहर आकर बैठी हुई है, पता नहीं छोटी कैसी होगी।

टिप्पणी देखें ( 0 )
हाय राम! तुम्हारी दूसरी शादी भी टूट गई?

"सुना है आजकल मैं आप लोगों के मनोरंजन का साधन बनी हुई हूं। जहां भी आप लोग इकट्ठे होते हैं, सब लोग मेरे ही बारे में तो बात करते हैं।"

टिप्पणी देखें ( 0 )
समाज के नाम पर कितना ध्यान रखोगे तुम…

समाज के नाम पर, हे भगवान! कितना ध्यान रखोगे तुम, इतनी परवाह कि हमें आदत नहीं, इतनी परवाह करते रहे तुम, तो हो जाएगी हमारी भी आदत खराब।

टिप्पणी देखें ( 0 )
हर त्यौहार पर सामान नानी के घर से ही क्यों आता है?

पापा हर त्यौहार पर सबके कपड़े और मिठाई नानी के घर से आते हैं। इसका मतलब है कि हमारे पास कपड़े और मिठाई खरीदने के पैसे नहीं है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
एक विधवा का दुःख उसके चेहरे से दिखना चाहिए…

याद है जब तुम्हारे जेठ जी की मृत्यु हुयी, लोग मेरे चेहरे को घूर-घूर कर देखते थे कि मैं रो रही हूं या नहीं, मुझे कितना दु:ख हुआ है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
बहु अपने दोस्तों से कहो तुम्हें ससुराल में मिलने ना आएं …

जब से सुना कि अरविंद घर आने वाला है, तब से अनुज ढंग से बात नहीं कर रहा। आखिर मेरे दोस्त के घर आने से क्या समस्या हो सकती है?

टिप्पणी देखें ( 0 )
मैं कुछ नहीं करती क्योंकि…

सुबह से रात तक पूरे घर में चक्कर घिन्नी की तरह घूम जाती हूँ, सब को गर्म खाना खिला कर, खुद ठंडा खाती हूँ, पर मैं कुछ नहीं करती।

टिप्पणी देखें ( 0 )

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020