कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

खुद को नई सी लगने लगी हूँ…हाँ, अब मैं बदल गई हूं!

Posted: May 28, 2020

मैं अब पहले की तरह मरती नहीं हूं, जीती हूं मन ही मन, दुनिया की परवाह कर आँसू बहाती नहीं हूं, अब मैं बदल गई हूं…अब मैं बदल गई हूं!

मैं अब पहले की तरह
खिलखिलाती नहीं हूं
मुस्कुराती हूं मन ही मन,
हंसी होंठों तक लाती नहीं हूं !

मैं अब पहले की तरह प्रेम
निभाती नहीं हूं
चाहती हूं मन ही मन,
प्यार आँखों तक लाती नहीं हूं!

मैं अब पहले की तरह
इठलाती नहीं हूं
संवरती हूं मन ही मन
अदा चाल में लाती नहीं हूं!

मैं अब पहले की तरह
कुछ मांगती नहीं हूं
समझाती हूं मन ही मन
ख़्वाहिश ज़ुबां पर लाती नहीं हूं!

मैं अब पहले की तरह झगड़ती नहीं हूं
माफ कर देती हूं मन ही मन
तकरार में शिकवों की झड़ी लगाती नहीं हूं!

मैं अब पहले की तरह मरती नहीं हूं
जीती हूं मन ही मन
दुनिया की परवाह कर आँसू बहाती नहीं हूं!

मैं अब पहले की तरह कमज़ोर नहीं हूं
हौसला रखती हूं मन ही मन
किसी से भी आस लगाती नहीं हूं!

मूल चित्र : Canva

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

महिलाओं का मानसिक स्वास्थ्य - महत्त्वपूर्ण जानकारी आपके लिए

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020