कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

12 लक्षण महिलाओं में हार्मोन असंतुलन के जिनकी पहचान ज़रूरी हैं

Posted: फ़रवरी 18, 2020

महिलाओं में हार्मोन असंतुलन के इन 12 लक्षणों को जानें! अपने शरीर में हॉर्मोन्स की भूमिका को समझने से हम अपने स्वास्थ्य पर काफी नियंत्रण पा सकते हैं।

अनुवाद : मानवी वाहने 

हार्मोन और हार्मोन असंतुलन क्या होते हैं?

हार्मोन क्या होते हैं, सबसे पहले मैं आपको सामान्य जानकारी देना चाहूँगी। 

हार्मोन विशेष केमिकल मेसेंजर्स होते हैं जो एंडोक्राइन ग्लैंड्स के ज़रिए शरीर में बनते हैं। ये केमिकल मेसेंजर्स हमारे शरीर की सामान्य क्रियाओं जैसे भूख, और जटिल क्रियाओं जैसे प्रजनन के लिए भी ज़िम्मेदार होते हैं। हॉर्मोन्स हमारे मूड और भावनाओं को भी नियंत्रित कर सकते हैं। महिलाओं के शरीर में विभिन्न हॉर्मोन्स होते हैं, लेकिन स्त्री प्रजनन तंत्र की बात करें तो दो हॉर्मोन्स अत्यंत महत्वपूर्ण हैं : एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टेरोन।

ये हार्मोन हमारे शरीर को नियंत्रित करते हैं, और इसीलिए इनके स्तर में असंतुलन होने से एक महिला के शरीर में बहुत सी समस्याएँ हो सकती हैं। तो एक महिला को कैसे पता चल सकता है कि वह हार्मोंस के असंतुलित होने से पीड़ित है ?  

ये 12 लक्षण शरीर में हार्मोन असंतुलन की ओर संकेत कर सकते हैं

आपके हार्मोन माहवारी से पहले और बाद में, गर्भावस्था और रजोनिवृत्ति के दौरान ज़रूर परिवर्तित होते हैं लेकिन यह शारीरिक परिवर्तन होते हैं। कई मेडिकल समस्याओं और दवाइयों के कारण भी हॉर्मोन्स के स्तर में असंतुलन हो सकता है और इन लक्षणों की जानकारी यह समझने में मदद कर सकती है।

हार्मोन और अनियमित माहवारी 

हर महीने माहवारी होना अच्छे स्वास्थ्य का संकेत है। माहवारी का सामान्य औसत चक्र 22 से 35 दिन लम्बा होता है। लेकिन माहवारी अनियमित होने का मतलब यह हो सकता है कि शरीर में हॉर्मोन्स असंतुलित हो रहे हैं। तो या तो आपका शरीर अत्यधिक या फिर बहुत ही कम एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टेरोन प्रोड्यूस कर रहा है। 

अनियमित माहवारी पीसीओएस(PCOS-polycystic ovarian syndrome) का भी संकेत हो सकती। इस केस में आपको डॉक्टर से ज़रूर सम्पर्क करना चाहिए।

हार्मोन की वजह से नींद की समस्या 

यदि आपको नींद लेने में परेशानी हो रही है या फिर आपकी नींद का पैटर्न सही नहीं है तो आपके हॉर्मोन्स इसके लिए ज़िम्मेदार हो सकते हैं। प्रोजेस्टेरोन हार्मोन अच्छी मात्रा में नींद लेने में आपकी मदद करता है। प्रोजेस्टेरोन का सामान्य से कम स्तर आपके लिए अच्छे से नींद लेने में बाधा बन सकता है। एस्ट्रोजेन का कम स्तर रात में गर्मी लगने और पसीना आने का कारण बन सकता है जो आपकी नींद में बाधा ही उत्पन्न करेगा।

बार–बार मुँहासे होना 

माहवारी के समय और उसके आसपास मुँहासे होना एकदम सामान्य है। लेकिन यदि मुँहासे सामान्य दिनों में भी ठीक न हों तो यह हार्मोंस के असंतुलित होने का एक लक्षण हो सकता है। एंड्रोजेंस या मेल हार्मोंस, ख़ासकर टेस्टोस्टेरोन की अधिकता आपके ऑइल ग्लैंड्स को ज़रूरत से ज़्यादा काम करने के लिए विवश कर रहे हैं। इन हार्मोंस की अधिकता त्वचा के सेल्स को भी प्रभावित कर सकती है जिनके कारण मुँहासे हो जाते हैं। 

स्मरणशक्ति की समस्या 

क्या आपको लगता है कि आप कुछ दिनों से भूलने लगी हैं ?

स्टडी के अनुसार, एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टेरोन के कम स्तर आपकी स्मरणशक्ति को कमज़ोर कर सकते हैं जिसका मतलब यह है कि आपको चीज़ें याद रखने में बहुत मुश्किल होती है। स्मरणशक्ति की समस्या माहवारी पूर्णतः बंद होने के थोड़े समय पहले या रजोनिवृत्ति के बाद सामान्य है, लेकिन इसके अलावा ऐसा होना थाइरॉड की बीमारी का संकेत है।

हार्मोन से पाचन की समस्या 

क्या आपको पता है कि आपकी गट लाइनिंग के पास एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टेरोन के लिए रेसेप्टर्स होते हैं?

आपके हार्मोनल स्तर में हल्का सा भी बदलाव आपके पाचन तंत्र पर प्रभाव डाल सकता है। इसीलिए आपने ध्यान दिया होगा कि आपकी माहवारी के दौरान आपको अक्सर कब्ज़ और दस्त आदि की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। लेकिन लगातार पाचन सम्बन्धी समस्याएँ होना, साथ में मुँहासे, थकान और नींद की कमी, हार्मोनल समस्या की ओर संकेत करने के लिए काफी हैं।

हार्मोन असंतुलन से थकान 

क्या आपको अक्सर थकान महसूस होती है ? यह हार्मोंस के असंतुलित होने का एक जाना माना लक्षण है।

अत्यधिक प्रोजेस्टेरोन के कारण आपको हमेशा थकान का अनुभव हो सकता है। और यदि आपकी थाइरॉड ग्रंथि उचित मात्रा में थाइरॉड हॉर्मोन्स प्रोड्यूस नहीं करती है, तो आपको एनर्जी की कमी महसूस हो सकती है। यदि आप यह बार बार महसूस कर रही हैं, तो आपको डॉक्टर के पास जाना ही चाहिए।

हार्मोन की वजह से मूड स्विंग्स 

माहवारी से पहले और उसके दौरान मूड में बदलाव आना सामान्य बात है। लेकिन हर समय मूड का बदलते रहना या बार बार गुस्सा आना, शरीर में एस्ट्रोजेन के कम स्तर के कारण हो सकता है। एस्ट्रोजेन मस्तिष्क के मुख्य केमिकल्स जैसे सेरोटोनिन, डोपामाइन और नोरेपिनफ्रीन को प्रभावित करता है। लेकिन दूसरे हॉर्मोन्स भी हो सकते हैं जिनके कारण मूड स्विंग्स हो रहे हों, इसीलिए आपको ज़रूर जाँच करवानी चाहिए।

हार्मोन से वज़न का बढ़ना 

एस्ट्रोजेन के स्तर में कमी होने के कारण मूडस्विंग्स हो सकते हैं जो आपको और खाने पर मजबूर कर सकते हैं।हॉर्मोन्स में उतार चढ़ाव के कारण वज़न बढ़ सकता है। फीमेल हॉर्मोन्स एस्ट्रोजेन लेप्टिन हार्मोन से भी जुड़ा हुआ है, जो प्रतिदिन आपकी भोजन क्षमता को नियंत्रित करता है। 

हार्मोन असंतुलन  और लगातार सिरदर्द 

हालाँकि सिरदर्द के कई कारण हो सकते हैं, लेकिन एस्ट्रोजेन का कम स्तर भी उन कारणों में से एक हो सकता है। इसीलिए आप माहवारी से पहले और उसके दौरान लगातार सिरदर्द का अनुभव करती हैं। यदि आपको हमेशा सिरदर्द बना रहता है, तो आपको अपने शरीर के इन संकेतों पर ध्यान देने की ज़रूरत है! 

योनि का सूखापन 

योनि में सूखापन मौसम और अन्य कारणों के चलते हो सकता है। लेकिन एस्ट्रोजेन का कम स्तर आपकी योनि के टिश्यूज़ को अत्यधिक ड्राई कर सकता है जिसके कारण चिड़चिड़ापन, ख़ासकर सेक्स के दौरान हो सकता है।यदि एस्ट्रोजेन का स्तर हार्मोनल असंतुलन के कारण कम है, तो योनि स्त्राव में कमी हो सकती है जिसके कारण टाइटनेस भी सम्भव है।

हार्मोन की वजह से यौन इच्छा की कमी 

क्या एक महिला के शरीर में सिर्फ एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टेरोन ही होते हैं? नहीं, महिला के शरीर में टेस्टोस्टेरोन भी होते हैं जिन्हें मेल हॉर्मोन्स भी कहा जाता है। हालाँकि, यह हार्मोन एक महिला के शरीर में कम मात्रा में होता है। लेकिन महिला के शरीर में सामान्य से कम मात्रा में टेस्टोस्टेरोन का स्तर यौन इच्छा की कमी का कारण बन सकता है।

स्तनों में बदलाव 

यदि आपके एस्ट्रोजेन का स्तर कम है, तो आपको अपने स्तन छोटे लग सकते हैं और एस्ट्रोजेन का स्तर अत्यधिक होने से गाँठ आदि की समस्या हो सकती है। यदि आपको पूरे महीने अपने स्तनों में बदलाव महसूस हो रहे हैं, तो आपको अपने डॉक्टर से ज़रूर बात करनी चाहिए।

एक महिला का शरीर विभिन्न प्रकार के हॉर्मोन्स प्रोड्यूस करता है और अक्सर, विभिन्न मात्राओं और कॉम्बिनेशन्स में। शरीर के स्वस्थ रहने के लिए हॉर्मोन्स का संतुलित रहना बहुत ज़रूरी है।

इसीलिए यदि आप उपरोक्त लक्षणों में से दो या दो से अधिक का अनुभव कर रही हैं, तो आपको डॉक्टर से ज़रूर सम्पर्क करना चाहिए।

मूल चित्र : Canva 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

A Nutritionist, Clinical Dietitian, Speaker, health/fitness blogger, online show host, menu planner, menstrual health,

और जाने

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020