Indu Grover

My name is Indu. I am a computer engineer by profession and qualification. I am also a very analytical person and have interests in analyzing the things from a different perspective which convince me to pen down my ideas. I have lived in Canada for over 5 years and in Switzerland for over 3 years. Currently, I am living in the USA. I have also traveled widely, this extensive exposure to different cultures, religions and social values gives me an extra edge to see the things differently and compare them.

Voice of Indu Grover

फेसबुक की दुनिया बहुत छोटी होती है, तेरी मेरी खुशियों का ढिंढोरा होती है

मैंने भी कोशिश की, छुपा कर सब दुःख-दर्द सीने में, खुशिओं का मुखौटा लगाकर जीने की, पर क्या फ़ायदा ऐसे बेमानी मुस्कराने में, झूठी मुस्कान हमेशा फीकी होती है

टिप्पणी देखें ( 0 )
बर्फीले पहाड़-यहां हर लम्हा जीना ज़रूरी है

बर्फ के फूल जब-जब बरसते हैं, लगता है धरती-धरती नहीं, जन्नत हो मानो,कुदरत की इस नुमाइंदगी को देखने को, कितने दिल धड़कते हैं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
खुद्दार हम भी बहुत हैं

ये ज़िद्द है हमारी घर-संसार अपना बचाने की, तभी तो इतना गिड़गिड़ाते हैं, रिश्तों में हम अहंकार लाते नहीं, नहीं तो खुद्दार हम भी बहुत हैं। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
Incredible !ndia या मटमैला होता एक सुनहरी इतिहास

"औपचारिकता के दायरे से बाहर लोग पूछते हैं, क्या भारत की सड़कों पर बलात्कारी घूमते हैं", क्या समय के तूफ़ान में हमारा सुनहरी इतिहास वाक़ई मटमैला हो गया है? %

टिप्पणी देखें ( 0 )
अधूरा प्यार- क्यों मेरी धड़कनों को तुम्हारा ही इंतज़ार है

तुम्हारी हर तन्हाई में क्यों होती है उसी की परछाई-बहुत लगता है तुम मेरे हो, फिर भी आ ही जाती है कोई बात, लब पर तेरे गैरों की तरह। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
उड़ने का साहस-हो अगर संग, तो साथ दो

जिंदगी की कई बारीकियों से तब मैं अंजानी थी-"जिंदगी बदलती है हर पल, पर न सोचा कि तू बदल जायेगा, ऐसे कैसे कोई अपना, सामने से पलट जायेगा?"

टिप्पणी देखें ( 2 )
मेरी एक सहेली कुँवारी रह गई…

पढाई-डिग्री सब धरी रह गई, कैसे ये लड़की छड़ी रह गई - क्या आज भी शादी एक औरत की ज़िन्दगी का सबसे बड़ा मक़सद है?

टिप्पणी देखें ( 0 )
अल्हड़ प्यार
'चाहती हूं नफरत  करुं  उससे ,पर  फिर  भी  यादों  से  उसी   की  ही  दिल  उमड़ा  पड़ा  है'- एक कविता   बहुत  उम्मीद  से  था  मैने  फ़ोन  उठाया , बहुत  बैरूखी  से  था  उन्होंने   दिल  दुखाया। ऊपर  से  किया  ये  हसी-सित्तम , कह  दिया  सो  जाओ, करते  हैं  बात  कल  हम। संजीदगी  का  है  ये   कैसा [...]
टिप्पणी देखें ( 0 )
जीवन का अक्स

समय शाश्वत है , जो जीवन बीत गया सो बीत  गया, पर अब भी सही मायने  में जीवन जिया  जा सकता है - यह प्रेरणा देती एक कविता।

टिप्पणी देखें ( 0 )
फेसबुक के मुखौटे

यह कविता कहती है कि फ़ेसबुक  पर जो दिखता है वह हमेशा सच नहीं होता और हमें  उससे ज़्यादा प्रभावित नहीं होना चाहिए। 

टिप्पणी देखें ( 0 )

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?