कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

फेमिनिज्म क्या है – क्या आप इस शब्द का सही अर्थ जानते हैं?

Posted: जून 21, 2020

आज के दौर की महिलाओं या लड़कियों की एक बड़ी संख्या है जो खुद को फेमिनिस्ट कहलवाना पसंद नहीं करती हैं, और फेमिनिज्म को नकारती हैं।

आज हम उस दौर में आ चुके हैं जहां महिलाओं को अधिकार मिलने शुरू हो चुके हैं, महिलाओं की स्थिति में बदलाव आना शुरू हो चूका है लेकिन आज के दौर की महिलाओं या लड़कियों की एक बड़ी संख्या है जो खुद को फेमिनिस्ट कहलवाना पसंद नहीं करती हैं।

इसके पीछे का कारण यह नहीं है कि महिलाओं को बराबर अधिकार मिल चुके हैं। ये लड़कियां अपने अधिकार तो चाहती हैं लेकिन खुद को ‘फेमिनिस्ट’ नहीं कहलवाना चाहती।  एक तरफ विश्व की महान महिलाएं, बड़ी-बड़ी अभिनेत्रियां, पत्रकार आदि खुद को फेमिनिस्ट कहलवाने में ज़रा भी संकोच नहीं करतीं,  लेकिन वहीं दूसरी तरफ आज की लड़कियाँ हैं, जो फेमिनिस्ट शब्द से बिलकुल दूरी बना कर रखना चाहती हैं।

आज यह जानना आवश्यक हो चुका है कि आखिर फेमिनिस्ट शब्द को लेकर इतनी नकारात्मकता क्यों है?

मेरी अपनी दोस्त फेमिनिस्ट शब्द को एक नकारात्मक शब्द की तरह देखती हैं और जब मेंने उनसे उसके पीछे के कारण जानने की कोशिश की तो उनके जवाब कुछ ऐसे थे। किसी ने कहा कि  फेमिनिस्ट वो होती हैं जो पुरुषों से नफरत करती हैं और हम उस श्रेणी में नहीं आना चाहते। तो वहीं कुछ ने कहा कि एक फेमिनिस्ट की मांगे गलत होती हैं और वो समाज में इक्वालिटी नहीं लाना चाहती बल्कि वो समाज में महिलाओं का अधिपत्य स्थापित करना चाहती हैं, जो कि गलत है। तो आज यह जानना आवश्यक हो चुका है की आखिर फेमिनिस्ट शब्द को लेकर इतनी नकारात्मकता क्यों है?

एक समय ऐसा था कि महिलाओं के अधिकारों की लड़ाई महिलाओं से ज़्यादा पुरुषों ने लड़ी थी

एक समय था जब फेमिनिस्ट होना एक गर्व की बात हुआ करती थी और उन्हीं फेमिनिस्ट की वजह से समाज में आज महिलाएं काफी हद तक अपने अधिकार पा चुकी हैं। समाज में बदलाव आया और फेमिनिस्ट की संख्या में बढ़ोत्तरी हुई और आज आलम यह है कि ज़्यादातर पुरुष उन महिलाओं से सख्त नफरत करते हैं जो खुद को फेमिनिस्ट मानती हैं। जबकि एक समय ऐसा था कि महिलाओं के अधिकारों की लड़ाई महिलाओं से ज़्यादा पुरुषों ने लड़ी थी। और आज की लड़कियां खुद को फेमिनिस्ट नहीं कहलवाना चाहतीं।

इनके पीछे बहुत से कारण हैं

असल बात यह है कि जो नयी जनरेशन है इसको फेमिनिज़्म के बारे में कुच खास सूचना नहीं है उनको फेमिनिस्ट होने का सही अर्थ नहीं पता है।

परिभाषा के अनुसार, “नारीवाद यह विश्वास है कि पुरुषों और महिलाओं को समान अधिकार और अवसर होने चाहिए। यह लिंगों की राजनीतिक, आर्थिक और सामाजिक समानता का सिद्धांत है।”

कुछ लोग हैं जिन्होंने फेमिनिस्ट का मतलब गलत समझ लिया है

कुछ लोग हैं जिन्होंने फेमिनिस्ट का मतलब गलत समझ लिया हैऔर वो फेमिनिज्म के नाम पर नकारात्मकता फैला रहे हैं और शायद इसीलिए फेमिनिस्ट शब्द को गलत नज़रिये से देखा जाने लगा है।  लेकिन वहीँ दुनिया की कुछ ऐसी हस्तियां भी हैं जो असली फेमिनिस्ट हैं उनके विचार सुन के फेमिनिस्ट का असली अर्थ पता चलता है।

फेमिनिस्ट का मतलब सिर्फ महिला अधिकारों की बात करना नहीं है

फेमिनिस्ट का मतलब सिर्फ महिला अधिकारों की बात करना नहीं है। फेमिनिज्म अधिकारों की बात करता है। फेमिनिस्ट महिलाओं व पुरुषों के बीच के प्राकृतिक अंतरों को मिटाना नहीं चाहती हैं। फेमिनिस्ट होने का अर्थ है कि समाज में सभी इंसानों को बराबर सामाजिक अधिकार मिलें।

फेमिनिस्ट होने का अर्थ यह नहीं है कि पुरुषों से नफरत की जाए

फेमिनिस्ट होने का अर्थ यह नहीं है की पुरुषों से नफरत की जाए।  विश्वविख्यात हॉलीवुड अभिनेत्री एमा वॉटसन ने अपनी २०१४ की यूनाइटेड नेशंस की स्पीच में कहा था कि ‘फेमिनिस्ट’ एक नकारात्मक शब्द बनता जा रहा है और उन्होंने यह भी बताया की फेमिनिज्म शब्द सिर्फ महिलाओं के अधिकारों क लिए लड़ना नहीं है। बल्कि इस शब्द से पुरुषों का भी ताल्लुक है उन्होंने कहा, “मैं चाहती हूं कि पुरुष इस शब्द को अपनाएं ताकि उनकी बेटियां, बहनें और माताएं पूर्वाग्रह से मुक्त हो सकें, और यह भी कि उनके बेटों को मानवीय होने की भी अनुमति मिले।”

नारीवाद की पढ़ाई को बढ़ावा दिया जाए

आज की लड़कियां जो फेमिनिस्ट शब्द से नफरत करती हैं उनको इस शब्द के महत्त्व और असली मतलब को समझाना होगा। आज कल सोशल मीडिया पर हम रोज़ ऐसे पोस्ट देखते हैं जिनमें लिखा होता है कि एक बदसूरत, असभ्य और नकारात्मक महिला फेमिनिस्ट बन जाती है।

ऐसे पोस्ट साफ़ यह दर्शाते हैं कि फेमिनिस्ट शब्द को लेकर सबकी सोच कितनी गलत हो चुकी है।  और इस सोच को बदलने का एक मात्रा उपाय यह है कि नारीवाद की पढ़ाई को बढ़ावा दिया जाए।  और दुनियाभर की महान सशक्त स्त्रियां खुद को फेमिनिस्ट कहलाने में क्यों गर्व महसूस करती हैं यह बताया जाए।

पढ़ी लिखी स्त्रियां व पुरुष दोनों ही फेमिनिज्म के सही अर्थ से परिचित हैं, इसीलिए वो नारीवाद के पक्ष में हैं और एक समाज को सम्रद्ध और सुशिक्षित बनाने के लिए नारीवाद जैसे शब्दों को बढ़ावा देना चाहिए।

मूल चित्र : Canva 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020