कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

बस बहुत हुआ ‘दहेज दो या रहने दो’ का नाटक, अब तुम रहने ही दो!

Posted: October 16, 2019

पैसे की चाह और एक गाड़ी आलीशान, इतने की ख्वाहिश की दंभ में चूर, उछाल कर पगड़ी धमकी स्वरूप ‘दो या रहने दो’ के भेड़ियों पर आज है समाज शर्मसार!

पर्दे की ओट से
कदमों को दाब के
उसकी दमकती आभा देखकर
और मिठी वो खिली मुस्कान
मंत्रमुग्ध मैं ठिठक गया।

सुर्ख रंग लाल में
आंचल को संभाल के
टीके की दमक
नथ के मोती
और उसके चेहरे की चमक
हाँ प्यारी बिटिया
आज दुल्हन बनी है।

बाहर, मंडप की छाँव में
आस्तीन को तान के
पैसे की चाह और
एक गाड़ी आलीशान
इतने की ख्वाहिश
की दंभ में चूर
उछाल कर पगड़ी
धमकी स्वरूप
‘दो या रहने दो।’

सिहर गई रुह
हाथ जोड़कर मैं
पशोपेश में खड़ा
लालच के भेड़िए को
दूँ कैसे लाडली
स्वाभिमान तार और
पार कर
अपने आंगन की बावली।
शर्त पूरी जो हों
तो लालच के जुए
चढ़ जाए न मेरी लाडली।

जड़वत जड़ा
पशोपेश में खड़ा
बिटिया का प्यार
मेरे संस्कार
किसकी दूँ बलि
पृथक कैसे कर दूँ मैं,
बात से व्यवहार।

जड़वत जड़ा
अवाक जम सा गया
जो आ गयी थी वह
लाल डोरे अंगार के
आंखों में उतार के
टीके की दमक
और नथ के मोती।

दिव्य थी
कुछ उग्र सी
शेरनी सी दहाड़ गयी
“सुन ओ पिशाच
तू रोग है
और दाग भी
तुझ घटक भेड़िए दलों पर
आज है समाज
शर्मसार भी।
संभल और संभाल
अपने शब्द
और मांग को
कानून है आज
मेरी रक्षा में खड़ा।”

जड़वत जड़ा
गर्व से खड़ा
पीड़ा की फांस
और प्रफुल्लित मन
आंसुओं संग
बह गया।
ओह, मेरी बिटिया
आज दुल्हन बनी थी।

मूल चित्र : Canva 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

A researcher, an advocate of equal rights, homemaker, a mother, blogger and an avid reader.

और जाने

Online Safety For Women - इंटरनेट पर सुरक्षा का अधिकार (in Hindi)

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?