upadhyay sneha

मै भारतीय सभ्यता और संस्कृति में विश्वास करने वाली , भारतीय नारी हूँ , अपनी आप बीती और अनुभव आप सबसे साझा कर रही हूँ ..

Voice of upadhyay sneha

आपको अपने घर में तो बेटियां नहीं चाहियें फिर ये कंचक पूजन का ढोंग क्यों

मेरी सास का भी एक ही बेटा है और मेरा भी एक बेटा और आगे तुम्हारा भी एक बेटा हो इसलिए, शुरूआत में ही जांच करवाकर, बच्चा पैदा करने में ही होशियारी है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
दुर्गा माँ की पूजा और लड़कियों के पैदा होने पर शोक, बंद करें ये ड्रामा!

सविता समझ ही नहीं पा रही थी कि ये सपना था या सच, आंखों से झर-झर आंसू गिरने लगे। बड़ी पोती दौड़कर देखने आई तो उसे गले से लगाकर रो पड़ी।

टिप्पणी देखें ( 0 )
शांति प्रिय संवेदनहीन लोग

एक दिन कुछ शांतिप्रिय संवेदनहीन लोगों ने सुनियोजित तरीके से विष भरा अन्न खिलाकर उन पिल्लों को हमेशा के लिए सुला दिया

टिप्पणी देखें ( 0 )

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?