कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

महिलाओं में बाल झड़ने के 7 कारण: बहुत ज्यादा बाल झड़ने पर क्या करें?

बालों का टूटना और वापस ना आना चिंता का कारण बन जाता है, महिलाओं में बाल झड़ने के कई कारण होते हैं, उनमें से कुछ हैं ये... 

बालों का टूटना और वापस ना आना चिंता का कारण बन जाता है, महिलाओं में बाल झड़ने के कई कारण होते हैं, उनमें से कुछ हैं ये… 

काले, घने लहराते हुई स्वस्थ बाल हर किसी की पसंद हैं। पर, आजकल शायद ही कोई हो जो बाल झड़ने की समस्या से अनजान हो। ख़ास कर, महिलाओं में बाल झड़ने के कारण कई हैं और ये परेशानी किसी भी उम्र में देखी जा सकती है।

हमारी जीवनशैली, खान-पान, तनाव, रजोनिवृत्ति (Menopause), बेमारियाँ, प्रदूषण आदि का असर हमारे शरीर पर पड़ता है।

चलिए आज बात की जाए महिलाओं में बाल जड़ने के कारण और उससे जुड़ी बातों की।

महिलाओं में बाल झड़ना क्या होता है?(kitne baal girna theek hai)

सबसे पहले हम ये जानने की कोशिश करते हैं कि महिलाओं में बाल झड़ना क्या होता है।

एक निश्चित संख्‍या तक बालों का झड़ना सामान्‍य बात हो सकती है लेकिन अगर आपके बाल ज्‍यादा झड़ रहे हैं तो यह आपके लिए चिंता का विषय बन जाता है। डॉक्‍टरों की मानें तो एक दिन में अगर 50 से 100 बाल झड़ते हैं तो यह एक नॉर्मल बात है, क्‍योंकि इनकी जगह नए बालों को आने में ज्‍यादा वक्‍त नहीं लगता। लेकिन कई बार ऐसा होता है कि बाल झड़ते तो हैं लेकिन नए बाल नहीं आते, तब यह स्थिति चिंता का विषय बन जाता है।

महिलाओं में क्रमिक गंजेपन को एंड्रोजेनेक एलोपेसिया के नाम से भी जाना जाता है। बालों के झड़ने का ऐसा प्रकार, जो मुख्य रूप से महिलाओं में ही देखने को मिलता है, इस समस्या से पीड़ित महिलाओं में पूरे सिर के बाल कम हो जाते हैं पर, हेयरलाइन पीछे नहीं हटती। महिलाओं में इसके कारण शायद कभी-कभी ही पूरी तरह गंजेपन की समस्या होती है।

महिलाओं में बाल झड़ने के कारण: बहुत ज्यादा बाल झड़ने पर क्या करें?(baal girne par kya karein)

बालों का टूटना और वापस ना आना चिंता का कारण बन जाता है। महिलाओं में बाल झड़ने के कई कारण होते हैं। कुछ कारणों हैं –

Never miss real stories from India's women.

Register Now

1. एनीमिया

कई बार खान पान में लापरवाही की वजह से महिलाओं में आयरन की कमी हो जाती है जिससे वे एनीमिया (Anemia) की शिकार हो जाती हैं। इसकी वजह से कुपोषण, माहवारी के दौरान भारी रक्तस्राव और शरीर में आयरन की कमी हो जाती है। ऐसे में जब शरीर में आयरन की कमी कई दिनों तक रह जाती है तो बाल गिरने शुरू हो जाते हैं। एनीमिया से ग्रस्त व्यक्ति भी बालों के झड़ने का सामना कर सकता है.

अगर महिलाएं आयरन युक्‍त भोजन को अपनी दिनचर्या में शामिल करें, तो बालों का झड़ना रुक सकता है और गिर चुके बालों की जगह नए बाल भी जल्‍दी आ सकते हैं।

2. थायरॉयड की समस्या

इन दिनों थायरॉयड की समस्‍या से हर दूसरी-तीसरी महिलाएँ ग्रस्‍त हैं। थायरॉयड ग्रंथि बॉडी की एक महत्वपूर्ण ग्रंथि है, जिसमें असंतुलन होने पर आपके शरीर को कई प्रकार की समस्याओं से गुजरना पड़ता है। बाल झड़ना भी इससे जुड़ी समस्याओं में से एक है। थायरॉयड की समस्या महिलाओं को कई तरह से नुक़सान पहुँचती है। अगर आप हाइपोथायरायडिज्म और हाइपरथायरायडिज्म से जूझ रही हैं, तो इसे इग्‍नोर ना करें और डॉक्‍टर की मदद लें।

3. तनाव

तनाव कई बार बालों के झड़ने का प्रमुख कारण होता है। यदि आप ऐसी स्थिति में हैं, जिससे आपको तनाव होता है। तो हो सकता है कि इससे आपके बाल तेजी से झड़ने लगें। लेकिन यदि आप बालों को झड़ने से रोकना चाहती हैं, तो उसके लिए आपको तनाव लेना बंद करना पड़ेगा। तनाव बीमारी या समस्या  को बढ़ाने का काम करता है, न कि घटाने का।

4. प्रोटीन की कमी के कारण

क्या आपके आहार में आवश्यक प्रोटीन की कमी है? प्रोटीन बालों के निर्माण में मदद करते हैं। प्रोटीन हमारे शरीर के लिए आवश्यक है। यदि आपके भोजन में पर्याप्त प्रोटीन नहीं है, तो इस बात की संभावना है कि आपके बाल उगने बंद हो सकते हैं, रंग बदल सकते हैं और गिर सकते हैं। प्रोटीन से भरपूर फूड्स में बीज और नट्स, अंडे, डेयरी प्रोडक्ट जैसे दूध, पनीर और दही, पोल्ट्री और मछली उत्पाद शामिल हैं। हार दिन प्रोटीन की पर्याप्त मात्रा का सेवन बाल झड़ने की समस्या से निजात दिल सकता है।

5. मेनोपॉज

आम तौर पर पाया गया है कि महिलाओं में मेनोपॉज के दौरान बाल झड़ने लगते हैं। दरअसल इन दिनों शरीर में कई तरह के हार्मोनल बदलाव होते हैं जिनका असर बालों पर भी पड़ता है। ऐसे में अगर आप मेनोपॉज के लक्षणों से उबरने का प्रयास करती हैं और स्‍ट्रेस फ्री लाइफ जीने की आदत डालती हैं, तो आपके बाल भी स्‍ट्रेस फ्री होते हैं और कम झड़ते हैं।

6. हार्मोन असंतुलन

वैसे महिलाओं में बाल झड़ने के सबसे आम कारणों में हार्मोनल परिवर्तन है। बाल झड़ने की समस्या महिलाओं में तब भी देखी जाती है जब वह हार्मोनल असंतुलन से जूझ रही हों। ऐसे समय में महिलाओं के शरीर में कई तरह के बदलाव होते है। बालों का झड़ना और अचानक सफ़ेद होना भी होर्मोनल असंतुलन की पहचान हो सकती है।

7. बालों में स्टाइल/केमिकल का प्रयोग(hair styling products)

क्या आपको अपने बालों को स्टाइल करना पसंद है? अगर स्ट्रेटनिंग, कर्लिंग या पर्मिंग आपकी दिनचर्या का हिस्सा है, तो आपके बाल झड़ने की संभावना अधिक संभावना है। हेयर स्प्रे, हीट या कलर का इस्तेमाल आपके बालों की सेहत पर असर डाल सकता है और परिणामस्वरूप बाल झड़ने लगते हैं। बालों की जड़ों को कमज़ोर करते हैं ये केमिकल प्रोडटस और स्टाइलिंग।

इसके अलावा महिलाओं में बाल झड़ने के कारण और भी कई होते हैं। हमें कोशिश करनी चाहिए कि बाल झड़ने की समस्या से बचने के लिए खान-पान के साथ एक अच्छी जीवन शैली को अपनाएँ। तनाव कम कर, उचित आहार लेकर, घरेलू उपायों की मदद से, बाल संवारने की उचित तकनीक अपनाकर बालों के झड़ने की समस्या को रोका जा सकता है।

डिस्क्लेमर : यहाँ दी गयी जानकारी सामान्य है। विशेष राय के लिए किसिस एक्सपर्ट को संपर्क करें। 

मूल चित्र: Still from Himalaya Anti-Hair Fall Shampoo TVC/Spotlights, YouTube

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

टिप्पणी

About the Author

Ashlesha Thakur

Ashlesha Thakur started her foray into the world of media at the age of 7 as a child artist on All India Radio. After finishing her education she joined a Television News channel as a read more...

26 Posts | 54,782 Views
All Categories