कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

कल की पीछे छोड़ मैं आज कुछ करना चाहती हूँ…

नहीं थूक पाई, भीड़ भरी बस में उस आदमी पर, जिसके हाथ लगातार उसके आगे खड़ी औरत के जिस्म को छू रहे थे, तब बोलना चाहिए था, कुछ करना चाहिये था… नहीं जाहिर कर पाई, छोटी बहन को पाने की खुशी, क्योंकि आस पास सब दुखी थे… स्कूल में रसायन के शिक्षक से, नहीं पूछ […]

नहीं थूक पाई, भीड़ भरी बस में उस आदमी पर, जिसके हाथ लगातार उसके आगे खड़ी औरत के जिस्म को छू रहे थे, तब बोलना चाहिए था, कुछ करना चाहिये था…

नहीं जाहिर कर पाई,
छोटी बहन को पाने की खुशी,
क्योंकि आस पास सब दुखी थे…

स्कूल में रसायन के शिक्षक से,
नहीं पूछ पाई,
की वो जो हमारी पीठ पर,
इस तरह हाथ घुमाते हैं
क्या वे इस क्रिया से
हमारे जहन में बैठ जाने वाली,
कुंठा की प्रतिक्रिया से परिचित हैं?

नहीं पोंछ पाई आंसू,
दो माह के गर्भ से बाद,
एक दिन अचानक अस्पताल से
उदास लौटी भाभी की आंख के…

नहीं चुप करा पाई मामा को,
जब वो  भरी सभा में,
मामी पर जोर से बरसे थे
कहने के लिए की
‘धीरे हंसों!’

नहीं लिख पाई शिकायत पत्र,
उस सहकर्मी के खिलाफ,
जिसने महीनों सहेली को
उसकी जिंदगी बदलने के सपने दिखाए,
और एक दिन अचानक,
नौकरी बदल ली…

नहीं थूक पाई,
भीड़ भरी बस में
उस आदमी पर
जिसके हाथ लगातार
उसके आगे खड़ी औरत के
जिस्म को छू रहे थे…

‘बहु थोड़ी सुंदर होती , जोड़ी अच्छी जमती’
कहने वालो रिश्तेदारों  को ,
नहीं दिखा पाई
उनके अंतस का आईना
जिसमें वो बेहद बदसूरत नज़र आते हैं…

Never miss a story from India's real women.

Register Now

सिर्फ नमस्ते ही कह पाई ,
सहेली की सास को ,
जिन्हें चिल्लाकर कहना चाहती थी
की चूल्हें में डालिये ऐसी डिग्री,
जो आपको बहु और नौकरानी में
फर्क करना नहीं सीखा पाई।

बोलना था,
कुछ करना था,
सवाल पूछने थे,
जवाब ढूंढ़ने थे
अफसोस कुछ नहीं कर पाई।

लेकिन अब
‘बोलना चाहिए था,
कुछ करना चाहिये था’
के ग्लानि भरे अतीत को
एक सुदृढ़ वर्तमान
और उज्ज्वल भविष्य में
बदलना चाहती हूं…

मैं अपनी इस प्रजाति के लिए,
अब सचमुच कुछ करना चाहती हूँ।
अब सचमुच कुछ करना चाहती हूँ…

मूल चित्र : Still from Single Parenting/Myntra ad, YouTube

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020

All Categories