कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

वसुधैव कुटुम्बकम्

वसुधैव कुटुम्बकम् यह शब्द कितना मज़बूत लगता है, वास्तव में मनुष्य ने उसको अधिक कमज़ोर बना दिया है, जिसका अंत दुखदायी हो सकता है। 

वसुधैव कुटुम्बकम् यह शब्द कितना मज़बूत लगता है, वास्तव में मनुष्य ने उसको अधिक कमज़ोर बना दिया है, जिसका अंत दुखदायी हो सकता है। 

वसुधैव कुटुम्बकम् सिर्फ पढ़ा हमने,
कभी आत्मसात नहीं किया..
जल, वायु, जमीं, जंगल किए दूषित,
अन्य जीवों पर हर घात किया।

इस पृथ्वी ने सब देखा है,
आखिर भेदभाव, कब तक सहती,
उसने सबको उनका हिस्सा लौटा दिया,
देखो ज़रा कितने खुश हैं,
फूल, पंछी, हवा और ये नदियाँ बहती।

हमें घरों में बंद रख, सिखाया सबक,
बात अपनी, इशारों में कह दी,
अब हमें हमेशा याद रखना होगा,
ये धरती सबकी है,
यहां सिर्फ आदम जात नहीं रहती।

मूल चित्र : Youtube


पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

टिप्पणी

About the Author

19 Posts | 48,955 Views
All Categories