कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

मथुरा वृंदावन की गलियों की पावन खुशबू आइये बिखेरें अपने घर में भी!

Posted: अगस्त 10, 2020

मथुरा वृंदावन के मंदिरों से तो सभी परिचित हैं लेकिन मथुरा वृंदावन की गलियों में सिर्फ राधे-राधे की गूँज ही नहीं चाट की दुकानों की खुशबू भी बिखरी रहती है।

मथुरा वृन्दावन भगवान श्री कृष्ण का जन्मस्थान, भारत के तीर्थस्थल में मथुरा का नाम सबसे ऊपर आता है, मथुरा और वृंदावन घूमने के लिए और श्री कृष्ण के दर्शन करने के लिए विदेशी यात्रियों का भी तांता लगा रहता है।

यहाँ अनेकों प्राचीन मंदिर हैं जिनमें से कुछ महत्वपूर्ण मंदिर निम्नलिखित हैं :

श्री कृष्ण जन्मस्थान :

कृष्ण जन्मस्थान या जन्मभूमि जैसा कि नाम से ही ज्ञात होता है कि मान्यतानुसार यहीं भगवान् श्री कृष्ण का जन्म हुआ था। जन्मभूमि मथुरा नगरी के बीचों बीच स्थित है, मंदिर बहुत प्राचीन है उसकी कलाकृति देखते ही बनती है। (फोटो : [email protected])

द्वारिकाधीश :

द्वारिकाधीश भी मथुरा के प्राचीनतम मंदिरों में से एक है, यहाँ की आरती देखने लायक होती है। मंदिर के पास में ही यमुना घाट है जहाँ यात्री यमुना के स्वछंद पानी की लहरों में नौका विहार करने का आनंद लेते हैं। (फोटो : [email protected] )

बांकेबिहारी :

बांकेबिहारी का मंदिर वृन्दावन में स्तिथ है इस मंदिर की बहुत मान्यता है। बांके बिहारी मंदिर का इतिहास उसको एक बहुत महत्वपूर्ण स्थान देता है। (फोटो : [email protected] )

प्रेममंदिर :

प्रेम मंदिर अपनी सुंदरता के लिए बहुत प्रसिद्ध है, रात में उसकी मनोहारी लाइट्स को देखने के लिए भीड़ लगी रहती है। प्रेम मंदिर की दीवारों की नक्काशी देखने लोग विदेशों से आते हैं। (फोटो : Wikipedia)

मथुरा वृंदावन के मंदिरों के विवरण से तो सभी परिचित हैं और मौजूदा हालात में इन मंदिरों के दर्शन करना तो शायद अभी असंभव है, तो आपको हम ये भी बता दें कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश का खाना भी काम मशहूर नहीं है। यहाँ के मसाले, यहाँ के ज़ायके का स्वाद और किसी भी प्रदेश में मिलना संभव नहीं है। 

मथुरा वृंदावन की गलियों में सिर्फ राधे-राधे की गूँज ही नहीं चाट की दुकानों की खुशबू भी बिखरी रहती है।

आइये हम आपको मथुरा वृंदावन के प्रसिद्ध स्वादिष्ट व्यंजनों से परिचित करते हैं :

कचौड़ी/ बेड़ई सब्ज़ी

मथुरा वृंदावन की सुबह ही कचौड़ियों की खुशबू से होती है। मथुरा-वृंदावन आये और नाश्ते में कचौड़ी नहीं खायी तो ये समझिये की आपकी यात्रा अधूरी रह गयी।

यहां मौसम कोई भी हो दिन की शुरुआत कचौड़ियों के साथ ही होती है। और सोने पे सुहागा होता है उस कचौड़ी की तीखी सब्ज़ी के साथ जलेबी की मिठास। यहाँ कचौड़ियां भी बहुत से प्रकार की मिलती हैं और हर नुक्कड़ पे मिलती हैं तो आप को कचौड़ियों तक पहुँचने के लिए ज़्यादा ज़ेहमत नहीं उठानी पड़ेगी।

कचौड़ियों के प्रकार :

दाल की खस्ता कचौड़ी
प्याज की कचौड़ी
आलू-प्याज की कचौड़ी

बेड़ई ( दाल आटे के साथ गूँथी हुई )बेड़ई सब्ज़ी की शानदार रेसिपी

दही भल्ला

मथुरा वृंदावन की चाट भी लाजवाब है। यहाँ के खाने में कहीं भी प्याज, लहसुन का प्रयोग नहीं होता है। वृंदावन के दही भल्ले काफी प्रसिद्ध हैं।

लस्सी

भगवान् श्री कृष्ण का जन्मस्थान है तो यहाँ के माखन और दही की तो तुलना ही नहीं की जा सकती। वृंदावन के हर मंदिर के बहार लस्सी की दुकान मिलेगी, की मिठास और वो गाढ़ा दही कहीं और मिलना बहुत मुश्किल है।

पेड़े

मथुरा के पेड़े का नाम तो हम सभी ने सुना है। पेड़ों की तो शुरुआत ही मथुरा से हुई थी ऐसा कहा जाता है। पेड़े मावा की बानी हुई एक मिठाई होती है।

खुरचन

जब दूध उबल रहा होता है, मलाई लगातार मंथन की जाती है और अक्सर बर्तन के किनारों पर चिपक जाती है । बाद में ये परतें जो कि नीचे की तरफ जमा हो जाती हैं, उन्हें बाहर निकाल दिया जाता है। उसमें सूजी (रवा), गुलाब जल और पीसी हुई चीनी मिलायी जाती है और इसे ड्राई फ्रूट्स और टिंट ऑफ केसर (केसर) से गार्निश किया जाता है। खुरचन दो रूपों में उपलब्ध है, नमक और मीठा।

माखन-मिश्री

जब माखनचोर के शहर में जाएँ तो माखन मिश्री ना खायें ये तो असंभव है। मठे को मथ कर उसका माखन निकालकर उसमें मिश्री मिलाकर बनती है ये मिठाई।

इस समय मथुरा वृंदावन की गलियों में घूमना शायद ना हो पाए लेकिन घर से ही वहाँ के दर्शन कर पाना और घर पर बने वहाँ के व्यंजनों का स्वाद ले अवश्य ले सकते हैं।

मूल चित्र : [email protected] /Canva Pro

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020