कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

साथ समय के चल रही हूँ, ऐ ज़िंदगी तेरी कहानी मैं ख़ुद ही लिख रही हूँ

Posted: सितम्बर 11, 2019

टूट गयी जो गुड़िया वक़्त के आघात से, उसको फिर से गढ़कर नयी सी कर रही हूँ, समय को बदलकर
साथ समय के चल रही हूँ,
ऐ ज़िंदगी तेरी कहानी मैं ख़ुद ही लिख रही हूँ। 

समय को बदलकर
साथ समय के चल रही हूँ
ऐ ज़िंदगी तेरी कहानी मैं ख़ुद ही लिख रही हूँ ।

टूट गयी जो गुड़िया
वक़्त के आघात से
उसको फिर से गढ़कर
नयी सी कर रही हूँ
ऐ ज़िंदगी तेरी कहानी मैं ख़ुद ही लिख रही हूँ।

बैठे थे मुझको जो
कमज़ोर मान के
उनके नाम भी
निशानी कर रही हूँ
ऐ ज़िंदगी तेरी कहानी मैं ख़ुद ही लिख रही हूँ।

करे सितम जो वक़्त भी
हँस कर ही सह रही हूँ
ऐ ज़िंदगी तेरी कहानी मैं ख़ुद ही लिख रही हूँ।

मानोगे तुम भी मुझको
सोना खरा ही एक दिन
इम्तिहान की अगन में
हर पल जो जल रही हूँ
ऐ ज़िंदगी तेरी कहानी मैं ख़ुद ही लिख रही हूँ।

मूल चित्र : Pexels 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Dreamer , creative , luv colours of life , Teacher , love adventure, singer , Dancer , P☺️

और जाने

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020