कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

Vibhooti Rajak

Blogger [simlicity innocence in a blog ], M.Sc. [zoology ] B.Ed. [Bangalore Karnataka ]

Voice of Vibhooti Rajak

विरह की वेदना

कभी कभी प्रेम की पीड़ा की अतिश्योक्ति शरीर के कुँज कुँज में एक व्याकुलता की लहर को सुशोभित करती है, मगर मन व्याकुल रहता है और विरह की अग्नि में तपने लगता है। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
इश्क़ की ईबादत चाहती हूँ

जीवन में हमको किसी न किसी का सतह तो ज़रूर चाहिए, पर वो यार हो या इश्क़ होना बिलकुल बेज़ार चाहिए, बिलकुल शफ्फाफ़ बिल्कुल पानी की तरह।

टिप्पणी देखें ( 0 )
आगे बढ़ तू….

जीवन की मुस्कान देखो और आगे की ओर बढ़ते जाओ, खुद को विपरीत स्तिथिओं में व्यर्थ न करो, दृढ़ निश्चय से आगे बढ़ते जाओ। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
जैसे नई मुलाक़ात थी, कल फिर वही रात थी!

अक्सर बारिश के दौरान अपने प्रिय से मिलने की लालसा बढ़ जाती है, बारिश अगर रात के वक़्त हो तो इश्क़ की सौंधी सी महक और फ़ैल जाती है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
क्षणभंगुर है ये अँधेरा…

मन की अभिलाषा को कभी मरने मत दो और साथ के साथ अपनों को भी सिखाओ के हर रात की सुबह ज़रूर होती है, हर अँधेरे के बाद उजाला होना स्वाभाविक है। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
आज हम फिर चल पड़े, अपने सफर पर…

कुछ अरमां जो हम उठते -बैठते, चलते-फिरते संजोते रहे, कुछ बातें जो ज़ुबाँ न कह सकी, कुछ कहे-अनकहे शब्दों को बेझिझक, हमने बयाँ कर दिया।

टिप्पणी देखें ( 0 )
अब छोड़ जीना दिखावटी, आ ज़रा खुद से प्यार कर…

कहीं ओझल सा हो गया तेरा आत्मविश्वास अब दूसरों की उपेक्षा एवं अपेक्षाओं का बसेरा छोड़, छोड़ दे जीना दिखावटी, आज सिर्फ खुद से प्यार कर...

टिप्पणी देखें ( 0 )
मचल मचल, लहराती, डूब गई, मैं खुद ही, खुद में!

मन की भाषा कभी किसी को समझ नहीं आती क्युंकि मन कभी तो विचलित होता है और कभी शांत और सारे कायाकल्प मन की भावना पर ही निर्भर होते हैं। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
रणभूमि : एक विजय और एक शंखनाद

देश की बागडोर हमारे राजनीतिज्ञ लोगों क हाथ में नहीं बल्कि देश के उन सपूतों क हाथ में हैं जो देश को बचने क लिए बॉर्डर पर अपनी जान की बाज़ी लगा देते हैं।

टिप्पणी देखें ( 0 )
जीवन एक चलचित्र और गुज़रता हुआ समय

जीवन चलचित्र की भाँती ही चल रहा है और धीरे धीरे समाप्त हो रहा है। जीवन को जी भर क जिओ और हार नहीं माननी चाहे परिस्थितियां कैसी भी हो।  

टिप्पणी देखें ( 0 )
तृष्णा और जूनून कुछ कर दिखाने का

खुद को अडिग कर दो और जीवन में जीने की लालसा पैदा कर के आगे बढ़ने की सोचो। जीवन आपको खुद आपकी मंज़िल तक पहुंचाएगा। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
सूरमा : एक वीर और एक योद्धा

देश के रखवाले और देश की ड्योढ़ी पर दुश्मन के दाँतों  की खट्टे करने वाले देश के वीर सपूतों को ह्रदय के हर कोने से सलाम

टिप्पणी देखें ( 0 )
जिनको पहुँचना होता है

जिनको ऊंचाइयों पर पहुँचना है, उनको वहां पहुँचने से कोई नहीं रोक सकता है...  

टिप्पणी देखें ( 0 )
क्यों है तिरस्कार बेटी का? क्या हमारा कोई अधिकार नहीं?

ईश्वर रूपी नन्ही सी जान ने, बेटी बनकर दुनिया में तिरस्कार ही तो पाया। क्यों तुम भूल गए? तुम्हें भी तो किसी बेटी ने जना है!

टिप्पणी देखें ( 0 )
जब चल पड़े हैं लंबे सफ़र पर, तो पहुंचेंगे भी

कई बार अपनी मंज़िल पर चलते-चलते कुछ हिम्मत हारने लगें यो याद रखें कि 'चल पड़े हैं लम्बे सफर पे, तो पहुँचेंगे भी, राह में मोड़ अनेक हैं, पर मंजिल तो एक है'...

टिप्पणी देखें ( 0 )
अभी तो चलना सीखा है और अभी पूरी ज़िंदगी बाकी है!

खड़ा तो मुझे खुद ही होना था, बस थोड़ी देर कर दी, पर अब जब खड़ी हो गई हूँ, तो फिर अब बैठना नहीं है, अभी-अभी तो चलना सीखा है, अभी तो पूरी ज़िंदगी बाकी है!

टिप्पणी देखें ( 0 )
इक दिन सुनेंगे सब, मेरे शब्दों की गूँज और मेरी आवाज़ की ख़नक!

ये तो बस मेरे शब्दों की गूँज थी, मौका मिले तो, कभी सुनाऊँगी, अपनी आवाज़ की खनक को, मैं तो बस यूँ ही लिख देती हूँ, मेरे लेखन में भी एक सबक है!

टिप्पणी देखें ( 0 )
मैं नारी हूँ कोई अबला नहीं

नारी की शक्ति पहचानें और उसको अब अबला कहना छोड़ दें क्यूंकि जब तक सब उसे अबला कहेंगे, तब उसको कमज़ोर समझ कर उस पर अत्याचार होते रहेंगे। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
कहानी नारी की – इस कहानी को भी अब बदलना होगा

हर कहानी समय अनुसार बदलती है और यही होना है अब नारी की कहानी के साथ, सदियों से चली आ रही इस कहानी को अब अपना रूप बदलना ही होगा!

टिप्पणी देखें ( 0 )
आखिर कब तक नारी अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ेगी? आखिर कब तक?

मैं ही तो वह कुंजी हूँ, जो घर आँगन महकाऊँ, पर मेरे भी, कुछ सपने हैं, जिनका तुम सम्मान करो, सिर्फ औरत ही क्यों करे समर्पण, तुम भी कुछ योग्यदान दो। 

टिप्पणी देखें ( 0 )

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?