Pooja Priyamvada

Pooja Priyamvada is a columnist, professional translator and an online content and Social Media consultant. She is also a writer/poet/editor/ and a bi-lingual blogger formerly also radio announcer and lecturer. She has an M.Phil. in English Literature from Panjab University and speaks vociferously about issues of gender, identity and marginalisation at a wide variety of platforms and mediums. A single parent and fibromyalgia survivor, she believes that she derives her strength from being a voracious reader and a tea connoisseur. Both her blogs have been awarded several times consecutively at the Orange Flower Awards and she has been associated with reputed national and international online addresses like The Mighty, Menstrupedia, Women’s Web, Feminism In India, ShethePeopleTV, Momspresso, Sheroes, Bonobology, Writersmelon and Sadaneera. Her translation titled A Night in the Hills, a collection of short stories by Manav Kaul has been published by Westland Books recently, besides she also translates for other forums like the Sahitya Akademi and The Raza Foundation. She is the author of an e-book Mental Health: A Primer. Her poetry and fiction have been published in several reputed online journals and print anthologies in India, UK and Canada and a few poems can be read with a hot cup of coffee on the walls of The Human Bean Cafe, Cobourg, Toronto. She has been featured amongst “10 Indian Women Bloggers you must follow” and “25 writers whose work readers enjoyed the most” at Women’s Web in 2018 and also in “Most empowering moments by Indian women” by SheThePeopleTV .

Voice of Pooja Priyamvada

‘श्रीदेवी – रूप की रानी’, ललिता अय्यर की किताब हर आधुनिक औरत के लिए स्मरणीय रहेगी

ललिता अय्यर शुरू में ही श्रीदेवी जी से एक भावनात्मक सा रिश्ता बाँध देती हैं। वे कहती हैं - 'श्रीदेवी से मैंने सीखा कि औरत होने का कोई एक तरीका नहीं होता।'

टिप्पणी देखें ( 0 )
बलात्कारी संस्कृति – ‘लड़के तो ऐसे ही होते हैं’, ‘ओहो! ये सिर्फ मज़ाक था’, ‘कुछ तो व्यंग्य समझो’

अगर समाज में बलात्कार को, 'बदला लेना', 'नीचा दिखाना', 'सज़ा देना' या सेक्स को विकृत रूप में देखने की प्रवृति है, तो ये निश्चित ही रेप कल्चर है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
जेनेवा कन्वेंशन क्या है? यह कैसे युद्धबंदियों की सुरक्षा करता है?

जेनेवा कन्वेंशन क्या है? यह युद्धबंदियों को क्या अधिकार प्रधान करता है? सोशल मीडिया पर जेनेवा कन्वेंशन के बारे में काफी कुछ कहा जा रहा है, तो जानिये यह क्या है! 

टिप्पणी देखें ( 0 )
गैसलाइटिंग के 11 चिन्ह – एक अंतरंग अब्यूज़ जिसे हम अक्सर नहीं समझते हैं

गैसलाइटिंग - एक ऐसा अंतरंग अब्यूज़ जिसके एब्यूज़र अक्सर आपके परिवार के सदस्य, पति/पत्नी, भाई/बहन और कभी-कभी माता-पिता भी, होते हैं। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
कैसे पहचानें यदि आपके अंतरंग रिश्तों में आप मानसिक हिंसा या दुर्व्यवहार का शिकार हैं?

हमारे समाज में अंतरंग रिश्तों में होने वाली हिंसा या दुर्व्यवहार को लेकर अजीब मान्यताएँ हैं, इसलिए, अंतरंग रिश्तों में अब्यूज़ या दुर्व्यवहार के लक्षणों को पहचानें और सतर्क रहें।

टिप्पणी देखें ( 0 )

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?