कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

बच्चा होने के बाद इंटिमेसी बढ़ाने के लिए इन 4 बातों का रखें ख्याल

नए माता-पिता के लिए, बच्चा होने के बाद इंटिमेसी या अंतरंगता चुनौती पूर्ण हो सकती है। यहां हैं कुछ सुझाव जो आपकी आपसी नज़दीकी को बढ़ाएंगे।   ये पोस्ट अंग्रेजी में पहले यहां पब्लिश हुयी है और इसका हिंदी अनुवाद मृग्या राय ने किया है रीसर्च से पता चलता है कि अंतरंगता वह मूल आधार है […]

नए माता-पिता के लिए, बच्चा होने के बाद इंटिमेसी या अंतरंगता चुनौती पूर्ण हो सकती है। यहां हैं कुछ सुझाव जो आपकी आपसी नज़दीकी को बढ़ाएंगे।  

ये पोस्ट अंग्रेजी में पहले यहां पब्लिश हुयी है और इसका हिंदी अनुवाद मृग्या राय ने किया है


रीसर्च से पता चलता है कि अंतरंगता वह मूल आधार है जिसके चारों ओर, आपसी संचार, माता-पिता की भूमिका में अडजस्ट होना और पारिवारिक संपदा घूमते हैं। लेकिन तभी जब जीवन साथी आपस में अंतरंगता स्थापित कर सके, खासकर बच्चे के जन्म के बाद, वे रिश्ते के अन्य महत्वपूर्ण पहलुओं का प्रभावपूर्ण ढंग से सामना कर सकते हैं।

अंतरंगता के भीतर सामान्य लक्ष्यों और मूल्यों को साझा करना, एक दूसरे के अनुभवों को भावनात्मक रूप से साझा करने के साथ साथ कामुकता को साझा करना आता है। ज़्यादातर जोड़े थकान, समय की कमी, दर्द के बारे में डर, खराब बॉडी इमिज और अपने जीवन साथी के प्रति अप्रसन्नता के कारण बच्चे के जन्म के बाद अंतरंगता को फिर से स्थापित करने में कम रुचि दिखाते है।

बच्चे के जन्म के बाद अपने साथी के साथ अंतरंगता बढ़ाने के लिए यहां दिए गए हैं विशेष 4 टिप्स

बच्चा होने के बाद इंटिमेसी: टिप 1 – ईर्ष्या और अकेलेपन से निपटें

कई नए माता-पिता अकेलेपन और यहां तक ​​कि ईर्ष्या महसूस करते हैं कि परिवार के नए सदस्य को उनसे अधिक ध्यान दिया जाता है। ईर्ष्या इन स्थितियों में एक बहुत ही स्वाभाविक भावना है। आखिरकार इतने समय से सिर्फ आप और आपके साथी थे एक दूसरे के लिए और अब आपको एक दूसरे के साथ रहने के तरीके में कुछ बड़े ऐडजस्टमेंट करने होंगे। अपने साथी के लिए समय निकालना, एक परिवार और एक जोड़े, दोनों के रूप में महत्वपूर्ण है।

टिप 2:  अपने बॉडी इमेज पर काम करें

कई नई माताएं शीशे से मुँह फेर लेती है, वे स्ट्रेच मार्क्स और बच्चे के जन्म के बाद होने वाले ढीले पेट को नापसंद करती हैं। लेकिन गर्भावस्था के बाद के शरीर और शेर की धारियां, जैसा कि मैं उन्हें बुलाना पसंद करती हूं, हमारे सफ़र की गवाह हैं, इतनी सारी भावनाओं का सफ़र, जो एक बार में या एक के बाद एक सभी महसूस हुआ।

हम में से कोई भी फोटो-शॉप की गई छवियां नहीं हैं, और हम में से कोई भी वही व्यक्ति नहीं है जो हम अतीत में एक निश्चित समय पर थे। विकास को गले लगाएँ, परिवर्तन को गले लगाएँ और अपनी शेर की धारियों को गले लगाएँ।

Never miss a story from India's real women.

Register Now

शीशे के सामने अपने शरीर को देखने के लिए हर रोज या जितनी बार हो सके, कुछ समय लें और बिना किसी निर्णय के सिर्फ निरीक्षण करें। अपने शरीर को धीरे से स्पर्श करें और अपना परिचय करे इस शरीर से। अपने शरीर के दर्दनिय और अनंदायक पोईंट से अवगत रहें।

यह तब भी मदद करता है जब आप अपने साथी के साथ सेन्शूअली इंटिमेट होते हैं। यह आप इस जानकारी का उपयोग कर अपने साथी को उन पॉइंट्स की ओर गाइड कर सकते हैं, जिन्हें आप अभी महसूस करते हैं।

अपने शरीर को धीरे-धीरे मजबूत करना शुरू करें। आप किसी पोस्ट-पार्टम योगा प्रशिक्षक या फिटनेस प्रशिक्षक से संपर्क कर सकते हैं।

दर्द के डर से जोड़े कुछ समय के लिए सेक्स से दूर रह सकते हैं। अक्सर पुरुष यह सोचते हैं कि अपने शिशुओं के बर्थिंग को देखने के बाद वे अपने साथी के दर्दनाक अनुभव से आश्चर्यचकित रह जाते हैं। इससे अंतरंगता और सेक्स में अड़चन आ जाती है।

यही बात महिलाओं पर भी लागू होती है, टांके लगने के बाद और सेक्स का विचार उनको कष्टदायक लग सकता है। याद रखें कि यह धारणा केवल डर है, सच्चाई नहीं। सेक्शूअल अंतरंगता केवल एक शारीरिक आवेग नहीं है, बल्कि मनोवैज्ञानिक भी है, इसलिए डर को स्वीकार करना और उससे उभरना महत्वपूर्ण है।

प्रसव के बाद अंतरंगता, टिप 3: आपस में शेयर की जाने वाली इंटिमेसी के बारे में जागरूक रहें

जोड़े बौद्धिक, भावनात्मक, अनुभवात्मक, कामुक और यौन अंतरंगता शेयर करते हैं। इसमें से एक प्रकार की अंतरंगता किसी भी जोड़े के बीच प्रमुख है। उस क्षेत्र को बढ़ाना जिसमें आप पहले सुखी थे, और फिर अन्य प्रकार की अंतरंगता अपने साथी के साथ शेयर करना मदद करता है।

इस बारे में सोचें कि आपके बच्चे के आने से पहले आपके संबंधों में अंतरंगता के कौन से क्षेत्र प्रमुख थे? यदि आप राजनीति, साहित्य के बारे में बातचीत करना पसंद करते थे या आप एक-दूसरे को किताबें पढ़ के सुनना पसंद करते थे, तो उस अंतरंगता को फिर से स्थापित करने के लिए समय खोजने की कोशिश करें।

इस बारे में सोचें कि आप अपने जीवनसाथी के साथ भावनात्मक अंतरंगता कैसे शेयर करते हैं। कुछ जोड़े अपनी भावनाओं के बारे में अक्सर एक दूसरे से बात नहीं करते हैं लेकिन जब वे ऐसा करते हैं, तो वह एक दूसरे के बीच गहरा संबंध और समझ बना पाते हैं।

दूसरी तरह की अंतरंगताओं की तरह, भावनात्मक अंतरंगता भी हर जोड़े के लिए अलग होती है, इसलिए सोचिए कि आप अपने पति या पत्नी के साथ शादी या बच्चे के जन्म से पहले भावनात्मक रूप से कैसे जुड़े थे और इसे वापिस स्थापित करना शुरू करें। याद रखें कि एक दूसरे से ऐसी कोई अपेक्षा न करें जो आपके लिए सही नहीं है या कुछ ऐसा जो समाज आपसे अपेक्षा रखता है।

टिप 4: शारीरिक अंतरंगता के बारे में अपनी धारणाओं को फिर से संगठित करें

शारीरिक और मानसिक रूप से नई माँ सेक्स के लिए तैयार नहीं हो पाती हैं। अक्सर हमारे दिमाग में यही बात होती है। कभी-कभी, नए पिता भी सेक्स के लिए तैयार नहीं हो पाते हैं।

यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि शारीरिक अंतरंगता का अंतिम परिणाम सिर्फ संभोग नहीं होना चाहिए, और सेक्स शुरू करने का अंतिम परिणाम ऑर्गैज़म नहीं होना चाहिए। आलिंगन, गले मिलना, किसिंग, स्पूनिंग और यहां तक ​​कि नॉन पेनेट्रेटिव सेक्स के लिए अवसर बनाएँ।

विशेषज्ञों का सुझाव है कि फ़ॉड्नेस का परस्पर अभिव्यक्ति अंतरंगता को बढ़ाती है और उसका नतीजा स्टेबल मैरिज के तौर में दिखता है। अपने साथ बिताये पलों में उत्सव का एक स्पर्श जोड़ने की कोशिश करें- रात को खाने के लिए बाहर जाते हैं या फिल्म देखने जाते हैं तो आप अपने बच्चे को बेबीसीट करने के लिए परिवार के किसी सदस्य या दोस्त की मदद ले सकते हैं। अपने बच्चे को सम्भालने जाने से पहले एक किस या एक दूसरे के तरफ कोमलता का भाव काफी मदद करता है।

एक-दूसरे के बीच प्यार को मजबूत करने के तरीकों के बारे में सोचें। यह न केवल आपकी अंतरंगता को बढ़ाता है, बल्कि आपको दिन-प्रतिदिन के संघर्षों का प्रभावी ढंग से सामना करने में मदद करता है।

यह याद रखना भी ज़रूरी है कि सेक्स और वास्तव में एक-दूसरे की कंपनी का आनंद लेना नैचूरली नहीं आता है, खासकर जब आपका सारा ध्यान बच्चे पर हो। सुनिश्चित करें कि सब कुछ आपके बच्चे पर केंद्रित नहीं है, ज़रूरी है कि आप अपने पति या पत्नी के साथ एक वयस्क संबंध बनाए रखें।

कुछ जोड़े आगे की योजना बनाना पसंद करते हैं, जबकि कुछ सर्प्राइज़ तत्व पसंद करते हैं। अपनी स्टाइल चुनें और सुनिश्चित करें कि आप एक दूसरे को समय दें। गर्भनिरोधक विधियों का उपयोग करे, यदि आप तुरंत गर्भवती होने की योजना नहीं बनाते हैं, तो यह महत्वपूर्ण है। आपके शरीर में हार्मोनल बदलाव के कारण, आपको लुब्रिकेंट्स का उपयोग करने की भी आवश्यकता हो सकती है।

यौन असंतोष के बारे में इनकार करना आसान है, लेकिन नई चीजों की कोशिश करने के बिना कुछ भी नहीं बदलेगा। जो आपको पसंद है और जो दोनों के लिए काम करता है, उसके आसपास संचार को प्रोत्साहित करे। उदाहरण के लिए, बच्चे के जन्म से पहले आपको क्या पसंद है, इस बारे में सोचें, अपने साथी को बताएं, “वो समय याद है जब ____? मैं इसे फिर करना पसंद करूँगी।”

अपने साथी से इस बारे में बात करें कि क्या मुश्किल है (शायद आपके शरीर के दर्द या धारणा का डर), “मुझे डर है कि …” या उसे भी समझाएं कि कौन से क्षेत्र में आप विशेष रूप से संवेदनशील और कमजोर महसूस करते हैं।

अपने डर को आवाज़ देने में सक्षम होना और अपने जीवनसाथी से बातचीत करना और समर्थन पाना, एसी चीज़ है आपको करना है, न कि कुछ ऐसा जो अपने आप ही हो जाएगा।

एक दंपति के रूप में, जो काम नहीं कर रहा है उस पर ध्यान केंद्रित करने और बढ़ाने के बजाये जो काम करता है उस पर ध्यान दें और बच्चा होने के बाद इंटिमेसी को बनाए रखें!

आरती सेल्वन के और आर्टिकल्स पढ़ें यहां 

मूल चित्र: FilterCopy/ 7 Heartwarming Moments In A Marriage, YouTube

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Aarathi Selvan is a clinical psychologist, Mindfulness guide and a Contemplative artist. Trained in the

और जाने

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020

All Categories