कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

कुछ और ना मिले तो स्ट्रेच मार्क्स को ही ट्रोलिंग का मुद्दा बना लें…

जब एक महिला बच्चे को जन्म देती है तो उसके शरीर में कई बदलाव आते हैं। पैरों में सूजन, पेट का बढ़ जाना...स्ट्रेच मार्क्स भी उनमें से एक है।

जब एक महिला बच्चे को जन्म देती है तो उसके शरीर में कई बदलाव आते हैं। पैरों में सूजन, पेट का बढ़ जाना…स्ट्रेच मार्क्स भी उनमें से एक है।

इन्हीं स्ट्रेच मार्क्स को लेकर अभिनेत्री मलाइका अरोड़ा को सोशल मीडिया पर ट्रोल किया गया। मलाइका जो अपनी फिटनेस को लेकर हमेशा सुर्खियों में रहती हैं, उन्हें वर्कआउट कर जिम से निकलते हुए देखा गया और उनकी तस्वीर वायरल हो गयी। जैसे ही मलाइका की तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हुई, लोगों ने उन्हें सोशल मीडिया पर बूरी तरह से ट्रॉल किया। जानते हैं वजह क्या थी? उनके स्ट्रेच मार्क्स!

हालांकि बहुत से लोगों ने मलाइका का समर्थन करते हुए कहा कि स्ट्रेच मार्क्स कॉमन है। वहीं कई यूर्जस ने मालइका का समर्थन करते हुए कहा कि ‘इसमें बड़ी बात क्या है? यह लोग मालइका का मज़ाक उड़ा रहे हैं, पर जेनिफर लोपेज और जेनिफर एनिस्टन की प्रंशसा करते हैं। यह है सही मायनों में हिपोक्रेसी।’ लेकिन कुछ यूज़र्स ने बहुत ही वाहयात कमेंट लिखे। किस ने तो ये भी कह दिया कि अब उनकी असली उम्र दिख रही है और उन्हें कुछ कुछ नाम दिए।

यह पहली बार नहीं है जब मलाइका अरोड़ा ने स्ट्रेच मार्क्स को शान से दिखाया है। कई बार मलाइका ने बिना किसी शर्म या एडिटिंग के अपनी स्ट्रेच मार्क्स की तस्वीरे सोशल मीडिया पर शेयर की है। इससे पहले भी उन्होंने छुट्टियों की तस्वीर डालते हुए क्रॉप टॉप पहन कर अपने स्ट्रेच मार्क्स दिखाये हैं।

क्यों होते हैं स्ट्रेच मार्क्स?

जब एक महिला बच्चे को जन्म देती है तो उसका शरीर कई तरह के बदलावों से गुजरता है। पैरों में सूजन, पेट का बढ़ जाना, थकावट…स्ट्रेच मार्क्स भी उनमें से एक हैं। ये स्ट्रेच मार्क्स प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाला यह एक शारीरिक बदलाव है। और यह मार्क्स कई और कारणों, जैसे वजन बढ़ने के कारण भी नज़र आते हैं।

स्ट्रेच मार्क्स जैसी समस्या महिलाओं के लिए बेहद आम है। ऐसा नहीं है कि यह सिर्फ महिलाओं के साथ होती है, पुरुषों को भी स्ट्रेच मार्क्स की समस्या होती है पर उन्हें कभी ट्रोल नहीं किया जाता है।

स्ट्रेच मार्क्स को देखकर हम किसी इंसान के बुढ़ापे का अंदाजा कैसे लगा सकते हैं?

मलाइका अरोड़ा जैसी कितनी ही हॉलीवुड अभिनेत्रियों को स्ट्रेच मार्क्स होंगे, पर हम सब पर तो सवाल नहीँ उठाते तो मालइका पर क्यों? क्योंकि वह अपने से छोटे उम्र के इंसान को प्यार करती हैं जो हमारे पितृसत्ताक समाज को मंजूर नहीं है?

भारत में मौजूद हर दूसरी महिला स्ट्रेच मार्क्स जैसी समस्या से जुझती है। स्ट्रेच मार्क्स होने के अपने कारण हो सकते हैं। कुछ महिलाओं को वजन घटने पर तो कुछ को वजन बढ़ने पर स्ट्रेच मार्क्स जैसी सम्स्या उतपन्न होती है।

Never miss real stories from India's women.

Register Now

ऐसा पहली बार नहीं है जब महिलाऐं स्ट्रेच मार्क्स को लेकर ट्रोल हुई

करीबन दो साल पहले ज़रीन खान को लोगों ने सोशल मीडिया पर बुरी तरह से ट्रोल किया था। तब अनुष्का शर्मा ने आगे बढ़कर यह लिखा था – तुम खूबसूरत और बहादूर हो। जैसी हो वैसी परफेक्ट हो।

साथ आने की ज़रुरत

ऐसे विषयों पर स्कूल से लेकर घर तक हर जगह बात होनी चाहिए। सब को बताना चाहिए स्ट्रेच मार्क्स क्या हैं यह क्यों होते हैं। अगर कहीं तुम किसी महिला के स्ट्रेच मार्क्स देखो तो जानो कि उनके शरीर ने कई परिस्थितियों का सामना किया है। अगर वे निराश हैं तो उन्हें हिम्मत देने की कोशिश करो। तुम्हारा साथ उन्हें बहुत हिम्मत देगा।

मज़ाक उड़ाना बंद करें

स्ट्रेच मार्क्स हममें से ज्यादातर की माँ या बहनों, पत्नीयों को होगें, पर वह कभी शर्म और मज़ाक बनने के चक्कर में इस विषय पर नहीं बोल पाती हैं। किसे अच्छा लगता होगा कि उनके शरीर पर निशान उभरें और वह कुछ नहीं कर सकें। वह इतने मार्क्स इसीलिए झेलती हैं ताकि वह नये जीवन को जन्म दे सकें। उनका मजाक उड़ा कर हम उनके सर्मपण को गाली देते हैं। और तो और इन स्ट्रेच मार्क्स का होना न होना उनके हाथ में है ही नहीं।

इस पर चर्चा ज़रुरी

ऐसा बहुत बार होता है जब हम अपनी माँ या पत्नी के स्ट्रेच मार्क्स का मजाक उड़ाते हैं। उन्हें तरह-तरह के ताने मार कर उन्हें शर्मसार करते हैं। अगर शुरु से ही ऐसे विषयों पर बच्चों को समझाया जाए तो आगे चलकर वह इस समस्या को समझेंगे और किसी का मज़ाक नहीं उड़ाएंगे।

मूल चित्र : Malaika Arora Instagram/Navbharat Times 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

टिप्पणी

About the Author

14 Posts | 46,092 Views
All Categories