कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

उम्मीद पर टिकी हैं साँसों की डोर..

Posted: दिसम्बर 8, 2020

वो जानती है कि तन से जख्मों के निशान मिटा नहीं करते, पर मन पे पड़े ज़ख्मों के निशान शायद अकूट प्रेम, समर्पण, पश्चाताप के एहसास और वक्त मिलकर पोंछ  देते हों।

कोर्ट की चौखट पर पहुँचा रिश्ता, घर की चारदीवारी में वापस तो आ गया था,पर जलालत और शब्दवाणों से  बुरी तरह बींध गया था। मन रक़्त से तर था क्योंकि अपनों के दिए हुए ज़ख्म बहुत गहरे होते हैं और दूसरे ज़ख्मों से ज्यादा दर्द भी देते हैं। इसके बाद भी समय और बदला हुआ सोम पूरे तन-मन-धन से उस ज़ख्म की मरहम पट्टी की पुरजोर कोशिश में लगे हुए थे। वही सोम जिसके प्रेम में कभी वो कशिश थी जिसने उसे अपने धर्म की रेखा तक लंघवा दी थी।

प्यार के तोते उड़ने लगे और….

हद से ज्यादा प्यार करने वाले प्रेमी से शादी के बाद भी बहुत सारी उम्मीदें जुड़ी होती है।  प्रेम पेट से तो फिर भी समझौता कर लेता है पर दिल से समझौते करने पड़ें तो, प्रेम अपना ही अस्तित्व खोने लगता है। शादी के बाद का समय तो पखेरु सा गुजर पर दोनों के घर की तरफ से आती बेरूखी की बयार सना पर बेअसर रही परन्तु सोम को उड़ा ले गई। प्यार के तोते उड़ने लगे और प्रताड़ना की जंज़ीरें कसने लगीं। और वही हुआ जैसा समाज और परिवार चाहता था। अलगाव तय था,सोम के लिए सब दरवाजे खुले थे,पर सना को तो अब अपने अस्तित्व ने भी जवाब दे दिया था।

लेकिन एक उम्मीद और… 

अचानक से कोर्ट की एक तारिख के ही दिन टूटी सना को अपने अंदर आस के एक बिरवे का आभास हुआ। फिर तो जिंदगी बदल गई,सब पूर्ववत से भी अच्छा हो गया और जख्म भरने लगे। सना ने सोम को माफ़ भी कर दिया था। उसके इश्क की शिद्दत और अंदर पलती जान उसको विश्वास दिलाते। वो जानती है कि तन से जख्मों के निशान मिटा नही करते, पर मन पे पड़े ज़ख्मों के निशान शायद अकूट प्रेम, समर्पण ,पश्चाताप के एहसास और वक्त मिलकर पोंछ  देते हों। जिसके आभास मात्र ने दोनों की जिंदगी पटरी पर ला दी, उसके आने से तो सबकुछ बदल जाएगा और उसका जीवन फिर से इंद्रधनुषी हो जाएगा।

काश ऐसा ही हो..सना को एक साथ दो-दो उम्मीदें थी।

मूल चित्र: Chad Madden via Unsplash 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020