कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

तब्बू की ये पांच फिल्में मैं कभी भी देख सकती हूँ और आप?

Posted: नवम्बर 5, 2020

तब्बू एक अंडररेटेड एक्टर हैं। लेकिन तब्बू की ये फिल्में हमेशा मेरे लिए खास हैं, जिनमें वे अपनी एक्टिंग स्किल्स से जान डाल देती हैं।

अनुवाद : शगुन मंगल  (यह लेख विमेंस वेब पर पहले यहां पब्लिश हुआ है।)

वे फिल्म इंडस्ट्री में एक बिलकुल गुमनाम सी फिल्म के बेहद क्रिन्जी गाने, रुक रुक रुक से आयी थीं, जो पुरुष प्रधान बॉलीवुड में आने का बस एक ज़रिया था। लेकिन, जहां, मेरे विचारों के मुताबिक, अजय देवगन के पास कोई एक्टिंग स्किल्स नहीं है, वहीं तब्बू की फिल्मों ने मेरे जीवन में अपनी स्पष्ट छाप छोड़ी है।

तब्बू की फिल्में? किसी भी समय!

तब्बू की फिल्मों की सूची बहुत लम्बी है, और दुर्भाग्य से इनमें से अधिकतर में वे नायक के नहीं हैं,  या यहां तक कि एक महत्वपूर्ण किरदार के रूप में भी नहीं हैं।  शायद ऐसा इसलिए क्योंकि फ़िल्मों में उनकी एंट्री तब हुई थी जब पुरुष प्रधान फिल्मों का चलन था। 

लेकिन उन्होंने निश्चित रूप से जो भी किरदार निभाया है उसमें एक छाप छोड़ी है, भले ही वह एक छोटी सी हो। यहाँ तब्बू की फिल्मों की मेरी पर्सनल लिस्ट है। 

अस्तित्व

अस्तिव तब्बू की फिल्मों की मेरी सूची में सबसे ऊपर आती है। एक मजबूत केंद्रीय किरदार, एक जटिल भूमिका, जो एक महिला को उसकी सेक्सुअलिटी के अधिकार से वंचित करता है।

अस्तित्व का अर्थ है ‘पहचान’, स्वयं की भावना जिसे भारतीय महिलाएं अक्सर नकारती हैं। सेक्सुअलिटी भी एक ऐसा नाजुक विषय है, विशेष रूप से बहुत ही मध्यम वर्ग के घर में, जिसमें अदिति पंडित हैं।

यह हिंदी और मराठी दोनों में फिल्म उद्योग के असाधारण कलाकारों के साथ बनाई गई थी और केवल तब्बू इसमें गैर-मराठी अभिनेता हैं, मोहनीश बहल के अलावा, जिन्होंने एक छोटी लेकिन महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, उनकी माँ की मूल भाषा मराठी हैं।

मैंने इसे कई बार देखी है, दोनों भाषाओं में।

माचिस

गुलज़ार की कहानी, गाने और निर्देशन, आरडी बर्मन का संगीत और तब्बू की प्रमुख भूमिका है। और इसमें क्या पसंद करने लायक नहीं है?

तब्बू का चरित्र, वीरा, या वीरेंद्र जैसा उन्हें कहा जाता है, पंजाब में एक साधारण, यंग, प्यारी गांव की लड़की से एक कठोर आंतकवादी, जो मरने के लिए तैयार है, के जीवन में होने वाले परिवर्तनों के पूरे स्पेक्ट्रम से गुजरती है। तब्बू की शुरुआती फिल्मों में से एक, यह निश्चित रूप से एक ऐसी फिल्म रही होगी जिसने उन्हें एक गंभीर अभिनेता के रूप में स्थापित किया।

चीनी कम 

इस दिसंबर-मई जैसे रोमेंस में तब्बू अपने से उम्र में कई बड़े अभिनेता अमिताभ बच्चन के साथ कास्ट हुई थीं। यह भारतीय दर्शकों के लिए एक बहुत ही अलग फिल्म थी।

एक 34 वर्षीय महिला और एक 64 वर्षीय पुरुष का रोमेंटिक रिश्ता जो एक आम भारतीय के आइडियल कपल की श्रेणी में नहीं आता है। 

भले ही हम अपने बाल विवाह के लिए जाने जाते हैं जहां दूल्हा किसी भी उम्र का हो सकता है। लेकिन हम एक महिला की अपनी भावनाओं को इतनी खुलकर कैसे दिखा सकते हैं? उसे आजादी किसने दी?

कम से कम एक बार देखने लायक है ये पाथ-ब्रेकिंग फिल्म, और यदि आप मेरे जैसे हैं, तो कई बार।

अंधाधुन

 इस दिन मैंने छुट्टी ली थी, हमारी उस प्री पेंडेमिक दिनों में। मुझे थिएटर में एक फिल्म देखनी थी – मेरा आकर्षण लगभग हमेशा कैरेमल पॉपकॉर्न रहते हैं। उस समय कुछ दिलचस्प फ़िल्में चल रही थीं, और मैंने नीना गुप्ता की बधाई हो, वरुण धवन और अनुष्का शर्मा की सुई धागा, और आयुष्मान खुराना की अंधाधुन के बीच चयन करने का फैसला किया। 

जैसे हमेशा लास्ट मिनट ही फिल्म की योजना बनती है, अन्य दो भरे हुए थे, और टिकट केवल अंधाधुन के लिए उपलब्ध थे। और मुझे आयुष्मान, (बधाई हो में वो भी है) उस समय काफी क्रश था, मैंने फैसला किया, क्यों नहीं, हालांकि यह 3-4 दिन पहले ही रिलीज हुई थी, और लगभग खाली सिनेमाघरों का मतलब शायद ये फ्लॉप है। लेकिन – कैरेमल पॉपकॉर्न! 

मैं अकेले हमेशा इन पॉपकॉर्न को लेती हूं। जब तक कि मेरी बेटी को मेरे साथ आने का समय है। लेकिन मैं फिल्म पर वापस आती हूँ।

यह एक रहस्योद्घाटन था। तब्बू जिस मिनट पर्दे पर दिखीं, मेरी नज़रें सिर्फ उन पर थी, आयुष्मान पर क्रश हो या नहीं। मैंने राधिका आप्टे को भी नज़रअंदाज़ कर दिया, जिन्हें भी मैं पसंद करती हूँ। तब्बू की इस भूमिका ने मुझे एहसास दिलाया कि वह कितनी सशक्त अभिनेत्री हैं!

चांदनी बार

तब्बू की फिल्मों की कोई भी सूची चांदनी बार के उल्लेख के बिना पूरी नहीं होती है।

चांदनी बार पूरी तरह से तब्बू की फिल्म है, शुरू से लेकर आखिरी तक। इसमें कोई गलती नहीं। वे अपनी आंखों से बहुत कुछ कहती हैं और सिनेमैटोग्राफी में करीबी दृश्यों का उत्कृष्ट उपयोग किया गया है।

इस फिल्म में तबू ने अपने किरदार को पूरी तरह निभाया है – वे लगभग मुमताज बन गई, एक गरीब अनाथ लड़की जो बड़े शहर में खो जाती है, बार डांसर और सेक्स वर्कर, पत्नी एक बेहतर जीवन के लिए सब कुछ छोड़ कर चली जाती है। और फिर माँ… जैसे जैसे मैं लिख रही हूँ, मैं अपनी आँखों के सामने उनके सभी अवतार देख सकती हूँ।

तो इन तब्बू की फिल्में में से वे कौन हैं? माचिस की गाँव की युवा लड़की? चांदनी बार में बार डांसर/असहाय माँ? चीनी कम में सशक्त शहरी महिला? दृढ़ मध्यम वर्ग की महिला जो सिर्फ अस्तित्व में अपनी पहचान के लिए जागृत हुई है? या अंधाधुन में रहस्यमयी और खतरनाक महिला?

तब्बू की कई और फिल्में हैं जो मुझे अभी भी देखनी हैं, जो मुझे पता है कि अच्छी हैं, द नेमसेक, दृश्यम, और मकबूल तीन हैं जो मुझे जल्द ही देखनी है। लेकिन वे फिर कभी।

तब्बू को जन्मदिन की बहुत बहुत शुभकामनाएं!

मूल चित्र : Still from the film

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

In her role as the Senior Editor & Community Manager at Women's Web, Sandhya

और जाने

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020