कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

रखिये अपना ध्यान क्यूँकि खुद से प्यार करना भी ज़रूरी है…

Posted: अक्टूबर 6, 2020

केवल माँ, पत्नी या हाउसवाइफ बन कर ही न रह जाएँ, औरों की तरह आपको भी एक ही जीवन मिला है, इसलिए सबका ध्यान रखती हैं तो थोड़ा अपना ध्यान भी रखिए।

कितनी सारी भूमिकाएँ निभाती है एक महिला?

एक परफेक्ट माँ, बेटी, बहन, हाउसवाइफ और करियर वूमैन बनने की कोशिश में एक चीज़ जो वो सबसे ज्यादा नज़रअन्दाज़ करती चली जाती है, वो है उसका शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य।

नतीजा होता है, उसका गिरता स्वास्थ्य और अवसाद का उसके मन पर लगातार बढ़ते जाना।
हमारा समाज भी तो एक महिला से यही अपेक्षा रखता है कि वह बिना शिकायत किए, बिना थके, दिन-रात अपनी जिम्मेदारियों को पूरा करने में लगी रहें। और हैरानी इस बात पर होती है कि अपेक्षा करने वाले इस समाज में पुरुषों के साथ-साथ महिलाएँ भी हैं। इसलिए ज़रूरी है कि अपना ध्यान रखिये, थोड़ा प्यार खुद से भी करें।

कैसे रखें अपना ध्यान

  • सबके साथ-साथ अपने बारे में भी सोचें।
  • वो सारे काम करिए, जिनसे आपको सचमुच खुशी मिलती हो।
  • अपने वो छोटे छोटे काम भी करिए, जो दूसरों के कारण अब तक आप टाले जा रही थीं।
  • अपने अच्छे काम के लिए खुद को शाबाशी दें।
  • गलतियाँ आप से भी हो सकती है, इसके लिए एक सीमा तक ही खुद को जिम्मेदार समझें।
  • अगर आपको लगे कि दूसरों का जीवन आपसे बेहतर है, तो ऐसी चीजों की सूची बनाएँ जो आपके जीवन में ख़ास हों ।
  • किसी काम को करने का मन नहीं है तो ना कहना भी सीखिए।
  • अपनी हॉबी को समय दीजिए।
  • दिन भर में कम से कम एक घंटा खुद को दीजिए। इसमें चाहे आप मनपसन्द संगीत सुनें, पुस्तक पढ़ें, बागबानी करें, सुबह की सैर या शान्त रहकर आराम ही करें।
  • कुछ समय अपने दोस्तों के साथ भी बिताएँ। याद रखिए सच्चे दोस्त केवल मस्ती के लिए ही नहीं बल्कि बड़ी से बड़ी मुश्किल से भी बाहर निकालने में मददगार साबित होते हैं।

थोड़ा सा प्यार दुलार खुद से भी

इन सारी बातों का निचोड़ ये है कि सबका ध्यान रखती हैं तो थोड़ा अपना ध्यान भी रखिए। थोड़ा सा प्यार दुलार खुद से भी कीजिए। केवल माँ, पत्नी या हाउसवाइफ बन कर ही न रह जाएँ। औरों की तरह आपको भी एक ही जीवन मिला है। कुछ काम अपने लिए और अपनी खुशी के लिए भी करें और वो भी बिना किसी अपराध बोध के।

जब आप करेंगी खुद से प्यार ,
तभी और लोग करेंगे आपसे दुलार।

ऊपर लिखी बातों पर अमल ज़रूर करिए, मुझे उम्मीद है कि आपको परिणाम जल्दी ही मिलेंगें, वो भी सकारात्मक रुप में।

मूल चित्र : triloks from Getty Images Signature CanvaPro 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Samidha Naveen Varma Blogger | Writer | Translator | YouTuber • Postgraduate in English Literature. • Blogger at Women's

और जाने

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020