कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

क्या तुम कर पाओगे उस पावन अग्नि में स्वाहा अपने मर्द होने के अहंकार को?

Posted: जून 30, 2020
Tags:

शादी के बाद एक पत्नी का सवाल अपने पति से, “क्या तुम भी ले जा रहे हो एक ‘काठ का पुतला’ घुमाने को अपने इशारों पे? क्या तुम मेरा साथ निभाओगे?” 

वो दिन याद है क्या तुम्हें जिस रोज तुमनें मुझे अपना बनाया था? तुम आये थे शेरवानी में और मुझे लाल सुर्ख़ जोड़े में सजाया गया था? तुम जानते हो मैं अंदर ही अंदर कितना सहम रही थी? जैसे-जैसे विवाह की बेला नजदीक आती, मेरे अंदर ही अंदर मिटता वो कौमार्य और उसके साथ मिटती वो अल्हड़ता वो चंचलता।

एक लड़की जो ना चाहते हुए भी बनायी जाएगी एक स्त्री

दम तोड़ती मेरे अंदर एक लड़की जो ना चाहते हुए भी बनायी जाएगी एक स्त्री और फिर शुरू होगा एक कभी ना समाप्त होने वाला सफर। मुझे पसंद था यूँ तो सफर करना, पर ना अब वो मायने होंगे और ना वो साथ होगा। होंगी भी तो बस ज़िम्मेदारियाँ जिससे सबको लगता है कि हमेशा भागती रही हूं मैं।

शायद ये ही नियति हो शादी के बाद एक लड़की की?

तुमसे शादी के वादे ना चाहते हुए भी शायद निभाऊंगी क्योंकि तुम तो ले जा रहे हो ‘एक स्त्री’ को जिसने अभी-अभी मारा है खुद को। शायद ये ही नियति हो एक लड़की की?

पर तुम क्यों नहीं मारते हो खुद के एक मर्द होने के अहंकार को? घर के स्वामी होने के एकाधिकार को? क्यों नहीं करते हो स्वाह उस पावन अग्नि में अपने पुरुषार्थ को जो तुम्हारे घर वालों ने तुम्हें वसीयत स्वरूप दिया होगा?

पर क्या तुम भी ये कभी कर पाओगे?

मैं जानती हूँ मैं सँभालुंगी बहुत से रिश्तों का बोझ। समझूँगी तुम्हारी माँ को अपनी माँ। पर क्या तुम भी ये कभी कर पाओगे? क्या ये ही निश्वार्थ प्रेम तुम लौटा पाओगे मुझे? या तुम ले जा रहे हो एक ‘काठ का पुतला’ घुमाने को अपने इशारों पे?

क्या तुम दे पाओगे उस वक्त मेरा साथ जब ये घर और रिश्तें सब बेगाने से होंगे? तुम दे पाओगे अपना हाथ मेरे लड़खड़ाने पर? या तुम खड़े होगे उस मूक-दर्शक से जो इंतजार करते हैं कहीं ना कहीं घर लौट जाने का? क्या तुम बना पाओगे एक ऐसा घर जिसमें हम पति-पत्नी ना हो कर हो एक दोस्त या फिर तुम भी डालोगे बोझ मुझ पर घरवाली का?

मूल चित्र : Canva 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020