कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

तुम्हारे साथ गुज़ारी उन रातों के उपरांत…

Posted: जून 19, 2020

तेरे हर दर्द को वो अपना दर्द समझ कर जकड़ लेती है खुद को और ढूंढती है तेरी आखों में हर पल उस प्यार को जो आवश्यकताओं से ऊपर हो।

तुम्हारे साथ गुज़ारी उन रातों के उपरांत…वो बाँध लेती है, अपनी साड़ी को बदन से शायद वो बाँध लेती है तेरी हर छुअन को, रख लेती है तेरे हर उस स्पर्श को छुपा कर, जो तूने शायद गुज़ारा था बस वासना की पूर्ति के फलस्वरूप, वो बनाती है जूड़ा और बाँधती है हर रोज़ शादी के उन सत फेरों को जो शायद तूने भी तो लिए होंगे उस रोज।

जो तू उसकी मजबूरी समझता

उसकी माथे की बिंदी बताती है उसके उस अनकहे सर्मपण को, जो तू अक्सर उसकी मजबूरी समझता होगा। वो उठती है हर रोज़ और बुनती है हर एक ख्वाब को जैसे कोई बुनकर बुनता है कालीन पर उन सतरंगी रंगों को…

वो छुपा लेती है हर दर्द को

वो छुपा लेती है हर दर्द को अपने सुर्ख काजल के नीचे, वो बाँधती है पैरों में पायल औऱ खुद को जकड़ लेती है तेरी उन मान-मर्यादाओं को, जो तूने स्त्री होने के नाते लगाई होंगी। वो लगाती है तेरे नाम का सिंदूर, जो बताता है उसका अपार प्रेम तेरे प्रति, पर तू समझ लेता है उसे भी उसका कर्तव्य…

वो संभालती है तेरे उन ख्वाबों का बोझ

इन सब के बीच वो संभालती है तेरे उन ख्वाबों का बोझ। तेरे हर दर्द को वो अपना दर्द समझ कर जकड़ लेती है खुद को और ढूंढती है तेरी आखों में हर पल उस प्यार को जो आवश्यकताओं से ऊपर हो। पर तुम्हें लगता है कि वो ढूंढ पाती उस प्रेम को नहीं, नहीं हर बार पाती है वो असफलता।

फिर भी वो ना जाने कहाँ से ले आती है इतना प्रेम, जो उसको ढूंढने पर भी मिलता नहीं। वो कहाँ से लाती है उस दर्द को सहते हुए मुस्कुराने का हौंसला? कहाँ से लाती है वो उस अथाह प्रेम को? और कैसे लगाती है हर बार उस प्रेम रूपी सागर के गोते इतने निरर्थक प्रयासों के बाद?

तुम्हारे साथ गुज़ारी उन रातों के उपरांत…

मूल चित्र : Pexels

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020