कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

मेरे मायके का मीठा सबसे मीठा

Posted: March 25, 2020

मन अंदर तक कचोट जाता, अपने घर की इतनी प्यार से बनाई मिठाइयां जब उनकी ज़ुबान से कड़वी हो जातीं, सो इस बार मैंने मिठाई का डिब्बा उनको दिया ही नहीं।  

बहू के घर से हमेशा कुछ न कुछ आना, कभी तोहफे, कोड़े(उफ़्फ़ ये क्या टाइप हो गया) माफी चाहूंगी…कपड़े लिखना चाहती थी, आना बहुत आम बात है। मिठाई तो जैसे हम चलते चलते ताज़ी सब्ज़ी ले आते हैं, वैसे बेटी को ससुराल भेजते हुए पिताजी शहर की सबसे महंगी और ‘फेमस’ मिठाई अपने प्यार के साथ बांध दिया करते हैं। और साथ ही माँ के हाथ की मठरी, गुलाब-जामुन और गुजिया।

जब मिठाई ससुराल पहुंचती है, डिजिटल ज़माने में लैंडलाइन के उस पुराने पड़े डब्बे की तरह उपेक्षित सी किसी कोने में पड़ी रहती है। यूँ तो सब चटकारे ले लेकर हमारे मायके की मिठाई खाया करते हैं पर साथ ही उसमें क्या बेहतर हो सकता है उसका गुणगान भी गाया करते हैं।

“ये रसगुल्ले थोड़े फीके से लगते हैं, थोड़ी चाशनी और अच्छे से डालते तो और अच्छे लगते!”

“गुलाबजामुन तो हमारे शहर के खा कर देखो, क्या मुलायम और स्वादिष्ट!”

“ये कौन सी मिठाई है, हमने तो कभी ना चखी, कोई पान की भी मिठाई बनाता है भला?”

“मोयन कम लगता है, नहीं तो और मुलायम बनती मठरी।”

कभी-कभी तो बेचारी टेढ़ी जलेबी भी उनकी टिप्पणियों के आगे सीधी लगती!

मन अंदर तक कचोट जाता, अपने घर की इतनी प्यार से बनाई मिठाइयां जब उनकी ज़ुबान से कड़वी हो जाती। आज भी ससुराल आते-आते, पापा ने बैग में मिठाई रख दी। बैग नीचे रखते ही सबकी लपलपाती जीभ और आंखें मेरे बैग की तरफ निशाना साधने लगी। तभी मैंने मिठाई का डब्बा निकाला और कमरे में ले जाकर रख दिया।

बड़ी-बड़ी आंखें और मूंछो का ताव इस गुस्ताख़ी का जवाब मांग रहा था, “इस बार पापा ने सिर्फ वो फ़ीके वाले रसगुल्ले ही दिए हैं?” बाकी मिठाइयां तो यहां और अच्छी और स्वादिष्ट बनती हैं तो मैंने भी उन्हें देने से मना कर दिया। रसगुल्लों से पूरी चाशनी निचोड़ के फीकापन आता है, ठीक वही फीकापन घरवालों के चेहरे पर भी था। और मैं अपने मायके की मिठाई खाने चली गई।

मायके के प्यार की चाशनी में लिपटी। बचपन की यादों की तरह मुलायम! खाने के बाद मीठे पान की तरह स्वादिष्ट! उसका स्वाद हमेशा मुझे उन्हें अपने पास रखता है, उनसे दूर होकर भी।

मायके की मिठाई!

मूल चित्र : Canva 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Now a days ..Vihaan's Mum...Wanderer at heart,extremely unstable in thoughts,readholic; which

और जाने

Online Safety For Women - इंटरनेट पर सुरक्षा का अधिकार (in Hindi)

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?