कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

विवाह और महिलाओं का मानसिक स्वास्थ्य – कैसे प्रभावित होती हैं महिलाएं?

विवाह और महिलाओं का मानसिक स्वास्थ्य आपस में गहरा रिश्ता दर्शाते हैं। यहां जानें शादी के तनाव से कैसे निपटें?

विवाह और महिलाओं का मानसिक स्वास्थ्य आपस में गहरा रिश्ता दर्शाते हैं। यहां जानें शादी के तनाव से कैसे निपटें?

बेंगलुरु के साक्रा वर्ल्ड अस्पताल की मनोचिकित्सक सबीना राव ने बताया कि उनके क्लिनिक में आने वाली आठ में से दो महिलाएं वे होती हैं जिनकी विवाह के बाद होने वाले झगड़े और दुर्व्यवहार (भावनात्मक, वित्तीय और शारीरिक) से मानसिक स्वास्थ्य की समस्याएं बढ़ जातीं हैं।

“अक्सर, वे व्यग्रता और अवसाद के संकेतों के साथ आतीं हैं, लेकिन कभी-कभी वे विवाह के साथ आने वाले बदलावों और झटके से व्याकुल हो जातीं हैं।”

हालांकि यह ज्ञात है कि किसी भी तरह का दुर्व्यवहार मानसिक स्वास्थ्य संबंधी कई समस्याओं का कारण होता है, डॉ राव बताती हैं कि व्यक्तिगत और पर्यावरणीय दोनों कारकों में अचानक बदलाव महिलाओं के मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकते हैं।

क्या विवाह महिला के मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है? (shaadi ke baad mental health)

जीवन को प्रभावित करने वाले किसी भी अन्य फैसले की तरह, शादी/साझेदारी का हिस्सा बनना रोमांचक और चुनौतीपूर्ण दोनों हैं। एक ओर जबकि यह साझेदारी के सभी सुखों को लाता है, वहीँ दूसरी ओर, यह नए पर्यावरण, नए परिवार के साथ सामंजस्य बनाने की चुनौतियों के साथ आता है और बहुत से मामलों में जो एक महिला के लिए शादी से पहले वाले शहर से दूर एक नया शहर रहता है।

बेंगलुरु स्थित काउंसलर सिमी मैथ्यू कहती हैं कि, “महिलाओं में तनाव और सामंजस्य की मांग निश्चित रूप से अधिक है। भारत में नई साझेदारी का अक्सर मतलब पुरुषों की तुलना में महिलाओं को कई अपरिचित कारकों का सामना करना होता हैं।”

हमने विवाह के कारण महिलाओं द्वारा सामना की जाने वाली चुनौतियों और उत्पन्न हो सकने वाली मानसिक स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का पता लगाया।

नए वातावरण से सामंजस्य

भारतीय महिलाओं के लिए विवाह में अक्सर नई जगह में जाना शामिल होता है, जबकि कुछ एक नए और अपरिचित परिवार में पहुंच जाती हैं, अन्य अपने परिवारों से दूर अपने भागीदार से जुड़ने के लिए नए शहर में चली जाती हैं। मैथ्यू कहती हैं, “महिला इस कदम को स्वीकार करेगी और चली जाएगी। और यह शहरी और ग्रामीण दोनों जगहों पर सच है।

Never miss real stories from India's women.

Register Now

अक्सर महिलाएं खुद इस कदम के भावनात्मक अधिभार के बारे में बात करने से हिचकिचाती हैं क्योंकि वे नखरे करने वाली या अति भावनात्मक दिखने से बचना चाहती हैं। अपने नए परिवार और पति के समर्थन और सामंजस्य की सीमा की आवश्यकता पर निर्भर करता है, कई महिलाएं समय के साथ अपना लेतीं हैं। लेकिन कुछ अन्य के लिए, तनाव, दुःख और असहाय होने की भावना जो एक विशिष्ट नई स्थिति होने से आती है, सामंजस्य विकार, अवसाद और व्यग्रता का कारण बन सकती है।”

आत्म का बोध

डॉ. राव का कहना है कि “विवाह (व्यापक भारतीय संदर्भ में) कई महिलाओं के लिए एक झटके के रूप में आता है जिन्होंने अपने जीवन के पहले 25-30 वर्ष स्वतंत्र रूप से सोचने के लिए प्रोत्साहित किए जाने में बिताए हैं। उनके पास करियर और दृष्टिकोण है और अचानक जब उनका सामना ससुराल वालों से करना पड़ता है जो उस गति से विकसित नहीं हुए हैं, या यदि उनका साथी समानता स्वीकार नहीं करता है, तो वे आत्म की भावना को खोना शुरू करती हैं।”

वह कहती हैं कि “अक्सर इन हताशा और असहाय होने की भावनाओं को दबाने से अवसाद और व्यग्रता के लक्षण बढ़ सकते हैं। किसी भी तनाव के कारण को हल नहीं किए जाने पर वह एक मानसिक स्वास्थ्य समस्या का रूप ले सकता है।”

अपेक्षा बनाम वास्तविकता

शादी के लिए सामंजस्य में आने वाली कई मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं जबकि बाहर से होती हैं लेकिन, दोनों भागीदारों द्वारा निर्धारित अवास्तविक अपेक्षाएं भी कारक होती हैं। मैथ्यू कहती हैं कि “दुर्भाग्य से, बहुत से जोड़े शादी से बहुत सारी समस्याएं हल करने की उम्मीद रखते है।” साझेदारी से अपनी उम्मीदों पर चर्चा करने के लिए जोड़े को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।

एक अच्छी नींव के लिए यह समझ बहुत महत्वपूर्ण है कि हर रिश्ते के लिए काम करना ज़रूरी है। अन्य कई रिश्तों से भिन्न, शादी में दो अलग-अलग भावनात्मक शैली, भिन्न परिवारों और अक्सर कर अलग मूल्य प्रणाली वाले दो लोग शामिल होते हैं, जो एक बहुत ही अंतरंग व्यवस्था में रहने के लिए साथ आते हैं। वह यह भी जोड़तीं हैं कि, “यहां इसका समाधान सरल बातचीत होता है, यदि आवश्यक हो तो एक परामर्शदाता के पास जाओ। लेकिन जानिए कि आप शादी क्यों कर रहे हैं।”

शादी के तनाव से कैसे निपटें (shaadi ke stress se kaise nipatein)

शादी में मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं का निदान करने में अक्सर मुश्किल होती हैं। कई लक्षण वैवाहिक कलह, असहमति या बस अपेक्षाओं का पूरा न होने के रूप में प्रकट होते हैं, जब तक कि यह गंभीर लक्षण न हो। यही वजह है कि दोनों भागीदारों के लिए महत्वपूर्ण है कि सहयोगी की भलाई के लिए काम करें।

1) अपने साथी को बताएं कि शादी का आपके लिए क्या मतलब है। शादी से अपनी अपेक्षाओं को देखकर समझें कि क्या आप दोनों की उम्मीद एक ही है। इस बातचीत को नरम करने के लिए सलाहकार/परामर्शदाता को शामिल करें।

2) अपने साथी के साथ रहना आपके जीवन और दिनचर्या को कैसे प्रभावित करेगा इसको समझें। अगर कोई परेशानी हो, तो अपने साथी को बताएं।

3) एक संयुक्त परिवार में जाने वाली महिलाओं के पतियों को नए समायोजनों के बारे में जानना चाहिए। समझें कि आपके साथी का अभिकर्तृत्व और उसके विचार कैसे हैं।

जब एक महिला को पहले से ही मानसिक स्वास्थ्य समस्या हो

मानसिक स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं बहुत अधिक लांछन के साथ आती हैं, जब शादी होनी होती है तब महिलाओं और पुरुषों दोनों के प्रमुख परिवार मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं को प्रकट नहीं होने देते हैं। मनोचिकित्सक डॉ. अशलेशा बागडिया का कहना है, “यह अभ्यास के रूप में अनैतिक है, जब महिलाओं की बात आती है, तो गोपनीयता से कई समस्याएं पैदा होती हैं और उनके नए परिवार से समर्थन की कमी पैदा होती है।”

• स्थिति को छुपाने के लिए, महिलाएं अक्सर दवा लेना बन्द कर देतीं हैं जब वातावरण में तनाव के साथ यह स्थितियां हो जाती हैं, तो कई महिलाओं में फिर से बीमारी उभर आती है। दवा के बन्द होने के कारण तनाव की अनुपस्थिति में भी बीमारी पलट सकती है।

• महिला को जब पहले से कुछ मानसिक स्वास्थ्य समस्या की भेद्यता हो तो गर्भावस्था इसको बढ़ा सकती है।

परिवार से सहायता से लेकिन महिलाएं अपने मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं को बहुत अच्छी तरह से प्रबंधित कर सकती हैं। “जब तक आप अपनी प्राकृतिक लय में नहीं आते और रिश्ते जिस प्रक्रिया से काम करते हैं, तब तक कुछ भी अनुदत्त नहीं मान लेना चाहिए। इस पर धैर्य के साथ धीरे-धीरे काम करें। शादी मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं को हल नहीं करने जा रही है।” मैथ्यू की राय यही है कि अपने साथी को अपनी बीमारी के बारे में बताइए, दंपतियों का परामर्श लें। विवाह और महिलाओं का मानसिक स्वास्थ्य पर ध्यान देना बेहद ज़रूरी है।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? महिलाओं और उनके मानसिक स्वास्थ्य के बारे में और जानकारी के लिए  hindi.whiteswanfoundation.org पर ज़रूर  जाएं। White Swan Foundation for Mental Health, बेंगलुरु में स्थित एक NGO है जो कि मानसिक स्वस्थ्य के विषय में निपुण ज्ञान सेवाएं प्रदान करता है।पिछले 5 वर्षों से यह संस्था अपने विचार और बोध (आर्टिकल्स, वीडियोस इत्यादि) से मानसिक स्वास्थ्य रोगियों, देखभाल करने वालों और जन साधारण के मानसिक स्वास्थ्य मुद्दों से निपटने के बारे में सूचित निर्णय लेने में सहायता करती आ रही है। 

मूल चित्र : Pexels





पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

टिप्पणी

About the Author

Guest Blogger

Guest Bloggers are those who want to share their ideas/experiences, but do not have a profile here. Write to us at [email protected] if you have a special situation (for e.g. want read more...

12 Posts | 61,452 Views
All Categories