Guest Blogger

Guest Bloggers are writers who occasionally share their interesting ideas and points of view with Women's Web readers. If you don't blog regularly, but want to write on a particular topic of interest to women, do get in touch with us at community AT womensweb DOT in

Voice of Guest Blogger

मैं ब्राह्मण की बेटी हूँ जिसने SC में शादी की और मुझे इस बात का कोई पछतावा नहीं

मैं ब्राह्मण परिवार से हूँ और मैंने एक अनुसूचित जाती के जने से शादी की है और ये बात हमारे समाज में आज भी बहुत बड़ी बात है #noregrets 

टिप्पणी देखें ( 0 )
menstrual cup
मेंस्ट्रुअल कप का उपयोग – इस नए विकल्प से जुड़े सवाल और जवाब

मेंस्ट्रुअल कप, एक नया विकल्प! मेंस्ट्रुअल कप का उपयोग : "अगर टॉयलेट न हो तो?" और अन्य सवाल जिनके जवाब आप हमेशा से जानना चाहती थी!

टिप्पणी देखें ( 0 )
आज फिर जीने की तमन्ना है, आज फिर मरने का इरादा…बिल्कुल नहीं !

WHO के अनुसार, हर साल लगभग एक लाख लोग आत्महत्या के कारण मरते हैं। यह आत्महत्या के प्रयास करने के बावजूद, एक खुशहाल जीवन जीने की कहानी है।

टिप्पणी देखें ( 0 )
ख़ूबसूरत या ख़ूबसीरत? कोई मेरी सूरत पसंद न करे चलता है, मैं ख़ुद को कमतर मानूं, खलता है!

ख़ूबसूरती चेहरों में नहीं होती, वो तो दिलों से निकली ज्योति। ब्यूटी इंडस्ट्री ने ख़ूबसूरती को फ़क़त ३६-२६-३६ बता, औरतों को बार्बी डॉल सा बना दिया - कमला भसीन 

टिप्पणी देखें ( 0 )
दुनिया का सबसे बड़ा युद्ध – महिलाओं और लड़कियों पर होने वाली हिंसा : कमला भसीन

दुनिया का सबसे बड़ा युद्ध है महिलाओं और लड़कियों पर होने वाली हिंसा। हमारे समाज में घर में होनी वाली हिंसा सामने नहीं आती, कहती हैं कमला भसीन। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
‘पितृसत्ता के अंतिम संस्कार का समय आ पहुँचा है’-कमला भसीन

दुर्भाग्यवश हमारे परिवार और धर्म जिन्हें समानता और न्याय के पक्ष में खड़ा होने चाहिए था, वे ही पितृसत्ता के सबसे बड़े हिमायती और शालाएं या मदरसे बने बैठे हैं। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
‘मेरे नारीवाद’, इसलिए क्योंकि कमला भसीन की नज़र में एक नहीं, अनेक हैं नारीवाद

कमला भसीन के नारीवाद का मक़सद है सब की बराबरी, सब की आज़ादी, इसीलिए इस नारीवाद में हैं ट्रांसजेंडर और मर्द, हम महसूस करते हैं सब जेंडर्स और सेक्सेस के दर्द।

टिप्पणी देखें ( 0 )
कर्तव्य कर्मा का मिशन-महिला सशक्तिकरण

कर्तव्य कर्मा संस्था से जुड़ी हुई महिलाओं को सिर उठाकर समाज में जीने का हक हासिल हुआ है। वो स्वावलंबी हुई और उनको अपनी पहचान बनाने का मौका भी मिला।

टिप्पणी देखें ( 0 )

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?