कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

हिंदी मेरी मातृभाषा – मेरी शान, मेरी आन

Posted: September 16, 2019

बोलने में हिंदी होता है ख़ुद पे गर्व, सीखने में हिंदी करती हूं फक्र। हिंदी मेरी है संस्कृति, हिंदी मेरी है विरासत। हिंदी है मेरी आन, हिंदी है मेरी शान।

हिंदी है मेरी मातृभाषा,
हिंदी है मेरी राष्ट्रभाषा।

हिंदी है मेरी आन,
हिंदी है मेरी शान।

बोलने में हिंदी होता है ख़ुद पे गर्व,
सीखने में हिंदी करती हूं फक्र।

हिंदी मेरी है संस्कृति,
हिंदी मेरी है विरासत।

देती हूं सभी भाषाओं को सम्मान,
परन्तु हिंदी है मेरी जान।

शब्दों के मेल से बनते हैं वाक्य,
हिंदी भाष्य से ही सजते हैं काव्य।

सुनना मधुर तान और हिंदी का ज्ञान,
बढ़ जाता कई गुना हिंदी का मान।

लेती हूँ शपथ आज,
देकर महत्व हिंदी को करती रहूंगी नाज़

प्रतिवर्ष हैं मानती मैं हिंदी-दिवस,
करती हूँ इसके ज्ञान का एहसास।

हिंदी है सदियों की धरोहर,
नहीं है थमना सिर्फ एक दिन मनाकर।

हिंदी सीखूं और सिखाऊं हिंदी,
हिंदी पढूं और पढ़ाऊँ हिंदी।

गर्व से कहूं कि मुझे आती है हिंदी,
फक्र से कहूं कि मुझे भाती है हिंदी।

मूल चित्र : Canva

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Online Safety For Women - इंटरनेट पर सुरक्षा का अधिकार (in Hindi)

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?