कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

क्यूं बेवजह, बेहिसाब इल्ज़ाम सहती हो? नारी क्यूं तुम ऐसा करती हो?

Posted: नवम्बर 7, 2019

अपना सब कुछ छोड़ने के बावजूद उसे दो मीठे बोल भी नहीं मिल पाते, अपने सपनों, अपनी सब इच्छाओं को खुशी-खुशी त्यागने के लिये वह तैयार हो जाती है। आखिर क्यूँ?

लोग बोलते हैं नारी को समझना मुश्किल है। उनके स्वभाव को, उनकी सोच को कोई नहीं समझ सकता। लेकिन हकीकत तो ये है कि नारी का स्वभाव और उनके मन जैसा सरल कुछ है ही नहीं और उनकी इस सरलता को कोई समझना ही नहीं चाहता। यहां तक कि एक औरत भी नहीं। कई मर्तबा औरत ही औरत की दुश्ममन बन जाती है।

बेटियों की परवरिश आखिर क्यूं इस ढंग से की जाती है कि बेटी ऐसा मत करो, वैसा मत करो, तुम धीरे चलो, तुम धीरे हंसो, तुम जोर से मत बोलो, तुम्हें पराये घर जाना है, तुम अन्नाय सहो, तुम हर बार झुको।

आखिर क्यूं?

क्या उन्हें खुलकर हंसने का भी अधिकार नहीं है और इसी परवरिश के साथ वो बड़ी हो कर दूसरे घर चली जाती हैं।

नये सफर के साथ नयी कहानी शुरू हो जाती है। हालात और परिस्थितियां चाहे जैसे भी हों, एक लड़की बहु, पत्नि और मां बन कर सब कुछ सहने लग जाती है। समझौते करने लग जाती है। झुकने लगती है। गलती ना होने पर भी अपने रिश्तों को निभाने के लिये गलती मान लेती है।

अपना सब कुछ छोड़ने के बावजूद उसे दो मीठे बोल भी नहीं मिल पाते। अपने सपनों, अरमानों, अपनी सब इच्छाओं को खुशी-खुशी त्यागने के लिये वह तैयार हो जाती है। इसके बावजूद भी उसे उसका ना वजूद मिलता है और ना ही पहचान। फिर आखिर वो ऐसा क्यूं करती है? ये प्रश्न बार-बार मेरे जहन में उठते रहते हैं।

आखिर क्यूं?

क्या यही नारी का स्वभाव है?

इन्हीं प्रश्नों के आधार पर एक कविता की रचना की है –

नारी आखिर क्यूं तुम ऐसा करती हो?

क्यूं अपने दिल को, बार-बार जलाती हो,

क्यूं अपने मन को, तिल-तिल मारती हो।

चाहे कितना भी बदल लो तुम खुद को,

किसी की सोच को नहीं बदल पाओगी।

तुम बार-बार लगातार झुकती हो,

रिश्ते को अपने जी जान से निभाती हो।

आंखों में भर-भर कर आंसुओं को,

तानों के कड़वे घूंट पी जाती हो।

तन-मन-धन सब कुछ न्यौछावर करती हो,

भाव समर्पण का जिसके प्रति रखती हो।

प्यार के मीठे दो पलों को तरसती हो,

\"\\"\\"\"ये कैसी जिंदगी आखिर तुम जीती हो?

अरमानों और सपनों को अपने कुचलती हो,

अपनी हर इच्छाओं को क्यूं त्यागती हो।

खुशियों की अपने परवाह नहीं करती हो,

फिर भी शिकायतों की शीर्षक बनी रहती हो।

सबको संभालकर खुद क्यूं नहीं संभलती हो,

स्वयं के आत्म-सम्मान को दांव पे लगाती हो।

सही होकर भी स्वयं को ही कोसती हो,

क्यूं बेवजह, बेहिसाब इल्जामों को सहती हो?

नारी आखिर क्यूं तुम ऐसा करती हो?

दोस्तों आपको ये रचना कैसी लगी बताइये ज़रूर, और अगर पसंद आये तो लाइक करिये और मेरी आगे की रचनाओं को पढ़ने के लिये मुझे फाॅलो करिये। सभी पाठकों,और फाॅलोवर्स का मैं तहेदिल से शुक्रिया करती हूं।

मूल चित्र : Unsplash

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

घर के बाहर काम करने से क्या मैं बुरी माँ बन जाऊँगी?

टिप्पणी

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020