कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

Vandana Namdev

Voice of Vandana Namdev

कोरोना वायरस

कोरोना महामारी से सबके हाल बुरे हैं,पूरा विश्व परेशानीओं  का सामना कर रहा है। मगर लोग अपना समय व्यतीत करने क लिए अच्छे  अच्छे विकल्प ढूंढ रहे हैं और आनंद उठा रहे हैं। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
सोलह श्रृंगार करने के लिए तैयार हैं आप?

श्रृंगार को जहां कुछ लोग सौभाग्य वर्धक समझते हैं, वहीं कुछ लोग इसे सौंदर्य वर्धक भी मानते है और इतिहास इसे खुशियों का प्रतीक भी मानता है। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
क्यूं बेवजह, बेहिसाब इल्ज़ाम सहती हो? नारी क्यूं तुम ऐसा करती हो?

अपना सब कुछ छोड़ने के बावजूद उसे दो मीठे बोल भी नहीं मिल पाते, अपने सपनों, अपनी सब इच्छाओं को खुशी-खुशी त्यागने के लिये वह तैयार हो जाती है। आखिर क्यूँ?

टिप्पणी देखें ( 0 )
हिंदी मेरी मातृभाषा – मेरी शान, मेरी आन

बोलने में हिंदी होता है ख़ुद पे गर्व, सीखने में हिंदी करती हूं फक्र। हिंदी मेरी है संस्कृति, हिंदी मेरी है विरासत। हिंदी है मेरी आन, हिंदी है मेरी शान।

टिप्पणी देखें ( 0 )
शिक्षक के पर्याय-बुरे समय से जो हमें उबारे, अच्छे शिक्षक कहलाते हैं वो

मुश्किल राहें होती हैं पर नामुमकिन कुछ भी नहीं होता, सब कुछ न कुछ सिखलाते हैं, बुरे समय से जो हमें उबारे, अच्छे शिक्षक कहलाते हैं वो।

टिप्पणी देखें ( 0 )

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020