शिक्षक के पर्याय-बुरे समय से जो हमें उबारे, अच्छे शिक्षक कहलाते हैं वो

Posted: September 6, 2019

मुश्किल राहें होती हैं पर नामुमकिन कुछ भी नहीं होता, सब कुछ न कुछ सिखलाते हैं, बुरे समय से जो हमें उबारे, अच्छे शिक्षक कहलाते हैं वो।

जीवन की पहली शिक्षिका मेरी मां,
जिसने सांसों के साथ,
जीने का सौभाग्य दिया।
पाक-कला में निपुण किया
ममता, त्याग, स्वाभिमान दिया।

मुश्किल राहें होती हैं पर,
नामुमकिन कुछ भी नहीं होता,
कठिन परिस्थितियों से लड़ना,
ये सिखलाया पापा ने।

ए बी सी डी जोड़-घटाना,
पढ़ना-लिखना और समझना,
विद्यालय के शिक्षक हैं वो,
जिनसे ये सब सीखा हमने।

खुद पर तू रखना विश्वास
जो चाहोगे मिलता है,
हौसलों से ही है जीवन,
ये बतलाया भाई ने।

चेहरे पर मुस्कान है रखना ,
नहीं किसी से गिला है करना,
कर्म बनाती है किस्मत,
सीखा है जीवनसाथी से।

रिश्ते-नाते, संगी-साथी,
सब कुछ न कुछ सिखलाते हैं,
बुरे समय से जो हमें उबारे,
अच्छे शिक्षक कहलाते हैं वो।

मूलचित्र : Unsplash

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

Gaslighting in a relationship: गैसलाइटिंग क्या है?

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?