नारी! है शक्ति की अवतारी अब तू

Posted: August 15, 2019

चल उठ अपनी रक्षक बन, ले ले कवच ढाल हाथों में अब तू, ना कृष्ण कोई तुझे बचाने आएगा अब

बन काली दिखा दे अब तू

विलुप्त हो चुकी है भारतीय संस्कृति अब

इस युग में नारी को पग-पग पर

मानव रुप में दानव मिल रहे हैं अब

कभी चाचा, मामा, ताऊ, फूफा का चोला ओढ़े

चीर हरण उसका कर रहे हैं अब

 

तो कभी दे काम का झांसा

अबलाओं को छल रहे हैं अब

कभी समाज के ठेकेदार बन

मंडप सजा ब्याह रचा

तन-मन उसका घायल कर रहे हैं अब

 

और सीमा ध्वस्त होती उस वक्त

जब साधु-सन्यासी भेष में राक्षस

मासूमों को मसल रहे हैं अब

देगी अग्नि परीक्षा तू कब तक

ना कोई प्रमाण है तुझ पर

ना कोई तेरे दामन का दाग मिटा पाएगा अब

ना ही चीर हृदय को अपने

वसुधा समा लेगी तुझको अब

 

चल उठ अपनी रक्षक बन

ले ले कवच ढाल हाथों में अब तू

ना कृष्ण कोई तुझे बचाने आएगा अब

बन काली  दिखा दे अब तू

है शक्ति की अवतारी अब तू

है शक्ति की अवतारी अब तू

 

मूलचित्र : Pexels 

पसंद आया यह लेख?

पाइये विमेन्सवेब के सारे दिलचस्प हिंदी लेख अपने ईमेल इनबॉक्स मे!

विमेन्सवेब एक खुला मंच है, जो विविध विचारों को प्रकाशित करता है। इस लेख में प्रकट किये गए विचार लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं जो ज़रुरी नहीं की इस मंच की सोच को प्रतिबिम्बित करते हो।यदि आपके संपूरक या भिन्न विचार हों  तो आप भी विमेन्स वेब के लिए लिख सकते हैं।

डिप्रेशन के लक्षण - What is depression, what are the symptoms & self care explained in Hindi

टिप्पणी

अपने विचारों को साझा करें, विनम्रता से (व्यक्तिगत हमला न करें! वेबसाइट के नीची भाग में पूरी टिप्पणी नीति पढ़ें |)

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?