कोरोना वायरस के प्रकोप में, हम औरतें कैसे, इस मुश्किल का सामना करते हुए भी, एक दूसरे का समर्थन कर सकती हैं?  जानने के लिए चेक करें हमारी स्पेशल फीड!

saroj maheshwari

Voice of saroj maheshwari

जीवन में माँ का अहसास…एक नरम, कोमल और मुलायम अहसास…

माँ सिर्फ एक रिश्ता ही नहीं... एक नरम, कोमल, मुलायम सा अहसास है माँ...ये नाम...जैसे उषा की सुनहरी किरण का नाम है माँ..तपती धूप में ठंडी छाया का अहसास है माँ!

टिप्पणी देखें ( 0 )
नारी तेरी महिमा अद्भुत निराली है

एक बीड़ा हम सबको मिल उठाना है,  नारी शक्ति को जगाना है, आत्म विश्वास और आत्म सम्मान उसका बढ़ाना है, अपने अधिकारों हेतु अब उसे लड़ना सीखाना है। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
तब वक़्त कुछ और था, वक़्त कुछ और है अब

इस कविता के माध्यम से सरोज जी ने अपने मन की बात हम सब के साथ साझा की है - तब का वक़्त और आज का वक़्त...जाने उनके इस दृष्टिकोण को!

टिप्पणी देखें ( 0 )
दर्द हो जीवन में, तड़प हो राह में, तो सवाल स्वत: ही उठते हैं

एक बेटी की आवाज़ है ये - अब ले तेरी कोख से जन्म मैं, कोहराम ऐसा मचा दूंगी मैं भारत में, कानून ऐसा सख़्त कि होंगे दंडित बलात्कारी ऐसे कि कानून भी थर्रा जाएगा!

टिप्पणी देखें ( 0 )
नारी तुम क्या हो – कल्पना चावला या दुर्गा, सीता या लक्ष्मीबाई?

बुद्धिमती, कर्मठ प्रयत्नशील नारी शक्ति हो तुम, अंतरिक्ष में उड़ने वाली कल्पना चावला हो तुम - नारी एक, रूप अनेक की परिकल्पना को पूर्ण करती है ये सुंदर कविता।  

टिप्पणी देखें ( 0 )
तब के रावण को तो राम ने मार डाला पर आज के रावण को कौन मारेगा?

पर नारी पर कुदृष्टि का अंजाम बताती यह रामायण हमें आज भी, दानवों की अपावन नज़रों से क्यों त्रसित है सबला आज भी, कैकई रूप में जीवित क्यों विमाता है आज भी?

टिप्पणी देखें ( 0 )
इस नवरात्री दुर्गा का सिर्फ स्मरण काफी नहीं, ज़रुरत है उसके सशक्तिकरण की

कन्या विहीन धरा को तुम कैसे पुष्पित कर पाओगे?फिर कन्याओं का भोग तुम कैसे लगा पाओगे?जब तक असुरक्षित कन्या और नारी हैंतब तक चंद्रघंटा पूजा अधूरी हमारी है

टिप्पणी देखें ( 0 )
अब फूलों सी नाज़ुक नहीं हैं ये बेटियाँ

तीन तलाक का दर्द न सहेंगी अब ये बेटियाँ, दहेज रूपी दैत्य को भी मसल फेंकेंगी अब ये बेटियाँ, अब फूलों सी नाज़ुक नहीं हैं ये बेटियाँ। 

टिप्पणी देखें ( 0 )
नर तू जीवनदात्री बिन पूर्ण नहीं

सम्मान करो उसकावह तो जीवनदात्री हैउड़ने दो उन्मुक्त गगन में उसकोजिसकी वह अधिकारी हैनारी बिन नर का अस्तित्व नहींनर! नारी बिन कभी पूर्ण नहीं

टिप्पणी देखें ( 0 )
नारी! है शक्ति की अवतारी अब तू

चल उठ अपनी रक्षक बन, ले ले कवच ढाल हाथों में अब तू, ना कृष्ण कोई तुझे बचाने आएगा अबबन काली दिखा दे अब तू

टिप्पणी देखें ( 0 )

Women In Corporate Allies 2020

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

Women In Corporate Allies 2020