Maneesha Gautam

Voice of Maneesha Gautam

दोनों लड़कियाँ! ओह! ऑपरेशन तो नहीं करवाया ना

जिन्हें हमारी चिता की अग्नि की चिंता है तो वो भी हमारी बेटियां कर लेंगी। केवल दो बेटियों के परिवारों को परेशान करना छोड़ दिजिए।

टिप्पणी देखें ( 0 )
घर के सूरज में खिलता मेरा सनफ्लावर

"अच्छा, यदि एकादशी का उपवास ना रख पाए तेरी बहु, तो भी अच्छी रहेगी क्या?" प्रभात ने माँ की आँखों में झाँकते हुए कहा।

टिप्पणी देखें ( 0 )
बंद होते स्पंदन और मेरा ये संघर्ष

सिगरेट का धुआँ मेरे फेफड़ों में पूरी तरह से भर गया है। क्या सिगरेट पीने वाले हर इंसान के साथ यही होता है? यदि हाँ, तो सिगरेट क्यों पीते हैं?

टिप्पणी देखें ( 0 )

अपना ईमेल पता दर्ज करें - हर हफ्ते हम आपको दिलचस्प लेख भेजेंगे!

क्या आपको भी चाय पसंद है ?